सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार में तगड़ा उछाल, सेंसेक्स 760 अंकों की बढ़त के साथ बंद

By Ritika Singh
July 18, 2022, Updated on : Mon Jul 18 2022 12:36:45 GMT+0000
सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार में तगड़ा उछाल, सेंसेक्स 760 अंकों की बढ़त के साथ बंद
शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों (FII) की बिकवाली जारी है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

शेयर बाजार (Share Market) में सोमवार को लगातार दूसरे कारोबारी सत्र में तेजी रही. सप्ताह के पहले दिन बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) और एनएसई निफ्टी (NSE Nifty) में तेज उछाल देखने को मिला. दोनों सूचकांक एक प्रतिशत से अधिक मजबूत हुए. वैश्विक बाजारों में तेजी के बीच आईटी, तेल और गैस व बैंकिंग शेयरों में लिवाली से घरेलू बाजार में तेजी आई. तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 760.37 अंकों की तेजी के साथ 54,521.15 पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह 54,556.66 के उच्च स्तर और 54,034.97 के निचले स्तर तक गया था.


सेंसेक्स के शेयरों में इंडसइंड बैंक, इन्फोसिस, टेक महिंद्रा, बजाज फिनसर्व, एक्सिस बैंक, अल्ट्राटेक सीमेंट, कोटक महिंद्रा बैंक और आईसीआईसीआई बैंक प्रमुख रूप से लाभ में रहे. इंडसइंड बैंक और इन्फोसिस के शेयरों में 4 प्रतिशत से ज्यादा की तेजी आई. दूसरी तरफ नुकसान में रहने वाले शेयरों में डॉ. रेड्डीज लैब, एचडीएफसी बैंक, मारुति, महिंद्रा एंड महिंद्रा, नेस्ले, हिंदुस्तान यूनिलीवर और एचडीएफसी शामिल हैं.

Nifty50 की स्थिति

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 229.30 अंक मजबूत होकर 16,278.50 पर बंद हुआ. निफ्टी पर एफएमसीजी, फार्मा, हेल्थकेयर इंडेक्स को छोड़कर अन्य सभी सेक्टोरल इंडेक्स हरे निशान में बंद हुए हैं. आईटी शेयरों में सबसे ज्यादा 3.17 प्रतिशत की तेजी दर्ज की गई.

वैश्विक बाजारों का हाल

एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, चीन का शंघाई कंपोजिट सूचकांक और हांगकांग का हैंगसेंग उल्लेखनीय रूप से लाभ में रहे. यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरुआती कारोबार में तेजी का रुख रहा. अमेरिकी बाजार शुक्रवार को बढ़त के साथ बंद हुआ था. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों (FII) की बिकवाली जारी है. उन्होंने शुक्रवार को 1,649.36 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे. इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 2.18 फीसदी उछलकर 103.4 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया.