भारत में 92% क्रिप्टो विज्ञापन उल्लंघनों के लिए जिम्मेदार हैं इन्फ्लुएंसर: रिपोर्ट

By रविकांत पारीक
June 30, 2022, Updated on : Thu Jun 30 2022 16:38:24 GMT+0000
भारत में 92% क्रिप्टो विज्ञापन उल्लंघनों के लिए जिम्मेदार हैं इन्फ्लुएंसर: रिपोर्ट
ASCI के पास सेलेब्रिटी या इन्फ्लुएंसर्स को विज्ञापनों में प्रदर्शित होने से प्रतिबंधित करने का अधिकार नहीं है, लेकिन उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए इसके दिशानिर्देशों को ब्लूप्रिंट माना जाता है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

विज्ञापन की दुनिया की वॉलेंटरी सेल्फ-रेग्यूलेटरी ऑर्गेनाइजेशन, एडवरटाइजिंग स्टैंडर्ड्स काउंसिल ऑफ इंडिया (Advertising Standards Council of India - ASCI) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, जनवरी 2022 से मई 2022 के बीच भारत में क्रिप्टो-संबंधित विज्ञापन उल्लंघनों के 92 फीसदी से अधिक के पीछे मशहूर हस्तियों के बजाय इन्फ्लुएंसर (Influencers) थे.


एड-काउंसिल की सीईओ मनीषा कपूर ने CoinDesk को बताया, "हमें अब तक (जनवरी 2022 से मई 2022 तक) वर्चुअल डिजिटल एसेट्स से संबंधित कुल 453 विज्ञापन शिकायतें मिली हैं. उनमें से, 447 इन्फ्लुएंसर्स से जुड़ी हैं. हमने जिन 453 विज्ञापनों की जांच की, उनमें से 419 में संशोधन की आवश्यकता थी. इनके बारे में इन्फ्लुएंसर्स को सूचना दे दी गई है."


भारत में, बॉक्स ऑफिस के फिल्मी सितारों और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों को मशहूर हस्तियों के रूप में देखा जाता है, जबकि YouTube चैनलों पर प्रसारण करने वाले या इंस्टाग्राम के माध्यम से काफी फॉलोवर्स तक पहुंचने वालों को इन्फ्लुएंसर्स माना जाता है.


ASCI ने कहा कि "अधिकांश इन्फ्लुएंसर विज्ञापन ASCI के प्रभावशाली दिशानिर्देशों और विज्ञापन में क्रिप्टो दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने वाले थे." कुछ विज्ञापन अभी भी कानून का पालन करने के लिए बदले जा रहे हैं लेकिन इस समय ऑलओवर कंपलायंस रेट 77% है.


हाल ही में, अमिताभ बच्चन, रणवीर सिंह और सलमान खान सहित भारत के कुछ सबसे बड़े फिल्मी सितारे, भारत के सबसे ज्यादा देखे जाने वाले कार्यक्रमों जैसे इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) के दौरान प्रचार या विज्ञापनों के माध्यम से क्रिप्टो एक्सचेंजों से जुड़े हैं.


पिछले साल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्रिप्टो के बारे में एक सरकारी बैठक का नेतृत्व किया जिसमें एक रिपोर्ट के अनुसार "युवाओं को अति-आशाजनक और गैर-पारदर्शी विज्ञापन के माध्यम से गुमराह करने के प्रयासों" को रोकने के लिए एक आम सहमति बनी थी.


ASCI ने पहले कहा था कि वह क्रिप्टो विज्ञापनों पर अपने दिशानिर्देशों को बदलने पर चर्चा नहीं कर रहा था, बल्कि एक महत्वपूर्ण स्टैकहोल्डर के रूप में अपनी स्थिति को स्पष्ट कर रहा था, भारत के बाजार नियामक, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) से क्रिप्टो प्रोडक्ट्स का समर्थन करने वाली भारतीय हस्तियों के सुझाए गए प्रतिबंध पर.


फरवरी में, ASCI ने क्रिप्टो या वर्चुअल डिजिटल एसेट से संबंधित विज्ञापनों के लिए अपने दिशानिर्देश जारी किए जो अप्रैल में लागू हुए. हालाँकि, इन्फ्लुएंसर्स के लिए ASCI के दिशानिर्देश पिछले साल के जून में पहले लागू हुए थे.


कपूर ने कहा, "जब हम ASCI कोड का उल्लंघन करने वाले इन्फ्लुएंसर्स के विज्ञापनों की जांच करते हैं, जो आवश्यक डिस्क्लेमर या पेड पार्टनरशिप टैग नहीं रखते हैं. हम इन्फ्लुएंसर से संपर्क करते हैं और उन्हें उल्लंघन के बारे में सूचित करते हैं. इसके बाद उन्हें विज्ञापन के साथ उचित डिस्क्लेमर चलाना होता है."


ASCI के पास सेलेब्रिटी या इन्फ्लुएंसर्स को विज्ञापनों में प्रदर्शित होने से प्रतिबंधित करने का अधिकार नहीं है, लेकिन उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए इसके दिशानिर्देशों को ब्लूप्रिंट माना जाता है.


ऐसे मामलों में जहां ब्रांड या इन्फ्लुएंसर आपत्तिजनक पाए जाने वाले विज्ञापन करते हैं या उन्हें वापस नहीं लेते हैं, ASCI मामले को सरकारी नियामकों के पास ले जाता है.


इसके अतिरिक्त, उल्लंघन के मामले में, मानक निकाय उन लोगों के नाम प्रकाशित करता है जिन्होंने दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया है.