कुछ इस तरह व्यवसायों के लिए ग्राहकों के डिजिटल व्यक्तित्व का सत्यापन करती है यह कंपनी

डिवाइस, नंबर, यूसेज़ पैटर्न और सरकार द्वारा जारी पहचान जैसे कई मापदंडों का उपयोग करते हुए बेंगलुरु स्थित ब्यूरो नए युग की कंपनियों के लिए संभावित ग्राहकों के डिजिटल व्यक्तित्व (Digital persona) को सामने लाता है।

कुछ इस तरह व्यवसायों के लिए ग्राहकों के डिजिटल व्यक्तित्व का सत्यापन करती है यह कंपनी

Tuesday February 22, 2022,

5 min Read

महामारी के दौरान शुरू हुए पहचान सत्यापन प्लेटफॉर्म Bureauने अपने उत्पाद के लिए कई खरीदार देखे हैं क्योंकि मार्च 2020 से ऑनलाइन लेनदेन में वृद्धि हुई है। बेंगलुरु मुख्यालय वाली कंपनी फिनटेक, गेमिंग, क्रिप्टो और ईकॉमर्स क्षेत्र में डिजिटल-फर्स्ट कंपनियों को पहचान सत्यापन, नियमों के पालन और धोखाधड़ी निवारण सेवाएं प्रदान करती है।

ब्यूरो के संस्थापक और सीईओ रंजन रेड्डी कहते हैं, “फिनटेक, क्रिप्टो, ऑन-डिमांड इकोनॉमी, ये सभी सेक्टर महामारी की चपेट में आने के बाद तेज हो रहे थे। इसने धोखाधड़ी में भी वृद्धि देखी और ये कंपनियां जानना चाहती थीं कि उनके ग्राहक कौन हैं?”

इससे पहले रंजन मोबाइल भुगतान समाधान प्रदाता क्यूबसेल में सह-संस्थापक थे, जिसे 2014 में सैन फ्रांसिस्को मुख्यालय वाली मोबाइल भुगतान कंपनी बोकू इंक द्वारा अधिग्रहित किया गया था।

कुओना कैपिटल, ओक्टा आइडेंटिटी और ब्लूम वेंचर्स द्वारा समर्थित ब्यूरो एक डिजिटल प्लेटफॉर्म पर एक ग्राहक की ऑनबोर्डिंग और अनुपालन यात्रा पर ध्यान केंद्रित करता है। प्रॉडक्ट इस बात की पहचान करता है कि क्या एक नया ग्राहक डिजिटल प्लेटफॉर्म पर साइन इन कर रहा है, यह खुफिया जानकारी प्रदान करता है कि ग्राहक किन मापदंडों पर दूसरों की तुलना में सकारात्मक प्रतिक्रिया दिखाता है और ऑनलाइन सेवा प्रदाता के लिए इन मापदंडों के आधार पर एक नए ग्राहक को ऑनबोर्ड करने के लिए जोखिम की गारंटी प्रदान करता है।

इन पैरामीटर को जांचता है ब्यूरो

एक ग्राहक की साख के सत्यापन पर सरकारी डेटाबेस के साथ काम करने के अलावा ब्यूरो जोखिम का निर्धारण करने के लिए यूजर्स के ऑनलाइन व्यक्तित्व को भी देखता है।

रंजन कहते हैं, "डेटा पर्याप्त नहीं है, क्योंकि वास्तविक जीवन की तरह ही हम सभी के पास भी हमारे डिजिटल व्यक्तित्व हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "पिछले 20 वर्षों में क्रेडिट जोखिम का निर्धारण करने का दृष्टिकोण यह नहीं है कि आने वाले वर्षों में यह नए युग के व्यवसायों के लिए कैसा रहेगा। गैर-क्रेडिट जोखिम बड़े होते जा रहे हैं, जिनमें फ़िशिंग, पहचान की चोरी और अन्य जोखिम शामिल हैं।"

वे कहते हैं कि ऑनलाइन ऑनबोर्डिंग करने वाले किसी भी ग्राहक के लिए शुरुआती बिंदु फोन नंबर है। मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटरों के साथ अपनी साझेदारी के माध्यम से ब्यूरो नंबर के यूजर की पहचान करता है। रंजन कहते हैं कि प्लेटफॉर्म यह सुनिश्चित करता है कि डिवाइस, सिम और फोन नंबर एक ही यूजर को सत्यापित करने के लिए मेल खाते हैं। यह ईमेल आईडी को भी इसी तरह से क्रॉस-वेरिफाई करता है।

ये सभी पैरामीटर प्लेटफ़ॉर्म को यूजर्स के डिजिटल व्यक्तित्व को विकसित करने में मदद करते हैं, जिसकी निगरानी कई उपयोगों में की जाती है, जिसमें उनके डिवाइस का उपयोग करने का तरीका व अन्य चीजें शामिल हैं।

Bureau

कहाँ हो रहा है इस्तेमाल?

