मिलें बिहार के उस सरकारी अधिकारी से जो ड्यूटी के बाद छात्रों को कराते हैं UPSC की तैयारी

प्रत्येक रविवार को, उप-मंडल अधिकारी (SDO), मुजफ्फरपुर, अनिल कुमार दास उन छात्रों को मुफ्त पढ़ाते हैं जो सिविल सेवा में शामिल होना चाहते हैं।

मिलें बिहार के उस सरकारी अधिकारी से जो ड्यूटी के बाद छात्रों को कराते हैं UPSC की तैयारी

Tuesday March 23, 2021,

2 min Read

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक सरकारी अधिकारी वंचित छात्रों के लिए आशा की एक किरण बन गए हैं, जो अपने भविष्य में सिविल सेवाओं में शामिल होने के इच्छुक हैं।


प्रत्येक रविवार को, उप-मंडल अधिकारी (SDO), मुजफ्फरपुर, अनिल कुमार दास उन छात्रों को मुफ्त पढ़ाते हैं जो सिविल सेवा में शामिल होना चाहते हैं।


उनके ऑफिस में, जिले के दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चे, जो सिविल सेवाओं सहित अन्य प्रतियोगिताओं की तैयारी करने के इच्छुक हैं, लेकिन निजी कोचिंग संस्थानों की फीस वहन करने में असमर्थ हैं, आते हैं और उन्हें मुफ्त कक्षाएं प्रदान की जाती हैं।


दास ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा, "मेरा प्रयास उन दूरदराज के क्षेत्रों के छात्रों का मार्गदर्शन करना है जो सिविल सेवाओं में शामिल होना चाहते हैं, लेकिन कोचिंग संस्थानों की फीस नहीं भर सकते।"

एसडीओ ने आगे कहा कि वह उन कठिनाइयों से अवगत हैं जिनका एक मध्यम वर्गीय परिवार को अपने बच्चों को उच्च शिक्षा प्रदान करते समय सामना करना पड़ता है।


उन्होंने कहा, “हमने गरीबी देखी है और आज के युग में बच्चों को उच्च शिक्षा प्रदान करने में मध्यवर्गीय परिवार का सामना करने वाले पर्यावरण से हम अच्छी तरह परिचित हैं। ऐसा करना होगा क्योंकि आजकल निजी संस्थानों में उच्च अध्ययन की शिक्षा बहुत महंगी है और विशेष रूप से मुजफ्फरपुर में, उच्च शिक्षा के लिए ज्यादा संस्थान नहीं हैं।”


उन्होंने एएनआई के हवाले से कहा, “आज भी, सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में पढ़ने वाले बच्चों के परिवारों की स्थिति अच्छी नहीं है और वे उच्च शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाते हैं, हमने सोचा कि हमारे राज्य के होनहार ग्रामीणों, क्षेत्र के गरीब बच्चों की मदद की जाए और उनकी आशाओं को पूरा किया जाए।”


आपको बता दें कि अभी हाल ही में कुछ ऐसी ही कहानी नागालैंड से सामने आई थी, जहां तैनात एक महिला आईपीएस अधिकारी प्रितपाल कौर सिविल सर्विसेज की तैयारी करने वाले छात्रों को फ्री कोचिंग क्लासेज देती है और साथ ही ड्रग एडिक्ट्स और उनके परिवारों की काउंसलिंग भी करती हैं।


कौर एक दंत चिकित्सक भी हैं और IPS अधिकारी बनने से पहले हैदराबाद में काम करती थीं। वह दंत रोगों से पीड़ित लोगों को उपचार प्रदान करती है।