इस 10 साल की लड़की ने तबला वादन में बनाया रिकॉर्ड, अब करना चाहती हैं संगीत थेरेपी का अभ्यास

By शोभित शील
February 24, 2022, Updated on : Thu Feb 24 2022 06:48:47 GMT+0000
इस 10 साल की लड़की ने तबला वादन में बनाया रिकॉर्ड, अब करना चाहती हैं संगीत थेरेपी का अभ्यास
पांचवीं कक्षा की छात्रा पार्वती उन्नीकृष्णन ने अपना यह समय तबला बजाने के कौशल को और बेहतर करने में बिताया है और उसने परिणाम ने फिलहाल उन्हें हर तरफ चर्चित कर दिया है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कोरोना महामारी के चलते लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान देश भर में बच्चों को घर से ऑनलाइन माध्यम में पढ़ाई के लिए मजबूर होना पड़ा है और ऐसे में बच्चों को घर पर अधिक समय भी मिला है। इस समय को कई बच्चों ने मस्ती में बिताया, जबकि कई बच्चों ने इस समय का उपयोग नए कौशल को सीखने और उसे निखारने के लिए किया है।


एरोर स्थित भवन विद्या मंदिर में पढ़ने वाली पांचवीं कक्षा की छात्रा पार्वती उन्नीकृष्णन ने अपना यह समय तबला बजाने के कौशल को और बेहतर करने में बिताया है और उसने परिणाम ने फिलहाल उन्हें हर तरफ चर्चित कर दिया है।


पार्वती के लिए तबला वादन को लेकर उनका जुनून कुछ इस कदर बढ़ा कि उन्होंने अलग-अलग लय लेकर अब तक सबसे लंबे समय तक तबला बजाने को लेकर इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में अपना स्थान दर्ज़ करवा लिया है।

7 साल की उम्र से बजा रही हैं तबला

तबला बजाने के अपने कौशल को लेकर आज हर तरफ चर्चा बटोर रहीं पार्वती ने यूं तो तबला वादन महज 7 साल की उम्र से शुरू कर दिया था और इसी साल 19 जनवरी को पार्वती ने अलग-अलग लय में 45 मिनट और 69 सेकंड तक तबला वादन किया है।


द न्यू इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए पार्वती ने बताया है कि वे अपने पिता के तबला के जुनून से प्रेरित थीं और चार साल पहले उन्होंने इसे सीखना शुरू कर दिया था। तबला सिखाने के लिए शिक्षक कलाभवन एम आर श्रीजीत उनके घर आते हैं और इस तरह पार्वती घर पर ही तबला वादन की शिक्षा लेती हैं।


पार्वती के पिता पी उन्नीकृष्णन एक अस्पताल का संचालन करते हैं और उनकी मां अनु के निर्मल धनलक्ष्मी बैंक में शाखा प्रबंधक हैं।

करेंगी संगीत थेरेपी का अभ्यास

हालांकि पार्वती के लिए घर पर तबला सीखना लॉकडाउन के दौरान एक फायदेमंद रहा है। अब पार्वती हिंदुस्तानी संगीत सीखने के साथ ही संगीत थेरेपी का अभ्यास करने करना चाहती हैं ताकि वे मानसिक रूप से बीमार रोगियों को उनके मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकें।


मीडिया के अनुसार, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स के लिए प्रदर्शन करते हुए पार्वती ने पारंपरिक तबला प्रदर्शन के सभी घटकों पर जोर दिया है, जिसमें उत्थान, पेशकर, कायदास और चक्रधर के साथ ही कई जटिल लयबद्ध चक्र शामिल हैं।


तबला वादन के अपने कौशल को और निखारने के लिए पार्वती ने लॉकडाउन के दौरान तबला वादक अनुराधा पाल की एक ऑनलाइन क्लास में भी हिस्सा लिया था।


Edited by Ranjana Tripathi