ब्यूरो के कुछ ग्राहकों में वित्तीय सेवा कंपनी आदित्य बिड़ला कैपिटल और नियो बैंक जुपिटर शामिल हैं।

इन सेवाओं की पैठ और अपनाने में वृद्धि के साथ साइबर धोखाधड़ी के प्रयास भी बढ़ते हैं। रंजन कहते हैं, ब्यूरो ऑनबोर्डिंग और ट्रांजैक्शन स्तर पर ग्राहक के व्यवहार पर भी नजर रखता है।

रंजन बताते हैं, “एक उदाहरण में हमने देखा कि कुछ घंटों के अंतराल में एक फिनटेक ऐप ने 700 नए खाते बनाए थे और सॉफ्टवेयर ने बताया कि ये असम में स्थित तीन यूनीक उपकरणों के माध्यम से बनाए गए थे। इन सभी खातों ने प्रत्येक खाते से 5000 से 10,000 रुपये के क्रेडिट के लिए आवेदन करना शुरू कर दिया और इस तरह हमने इसे एक धोखाधड़ी के रूप में पहचाना।”

अक्सर घोटालेबाज अन्य लोगों को धोखा देने के लिए चोरी की पहचान का उपयोग करते हैं और ऐसे में पहचान के मालिक के लिए एकमात्र सहारा क्रेडिट-प्रदाता के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करना रह जाता है।

रंजन कहते हैं, "हम यह भी सुनिश्चित करते हैं कि हमारी जोखिम गारंटी के साथ ये कंपनियां अपने विकास पर ध्यान केंद्रित कर सकें और डुप्लिकेट या चोरी की पहचान से उत्पन्न कानूनी परेशानी हमारे द्वारा नियंत्रित की जा सके।"

ई-कॉमर्स क्षेत्र में ब्यूरो जोखिमों को कवर करने के लिए आरटीओ सुरक्षा प्रदान करता है। ईकॉमर्स में आरटीओ या रिटर्न टू ओरिजिन तब उत्पन्न होता है जब ग्राहक द्वारा कैश-ऑन-डिलीवरी ऑर्डर स्वीकार नहीं किया जाता है। रिवर्स लॉजिस्टिक्स की लागत अधिक है और यह व्यापारी के लिए वास्तविक बिक्री अपेक्षाओं को भी बाधित करता है, जिसे केवल 15-30 दिनों के समय में विफल ऑर्डर की सूचना दी जाती है।

रंजन कहते हैं, "हम पते, शिपिंग व्यवहार का अध्ययन करते हैं और इनके आधार पर हम वास्तविक समय में निर्णय देते हैं कि कोई ऑर्डर आरटीओ संरक्षित है या नहीं। आरटीओ में एक रिटेलर के लिए औसतन सभी ऑर्डर का 10-12 प्रतिशत शामिल होता है और हमारी सेवाएं संख्या को कम कर सकती हैं।”

राजस्व मॉडल

ब्यूरो बिजनेस-टू-बिजनेस (बी2बी) मॉडल पर काम करता है, जो डिजिटल-फर्स्ट बिजनेस को अपनी सेवाएं प्रदान करता है। कंपनी, जिसने भौगोलिक क्षेत्रों में फैले एक ग्राहक आधार के साथ शुरुआत की थी उसने अब अपनी सेवाओं को भारत में केंद्रित किया है और अब ये आने वाले महीनों में इंडोनेशियाई और अन्य दक्षिण पूर्व एशियाई देशों पर भी ध्यान केंद्रित करेगी।

ब्यूरो के राजस्व मॉडल में एपीआई कॉल की संख्या के आधार पर प्रति उपयोग भुगतान या लेनदेन के प्रतिशत के रूप में शामिल है यदि ग्राहक ब्यूरो के जोखिम गारंटी उत्पाद का उपयोग करता है। आगे बढ़ते हुए, ब्यूरो ने अपने ग्राहकों के लिए सुनिश्चित पहचान या लेनदेन सेवाएं शुरू करने की योजना बनाई है।

जबकि कंपनी ने अपने राजस्व के आंकड़ों का खुलासा नहीं किया, रंजन का दावा है कि उसका GMV (सकल व्यापारिक मूल्य) वित्तीय वर्ष 2020-21 में 10 गुना बढ़ गया है।

रंजन कहते हैं, "अभी, हम भारत में 54 व्यवसायों के साथ काम करते हैं, जिनमें से सभी ग्राहकों को भुगतान कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि प्लेटफॉर्म ने अब तक लेनदेन में 5 मिलियन डॉलर की रक्षा की है और 12 मिलियन से अधिक पहचानों को सत्यापित किया है, इसके अलावा सत्यापित ग्राहकों के लिए 30 मिलियन एसएमएस-ओटीपी को हटाकर लेनदेन को आसान बना दिया है।"


Edited by Ranjana Tripathi