Udaan: पहले जुटाई 340 मिलियन डॉलर की फंडिंग फिर 100 से अधिक कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

Lightspeed और DST Global समर्थित Udaan ने पिछले हफ्ते यूके के M&G Plc से 340 मिलियन डॉलर की फंडिंग जुटाई थी.

Udaan: पहले जुटाई 340 मिलियन डॉलर की फंडिंग फिर 100 से अधिक कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

Tuesday December 19, 2023,

3 min Read

सीरीज ई फंडिंग में 340 मिलियन डॉलर हासिल करने के कुछ दिनों बाद, बिजनेस-टू-बिजनेस (B2B) मार्केटप्लेस Udaan ने 100-120 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है. ईटी रिटेल ने इसकी जानकारी दी है.

उड़ान के एक प्रवक्ता ने YourStory को दिए एक बयान में इस ख़बर की पुष्टि की है.

प्रवक्ता ने कहा, “पिछले कुछ वर्षों में, हमने एक ठोस और टिकाऊ बिजनेस खड़ा करने के लिए महत्वपूर्ण निवेश किया है. हम लाभदायक विकास के चालक के रूप में दक्षता में विश्वास करते हैं और दक्षता बढ़ाने, कारोबार को लगातार बढ़ाने और ग्राहक अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं.”

उन्होंने आगे कहा, "हमने पहले से ही एक लाभदायक व्यवसाय बनाने की दिशा में अपनी यात्रा में महत्वपूर्ण प्रगति की है और ग्राहक-केंद्रित और चुस्त रहते हुए अपने पहले से ही सिद्ध व्यवसाय मॉडल में प्रासंगिक हस्तक्षेप करना जारी रखा है. हालांकि, इन हस्तक्षेपों के परिणामस्वरूप सिस्टम में कुछ अतिरेक भी हुए हैं."

प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी प्रभावित कर्मचारियों को सभी अपेक्षित सहायता प्रदान करने की दिशा में काम कर रही है, जिसमें चिकित्सा बीमा, कंपनी की नीति के अनुसार मुआवजा पैकेज और प्लेसमेंट सहायता शामिल है.

उन्होंने कहा, "हम किराना कॉमर्स को बढ़ावा देने और ईकॉमर्स की शक्ति का लाभ उठाकर भारत के छोटे और मध्यम व्यवसायों को सशक्त बनाने के अपने लक्ष्य के लिए प्रतिबद्ध हैं."

पिछले साल जून में, उड़ान ने एक बड़े लागत-कटौती उपाय के हिस्से के रूप में लगभग 200 कर्मचारियों, या अपनी वर्कफोर्स के 5% को निकाल दिया.

पिछले सप्ताह, कंपनी ने ताज़ा इक्विटी और मौजूदा ऋण को इक्विटी में परिवर्तित करके 340 मिलियन डॉलर जुटाए. यह विकास चीफ़ टेक्नोलॉजी ऑफिसर (CTO) गौरव भालोटिया के जाने के बाद कंपनी द्वारा अपनी व्यावसायिक इकाइयों के पुनर्गठन के कुछ ही महीने बाद आया है.

2016 में फ्लिपकार्ट के पूर्व अधिकारियों सुजीत कुमार, आमोद मालवीय और वैभव गुप्ता द्वारा स्थापित, उड़ान एक बी2बी ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म है, जिसमें फलों और सब्जियों, इलेक्ट्रॉनिक्स, घरेलू और रसोई की आपूर्ति और लाइफ स्टाइल जैसी श्रेणियों में तीन मिलियन से अधिक खुदरा विक्रेता सूचीबद्ध हैं. उड़ान विक्रेताओं को किराने का सामान और अन्य प्रोडक्ट सप्लाई करता है जो आगे ग्राहकों को बेचते हैं.

कंपनी ने Lightspeed, Tencent Holdings, और DST Global सहित निवेशकों से अब तक 1.5 बिलियन डॉलर (ऋण और इक्विटी) से अधिक जुटाया है.

FY23 में, उड़ान का घाटा साल-दर-साल 33% कम होकर 2,213 करोड़ रुपये हो गया, जबकि ऑपरेशनल रेवेन्यू पिछले वर्ष की तुलना में 43% गिरकर 5,609 करोड़ रुपये हो गया.

(Translated by: रविकांत पारीक)

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors