संस्करणों

महिलाओं के कपड़ों के 10 हज़ार से ज्यादा डिजाईन,रोज़ाना 100 ऑर्डर पूरा करते ‘बैंगलवाले’

Harish Bisht
26th Oct 2015
  • Share Icon
  • Facebook Icon
  • Twitter Icon
  • LinkedIn Icon
  • Reddit Icon
  • WhatsApp Icon
Share on

2013 में शुरू हुआ www.banglewale.com

बैंगलवाले के पास 10 हजार से ज्यादा डिजाइन

हर दिन 100 ऑर्डर करते हैं पूरे

वेस्टर्न कपड़े और ज्वेलरी भी मिलती है यहां


देश में ऑनलाइन कारोबार साल दर साल तेजी से बढ़ रहा है। ऑनलाइन बाजार में जो चीजें सबसे ज्यादा बिकती हैं उनमें कपड़े भी शामिल है। खास बात ये है कि ऑनलाइन खरीदारी से जहां ग्राहक एक ही जगह पर कई डिजाइन के कपड़े देख सकता है वहीं बिचौलियों के नहीं होने के कारण ग्राहकों को इसमें काफी छूट भी मिलती है। लोगों के इस रूझान को देखते हुए आगरा में रहने वाले अखिल अग्रवाल ने साल 2013 में बैंगलवाले डॉट कॉम की शुरूआत की थी। आज उनकी इस वेबसाइट में महिलाओं के लिए एक से बढ़कर एक एथेनिक ड्रेस और विभिन्न तरह की ज्वेलरी मिल जाएगी।

image


अखिल अग्रवाल ने अहमदाबाद से बिजनेस आंत्रप्रेन्योरशिप में पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन मैनेजमेंट की पढ़ाई की। उनका कहना है कि उनका परिवार सालों से कई तरह के कारोबार कर रहा है। यही वजह थी कि उन्होने भी बचपन से सोच लिया कि वो भी कारोबार के जगत में अपना अलग मुकाम बनाएंगे। पढ़ाई के बाद उन्होने इस सोच पर काम करना शुरू किया। जिसके बाद उन्होंने देखा कि फिरोजाबाद में कांच की चूंडियों का काफी काम होता है तो क्यों न इस काम में हाथ अजमाया जाये। जिसके बाद उन्होने बैंगलवाले डॉट कॉम की स्थापना की।

अखिल अग्रवाल

अखिल अग्रवाल


ऑनलाइन बाजार में कांच की चूडियों को बेचने का काम भले ही नया आइडिया था लेकिन अखिल को जितनी उम्मीद थी वो कारोबार उतना परवान नहीं चढ़ पाया। ऐसे में उन्होंने सोचा कि इस कारोबार के साथ क्यों ना किसी और चीज को भी शामिल कर लिया जाए। उसी दौरान उनको किसी ने सलाह दी की वो महिलाओं के कपड़े बेचने का काम शुरू करें। अखिल को ये आइडिया पसंद आया और उन्होंने अपनी इस वेबसाइट में चूड़ियों के साथ साथ कुछ कपड़ों को बेचने का काम भी शुरू कर दिया। धीरे धीरे उनकी वेबसाइट के जरिये महिलाओं के कपड़ों की मांग बढ़ती गई। जिसके बाद उन्होने इसे गंभीरता से लेना शुरू कर दिया।

image


आज बैंगलवाले डॉट कॉम में महिलाओं के एथेनिक कपड़ों की खास रेंज है। यहां पर विभिन्न डिजाइन और कपड़ों के करीब 10 हजार से ज्यादा विकल्प मौजूद हैं। अखिल का कहना है कि उनकी इस वेबसाइट में किसी भी उत्पाद का एक ही दाम होता है जबकि दूसरी वेबसाइट में एक उत्पाद के कई दाम दिखाये जाते हैं, क्योंकि दूसरी वेबसाइट में एक चीज को कई लोग बेचते हैं लेकिन बेंगलवाले डॉट कॉम में ऐसा नहीं है। अखिल का दावा है कि वो अपने उत्पादों के बारे में ग्राहकों को पारदर्शी और सही दाम बताते हैं। इस वेबसाइट में मिलने वाले एथेनिक कपड़े 1200 रुपये से शुरू होकर 15 हजार रुपये तक मिलते हैं। अब इनकी योजना लहंगे जैसे उत्पाद भी बाजार में उतारने की है जिनकी कीमत 1 लाख रुपये तक के आसपास रहने की उम्मीद है। ग्राहकों को किसी तरह की दिक्कत ना हो इसके लिए ये फोन के जरिये भी उनकी समस्याओं को दूर करते हैं।

image


बैंगलवाले डॉट कॉम में ना सिर्फ महिलाओं के एथेनिक कपड़े बल्कि वेस्टर्न ड्रेस के अलावा कई तरह के आभूषण भी मिल जाएंगे। अखिल का कहना है कि उनकी वेबसाइट में मिलने वाला ज्यादातर सामान सूरत से आता है लेकिन कई उत्पाद दूसरी जगहों से भी मंगाये जाते हैं। आज इनकी वेबसाइट के साथ करीब 10 हजार लोग जुड़ चुके हैं। इनके ग्राहक टीयर 1 और टीयर 2 शहरों से आते हैं। 2013 में अपना कारोबार शुरू करने वाले अखिल के पास जहां पहले शुरूआत में दिन का 1 ऑर्डर भी नहीं आता था वहीं अब ये संख्या 100 तक पहुंच गई है। खास बात ये है कि उनका हर ऑर्डर औसतन 15 सौ से 2 हजार रुपये के बीच का होता है।

image


अखिल का दावा है कि बैंगलवाले डॉट कॉम हर महीने 20 से 30 प्रतिशत की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। हालांकि उनका मानना है कि उनके इनहाउस खर्चे ज्यादा हैं और लॉजिस्टिक कास्ट भी अधिक है। इसके अलावा माल की वापसी उनके लिये बड़ा सिरदर्द है क्योंकि उनकी वेबसाइट के जरिये बेचा जाने वाला करीब 20 प्रतिशत माल अलग अलग वजहों से वापस आ जाता है। फिलहाल बेंगलवाले डॉट कॉम में 3 लोगों की टीम है क्योंकि ये लोग अपना कुछ काम आउटसोर्स भी कराते हैं। निवेश के मामले में अखिल का कहना है कि फिलहाल उनको निवेश की जरूरत नहीं है, क्योंकि उनका ध्यान रिटेल के क्षेत्र मे अपने को और मजबूत करना है, लेकिन साल भर बाद वो इस मामले पर गंभीरता से विचार करेंगे।

image


वेबसाइट :- www.banglewale.com

  • Share Icon
  • Facebook Icon
  • Twitter Icon
  • LinkedIn Icon
  • Reddit Icon
  • WhatsApp Icon
Share on
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories