इस साल देश में इंटरनेट ग्राहकों की संख्या 50 करोड़ के पार होगी

    By योरस्टोरी टीम हिन्दी
    May 05, 2016, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:17:16 GMT+0000
    इस साल देश में इंटरनेट ग्राहकों की संख्या 50 करोड़ के पार होगी
    • +0
      Clap Icon
    Share on
    close
    • +0
      Clap Icon
    Share on
    close
    Share on
    close

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार कोशिशों का नतीजा है कि देश में इंटरनेट ग्राहकों की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है। मोदी लगातार इस बात पर ज़ोर देते रहे हैं कि हमें सोशल नेटवर्किंग साइट्स और ई-कॉमर्स के ज़रिए अपना व्यापार बढ़ाना चाहिए। असर दोनों तरफ हुआ है। जिस तेजी से व्यापारी इंटरनेट से जुड़ रहे हैं उसी तेजी से ग्राहक भी। माइक्रोसॉफ्ट के मालिक बिल गेट्स का मानना है- "अगर आप इंटरनेट से जुड़ कर अपना व्यापार नहीं कर रहे हैं तो इसका सीधा मतलब है कि आप बिजनेस में रुचि नहीं ले रहे हैं।" इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर सरकारें काम कर रही हैं और लोगों को इसके लिए प्रोत्साहित भी कर रही हैं। 


    image


    दूरसंचार मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि देश में इंटरनेट ग्राहकों की संख्या इस साल 50 करोड़ पहुंच सकती है। डिजिटल देश ड्राइव 2.0 की शुरूआत करते हुए प्रसाद ने कहा, 

    "भारत में इंटरनेट उपयोग करने वालों की संख्या बढ़कर करीब 40 करोड़ पहुंच गयी है। अगर हम ट्राई के आंकड़ें को देखे तो यह 33.2 करोड़ के आसपास है। सेवा प्रदाताओं के अनुसार यह संख्या 40.2 करोड़ पहुंच गयी है। 2017 तक इनकी संख्या 50 करोड़ होगी। मुझे लगता है कि यह इसी साल हो सकता है।’’ 

    उन्होंने कहा कि भारत में मोबाइल ग्राहकों की संख्या 100 करोड़ के पार पहुंच गयी है। लोकसभा में उनके द्वारा पेश आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार फरवरी के अंत में जीएसएम प्रौद्योगिकी आधारित मोबाइल ग्राहकों की संख्या 98.2 करोड़ हो गयी जबकि सीडीएमए नेटवर्क पर ग्राहकों की संख्या 4.45 करोड़ थी।

    प्रसाद ने कहा, 

    "आईटी और संचार मंत्री बनने के बाद मुझे वास्तव में एक अलग भारत का अनुभव हुआ। भारत बड़ी डिजिटल क्रांति के मुहाने पर है। भारतीय पहले प्रौद्योगिकी को देखते हैं, उसके बाद प्रौद्योगिकी अपनाते हैं और तब वे उसका लाभ उठाते हैं और इस प्रक्रिया में सशक्त होते हैं।" 

    डिजिटल देश 2.0 व्याख्यात्मक कहानी की पुस्तक है। इसमें लघु भारतीय कंपनियों के बारे में बताया गया है जो अपने कारोबार को नया रूप देने के लिये इंटरनेट का उपयोग कर रही हैं।


    पीटीआई