मिलिए कश्मीर की आयशा अजीज से, 25 साल की उम्र में भारत की सबसे कम उम्र की महिला पायलट

25 वर्षीय अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को देती हैं और अपने पिता को रोल मॉडल मानती हैं।
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कश्मीर की 25 साल की आयशा अजीज देश की सबसे कम उम्र की महिला पायलट बन गई हैं। 2011 में, आयशा अजीज 15 वर्ष की आयु में लाइसेंस प्राप्त करने वाली सबसे कम उम्र की छात्र पायलट बनीं थी। उन्होंने अगले वर्ष रूस के सोकोल एयरबेस में MIG-29 जेट उड़ाने के लिए प्रशिक्षण लिया।


2017 में, आयशा अजीज ने बॉम्बे फ्लाइंग क्लब (BFC) से एविएशन में स्नातक किया और एक कमर्शियल लाइसेंस प्राप्त किया।


समाचार एजेंसी एएनआई को दिए एक इंटरव्यू में, अजीज ने कहा कि उनका मानना ​​है कि कश्मीरी महिलाएं बहुत अच्छा कर रही हैं और पिछले कुछ वर्षों में शिक्षा के क्षेत्र में प्रगति की है।

उन्होंने कहा, "कश्मीर की हर दूसरी महिला पोस्टग्रेजुएशन या डॉक्टरेट कर रही है। घाटी के लोग बहुत अच्छा कर रहे हैं।"

एविएशन में करियर बनाने को लेकर पुछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, "मुझे हवाई यात्रा करना और लोगों से मिलना अच्छा लगता है। इस वजह से मैंने पायलट बनने का निर्णय लिया। पायलट बनने के लिए आपका मानसिक रूप से मजबूत होना बहुत ज़रूरी है।"


आयशा ने एएनआई को बताया, "सामान्य 9-5 डेस्क जॉब कोई निश्चित पैटर्न नहीं है और मुझे लगातार नई जगहों, अलग-अलग तरह के मौसम का सामना करने और नए लोगों से मिलने के लिए तैयार रहना होगा।"


"इस पेशे में, किसी की मानसिक स्थिति बहुत मजबूत होनी चाहिए क्योंकि आप 200 यात्रियों को ले जाएंगे और यह एक बड़ी जिम्मेदारी है," उन्होंने कहा।


25 वर्षीय अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को देती हैं और अपने पिता को रोल मॉडल मानती हैं।


उन्होंने कहा, "मैं बहुत खुशकिस्मत हूं कि मेरे माता-पिता हैं, जिन्होंने मुझे हर चीज में सहयोग दिया है। उनके बिना, मैं इस मुकाम तक नहीं पहुँच पाती, जहां मैं आज हूं। मैं लगातार पेशेवर और व्यक्तिगत स्तर पर विकास की तलाश में हूं। मेरे पिता, मेरे सबसे बड़े रोल मॉडल हैं।"