रत्न एवं आभूषण क्षेत्र के इस वर्ष 40 बिलियन डॉलर का लक्ष्य हासिल करने की उम्मीद: पीयूष गोयल

By रविकांत पारीक
February 19, 2022, Updated on : Sat Feb 19 2022 06:54:00 GMT+0000
रत्न एवं आभूषण क्षेत्र के इस वर्ष 40 बिलियन डॉलर का लक्ष्य हासिल करने की उम्मीद: पीयूष गोयल
केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि रत्न एवं आभूषण क्षेत्र के इस वर्ष 40 बिलियन डॉलर का लक्ष्य अर्जित कर लेने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि इस सेक्टर के कोविड से पहले के स्तर की तुलना में 6.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करने की संभावना है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, कपड़ा, उपभोक्ता मामले तथा खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि रत्न एवं आभूषण क्षेत्र के इस वर्ष 40 बिलियन डॉलर का लक्ष्य अर्जित कर लेने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि इस सेक्टर के कोविड से पहले के स्तर की तुलना में 6.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करने की संभावना है।


केंद्रीय मंत्री रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद (GJEPC) द्वारा आयोजित भारत अंतरराष्ट्रीय आभूषण शो (IIJS) सिग्नेचर 2022 के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे।


पीयूष गोयल ने कहा कि रत्न एवं आभूषण सेक्टर भारतीय अर्थव्यवस्था का एक मजबूत स्तंभ है।

Gems & Jewellery sector

सांकेतिक चित्र

गोयल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये अपने संबोधन में कहा कि हमारे सोने एवं हीरे का व्यापार जीडीपी में लगभग 7 प्रतिशत का योगदान देता है तथा 50 लाख से अधिक लोगों को रोजगार उपलब्ध कराता है। इस वर्ष जनवरी तक इसका निर्यात पहले ही 32 बिलियन डॉलर तक पहुंच चुका है।


गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत अपने रत्न एवं आभूषण क्षेत्र को आत्मनिर्भर बनाना चाहता है और सरकार ने रत्न एवं आभूषण सेक्टर को निर्यात संवर्धन के लिए फोकस सेक्टर के रूप में घोषित किया है।


पीयूष गोयल ने कहा कि बजट 2022 ने वैश्विक रत्न एवं आभूषण व्यापार में भारत की उपस्थिति को बढ़ाने तथा विस्तारित करने का रास्ता प्रशस्त कर दिया है:


  • तराशे तथा पॉलिश किए गए हीरों पर आयात शुल्क को 7 प्रतिशत से घटा कर 5 प्रतिशत पर ले आया गया
  • मार्च 2023 तक MSMEs के लिए आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम (ECLGS) का विस्तार (रत्न एवं आभूषण व्यापार में 90 प्रतिशत से अधिक इकाइयां MSMEs हैं)
  • स्वर्ण आयात के लिए बैंक गारंटी के स्थान पर व्यक्तिगत श्योरिटी बौंड की स्वीकृति
  • एक नई SEZ व्यवस्था के साथ SEZ अधिनियम का प्रतिस्थापन
  • अगले कुछ महीनों में ई-कॉमर्स के लिए सरल नियामकीय संरचना ई-कॉमर्स के जरिये रत्न एवं आभूषण निर्यात को सुगम बनाएगी और सुनिश्चित करेगी कि छोटे रिटेलर अपने उत्पादों को विदेशों में निर्यात कर सकें।


गोयल ने कहा कि रत्न एवं आभूषण सेक्टर मेक इन इंडिया तथा ब्रांड इंडिया का एक प्रमुख उदाहरण है।


उन्होंने कहा, "मैं यह जान कर प्रसन्न हूं कि वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की सहायता से GJEPC रत्न एवं आभूषण उत्पादों की उत्पादकता एवं गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए सामान्य सुविधा केंद्रों (CFC) की स्थापना करता रहा है। ये CFC अमरेली, पालनपुर, जूनागढ़, विसनगर, कोयंबटूर, कोलकाता, हैदराबाद एवं राजकोट में प्रचालनगत हैं। यह दुनिया के लिए मेक इन इंडिया के लक्ष्य को साकार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे"।


गोयल ने रत्न एवं आभूषण उद्योग को घरेलू उत्पादन तथा विदेशें में बिक्री के बड़े और साहासिक लक्ष्यों को लेकर वैश्विक चैंपियन बनने का लक्ष्‍य रखने के लिए प्रोत्साहित किया।


भारत-यूएई व्यापक आर्थिक साझीदारी समझौते को संदर्भित करते हुए उन्होंने कहा, "आज की शाम इस सेक्टर द्वारा समारोह मनाने का एक अन्य कारण भी होगा। यह एक ऐसा उपहार होगा जो आने वाले कई दशकों के लिए इस क्षेत्र का त्वरित विकास सुनिश्चित करेगा।" 


गोयल ने कहा कि IIJS सिग्नेचर भारतीय आभूषण सेक्टर का सिग्नेचर समारोह बन गया है तथा यह पूरी दुनिया में भारत के कौशल का प्रदर्शन करता है।


IIJS सिग्नेचर 2022 प्रदर्शनी के दौरान 1,450 से अधिक बूथों में लगभग 850 प्रदर्शकों ने अपने उत्पादों को प्रदर्शित किया है। इस प्रदर्शनी ने 400 से अधिक अंतरराष्ट्रीय आगंतुकों, खरीदारों और अमेरिका, यूएई, मिस्र, नेपाल तथा उजबेकिस्तान से शिष्टमंडलों सहित 14,000 से अधिक पहले से पंजीकृत आगंतुकों को आकर्षित किया है।


गोयल ने कहा कि IIJS सिग्नेचर इस कैलेंडर वर्ष की एक महत्वपूर्ण आभूषण प्रदर्शनी है जो दुनिया भर के रत्न एवं आभूषण के खुदरा विक्रेताओं तथा थोक विक्रेताओं की सोर्सिंग आवश्यकताओं की पूर्ति करती है।


उन्होंने कहा, "कोविड-19 के कारण उत्पन्न बाधाओं के बावजूद, GJEPC ने संकट को एक अवसर के रूप में रूपांतरित करने के लिए अपनी उद्यमशीलता की भावना का उपयोग किया है। जीजेईपीसी ने क्रेता-विक्रेता बैठकों, ई-इंटरनेशनल रत्न एवं आभूषण प्रदर्शनी, इंडिया ग्लोबल कनेक्ट, वेबीनार आदि जैसे वर्चुअल व्यापारिक समारोहों का आयोजन किया है।"


पीयूष गोयल ने कहा कि इन पहलों से उद्योग को तेजी से वापसी करने में मदद मिली है और घरेलू बिक्री तथा निर्यात दोनों को ही बढ़ावा मिला है।