मिलें बिहार बोर्ड में 10वीं की टॉपर पूजा कुमारी से, भविष्य को लेकर सपने हैं बड़े

बिहार बोर्ड में इस बार 10वीं की टॉपर हैं पूजा कुमारी, नक्सल प्रभावित इलाके से निकली है ये मेधा
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

"राज्य के शिक्षा मंत्री विजय कुमार ने इस बार प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये घोषणा ना करते हुए डिजिटल तरह से आधिकारिक लिंक पर क्लिक करते हुए रिजल्ट जारी किया है, साथ ही इस दौरान टॉपर्स के नामों की सूची भी जारी की गई थी।"

बिहार विद्यालय परीक्षा बोर्ड (BSEB) के 10वीं के रिजल्ट की घोषणा हो चुकी है और इस बार परीक्षा में बैठे 16 लाख छात्रों को पीछे छोड़ते हुए पूजा कुमारी ने टॉप किया है। पूजा कुमारी ने बोर्ड परीक्षा में 500 में से 484 अंक अर्जित किए हैं, मतलब उन्हे कुल 96.8 फीसदी अंक हासिल हुए हैं।


बिहार के मोतिहारी की रहने वाली पूजा ने धरहरी ब्लॉक के सिमुलतला आवासीय विद्यालय से शिक्षा ग्रहण करते हुए 10वीं की बोर्ड परीक्षा दी थी। गौरतलब है कि पूजा जिस इलाके से आती हैं वह क्षेत्र नक्सल प्रभावित माना जाता है। रिजल्ट आने के बाद परिवार में बेहद खुशी का माहौल है और क्षेत्र में मिठाइयाँ भी बांटी जा रही हैं।


आपको बता दें, कि राज्य के शिक्षा मंत्री विजय कुमार ने इस बार प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये घोषणा ना करते हुए डिजिटल तरह से आधिकारिक लिंक पर क्लिक करते हुए रिजल्ट जारी किया है, साथ ही इस दौरान टॉपर्स के नामों की सूची भी जारी की गई थी।

(चित्र: The Quint)

(चित्र: The Quint)

लगन से मिला रिजल्ट

पूजा कुमारी के अनुसार उन्होने परीक्षा के लिए खुद को तैयार करने के लिए हर दिन 6 से 7 घंटे तक पढ़ाई की है, इसी के साथ किसी भी तरह की शंका को लेकर वो अपने अध्यापकों से लगातार संपर्क में रही हैं और इसी से उन्हे परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने का भरोसा मिला है।


बोर्ड परीक्षा में टॉप करने को लेकर पूजा कुमारी का कहना है कि इस रिजल्ट के बाद अब वो बिल्कुल भी नर्वस नहीं है। पूजा के परिवार में उनके अलावा उनके माता-पिता, उनकी बड़ी बहन और एक छोटा भाई है।

कोरोना के चलते पढ़ाई हुई प्रभावित

कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन ने शिक्षा व्यवस्था को भी बुरी तरह प्रभावित किया है और इसका प्रभाव पूजा कुमारी की तैयारी पर भी पड़ा है। पूजा बताती हैं कि जब लॉकडाउन की शुरुआत हुई तब थोड़ी मुश्किल हुई थी क्योंकि पढ़ाई का क्रम थोड़ा बिगड़ गया था, हालांकि इसके बाद पूजा ने ऑनलाइन क्लास के जरिये खुद की पढ़ाई को वापस पटरी पर लाने का काम किया।


इस दौरान पूजा ने ट्यूशन के जरिये भी अपनी तैयारियों को धार दी। पूजा बताती है कि इस दौरान उन्हे उनके माता-पिता का भरपूर समर्थन मिला, जिससे उन्हे बोर्ड परीक्षा की तैयारी करने में और अधिक सहूलियत मिल सकी। पूजा की माँ जहां हाउसवाइफ हैं, वहीं उनके पिता एक सरकारी शिक्षक है। पूजा के अनुसार उन्हे आगे बढ़ने की प्रेरणा उनके माता-पिता और शिक्षकों से मिलती है। 10 की परीक्षा में प्रदेश टॉप कर पूरे देश में अपनी मेधा का लोहा मनवाने वाली पूजा कुमारी अपने भविष्य को लेकर स्पष्ट हैं। वो आगे नीट की परीक्षा को पास कर डॉक्टर बनना चाहती हैं।

तीन छात्रों ने किया है टॉप

बिहार बोर्ड का इस बार का दसवीं का रिजल्ट पिछली बार के मुक़ाबले कम रहा है। पिछले साल य रिजल्ट जहां 80.59 फीसदी था, वहीं इस बार यह रिजल्ट 78.17 फीसदी रहा है। हालांकि पूजा के साथ दो अन्य छात्रों ने भी इस बार टॉप किया है।


एक टॉपर शुभदर्शनी पूजा की ही सहपाठी है, जबकि अन्य टॉपर संदीप कुमार हैं, जो रोहतास के बलदेव हाई स्कूल के छात्र हैं। मालूम हो कि इस बार शीर्ष 10 रैंक में कुल 101 छात्र शामिल हैं।


Edited by Ranjana Tripathi