नौकरी करते हुए साइड में चला रहा था हैकिंग फर्म, भनक लगते ही कंपनी ने ​कर दिया बाहर

By yourstory हिन्दी
November 08, 2022, Updated on : Wed Nov 09 2022 03:54:11 GMT+0000
नौकरी करते हुए साइड में चला रहा था हैकिंग फर्म, भनक लगते ही कंपनी ने ​कर दिया बाहर
इंडियन बिग फोर फर्म्स- ईवाई, Deloitte, पीडब्ल्यूसी और केपीएमजी हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Deloitte India ने अपने एक ऐसे कर्मचारी को काम से निकाल दिया है, जो कथित तौर पर एक हैकिंग फर्म चला रहा था. इकनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि संडे टाइम्स और ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म ने एक स्टिंग ऑपरेशन किया, जिसके बारे में कहा जाता है कि इसने भारत-बेस्ड ऐसे हैकिंग समूहों का पर्दाफाश किया है, जो विश्व स्तर पर वीआईपी को टार्गेट कर रहे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, Deloitte की साइबर यूनिट के एसोसिएट डायरेक्टर आदित्य जैन हैकिंग फर्म व्हाइटइंट चला रहे थे.


Deloitte के प्रवक्ता ने कहा, “हम हाल की मीडिया रिपोर्टों से अवगत हैं, जिसमें एक व्यक्ति के बारे में गंभीर आरोप लगाए गए हैं जो Deloitte India के लिए काम करता था. यह व्यक्ति अब Deloitte India के लिए काम नहीं करता है.

फरवरी 2022 में जैन ने जॉइन की थी Deloitte

इस साल की शुरुआत में अंडरकवर पत्रकारों ने पूर्व खुफिया अधिकारियों ने हैकर्स की तलाश में भारत की यात्रा की. ये हैकर्स वे थे, जो उन्हें प्रमुख हस्तियों के ईमेल और कंप्यूटर से संवेदनशील जानकारी प्राप्त करा सकते थे. जैन, जिन्हें अंडरकवर पत्रकारों से बात करते हुए उद्धृत किया गया था, फरवरी 2022 में Deloitte में शामिल हुए थे. इससे पहले मार्च 2021 तक वह एक अन्य बिग फोर फर्म की साइबर इकाई के साथ कार्यरत थे. कहा जाता है कि हैकिंग फर्म के डेटाबेस में पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति मुशर्रफ, स्विस राष्ट्रपति इग्नाज़ियो कैसिस, ब्रिटेन के पूर्व चांसलर फिलिप हैमंड और पाकिस्तान के पूर्व मंत्री फवाद चौधरी आदि से संबंधित गोपनीय जानकारी भी थी.

कौन सी हैं इंडियन बिग फोर फर्म्स

इंडियन बिग फोर फर्म्स- ईवाई, Deloitte, पीडब्ल्यूसी और केपीएमजी हैं. इन कंपनियों में लार्ज साइबर सिक्योरिटी प्रैक्टिसेज हैं. यह पिछले कुछ वर्षों में उनके सबसे तेजी से बढ़ते व्यवसायों में से एक रहा है, खासकर महामारी के दौरान जब वर्क फ्रॉम होम (डब्ल्यूएफएच) एक बड़ा ट्रेंड बन गया. यह देखते हुए कि साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ कम हैं, कंपनियां प्रॉजेक्ट्स को पूरा करने के लिए टैलेंट को सोर्स करने के लिए संघर्ष कर रही हैं. कुछ कंपनियां कुछ विश्वसनीय फर्मों और व्यक्तियों को काम आउटसोर्स करती हैं.



Edited by Ritika Singh