12वीं पास भी बनेंगे सॉफ्टवेयर इंजीनियर, HCL ने शुरू किया 1 साल का ये कोर्स

By रविकांत पारीक
June 09, 2022, Updated on : Fri Jun 10 2022 05:12:19 GMT+0000
12वीं पास भी बनेंगे सॉफ्टवेयर इंजीनियर, HCL ने शुरू किया 1 साल का ये कोर्स
चयनित उम्मीदवारों को सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए 1 साल की ट्रेनिंग दी जाएगी. ट्रेनिंग पूरी करने पर, उम्मीदवारों को HCL में फुल टाइम जॉब दी जाएगी.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

HCL Technologiesने हाल ही में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में एक नया कोर्स लॉन्च किया है. यह एक साल का कोर्स है. 12वीं पास छात्र भी इस कोर्स को करने के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनकर अपना भविष्य संवार सकते हैं.


दरअसल, महाराष्ट्र सरकार ने HCL Technologies के साथ मिलकर 12वीं पास छात्रों को आईटी सेक्टर में नौकरियां दिलाने के लिए प्रयास किया है. महाराष्ट्र यंग लीडर्स एस्पिरेशन डेवलपमेंट प्रोग्राम (Maharashtra Young Leaders Aspiration Development Programme - MYLAP) के हिस्से के रूप में HCL Technologies का शुरुआती करियर प्रोग्राम TechBee कंपनी में छात्रों को एंट्री-लेवल IT जॉब के लिए तैयार करेगा.

TechBee प्रोग्राम

जिन छात्रों ने 2021 में 12वीं कक्षा पास की है या 2022 में 12वीं या HSC के लिए गणित या बिजनेस गणित की पढ़ाई कर रहे हैं, वे प्रोग्राम के लिए अप्लाई कर सकते हैं. TechBee प्रोग्राम के लिए अप्लाई करने के लिए उन्हें 60 प्रतिशत या उससे अधिक अंक प्राप्त करने होंगे.


चयनित उम्मीदवारों को सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए 1 साल की ट्रेनिंग दी जाएगी. ट्रेनिंग पूरी करने पर, उम्मीदवारों को HCL में फुल टाइम जॉब दी जाएगी.


योग्य उम्मीदवारों को एक ऑनलाइन करियर एप्टीट्यूड टेस्ट (HCL CAT) पास करना होगा, जो क्वांटिटिव रिजनिंग (गणित), लॉजिकल रिजनिंग और अंग्रेजी भाषा आदि में उनकी योग्यता की जांच करता है. टेस्ट पास करने वाले छात्रों को इंटरव्यू या ग्रुप डिस्कशन के लिए बुलाया जाएगा. इसके बाद कंपनी ऑफर लेटर भेजेगी.


ट्रेनिंग प्रोग्राम के लिए चयनित छात्रों को लाइव HCL प्रोजेक्ट्स में इंटर्नशिप के दौरान 10,000 रुपये का स्टाइपंड मिलेगा. जॉब के साथ, उम्मीदवार अपनी आगे की पढ़ाई BITS Pilani, SASTRA University, Amity University से कर सकते हैं.


एक साल का ट्रेनिंग प्रोग्राम पूरा करने पर, छात्र सॉफ्टवेयर इंजीनियर, इंफ्रास्ट्रक्चर मैनेजमेंट, डिजाइन इंजीनियर, या डिजिटल प्रोसेस एसोसिएट के रोल में 1.70-2.20 लाख रुपये प्रति वर्ष कमा सकते हैं. इस ट्रेनिंग प्रोग्राम की फीस लगभग 1,00,000 रुपये है.