मसीहा बनकर चेन्नई पुलिस ने खाकी के लिये बदला एक पिता का नज़रिया, हर तरफ हो रही वाहवाही

By yourstory हिन्दी
July 15, 2020, Updated on : Wed Jul 15 2020 08:31:31 GMT+0000
मसीहा बनकर चेन्नई पुलिस ने खाकी के लिये बदला एक पिता का नज़रिया, हर तरफ हो रही वाहवाही
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

दो साल पहले जब 35 वर्षीय कार्तिक ने एक हेड कांस्टेबल को अपने दरवाजे पर पर देखा तो उनकी आंखे खुशी से झलक पड़ी। उन्होंने देखा कि एक पुलिसकर्मी उनकी बेटी के लिए मसीहा बनकर सामने आया है।


क

फोटो साभार: indiatimes


नंदंबक्कम के हेड कांस्टेबल पी सेंथिल कुमार और पुलिस निरीक्षक एम थंगराज ने एक निजी अस्पताल में एक लड़की की ओपन हार्ट सर्जरी के लिए 5 लाख रुपये की व्यवस्था की।


गुडुवनचेरी का रहने वाला कार्तिक अपनी पत्नी प्रियंका और 5 साल की बेटी कविता के साथ रहता है। कार्तिक चेन्नई में एक इलेक्ट्रॉनिक सेल्समैन के रूप में काम करता है लेकिन लॉकडाउन लागू होने के बाद से वह कभी भी काम पर नहीं जा सका।


कविष्का, जो दिल में एक ब्लॉक के साथ पैदा हुई थी, पहले से ही तीन एंजियोग्राम से गुजर चुकी थी और जन्म के बाद से दवा पर ही जीवित हैं।


सेंथिल कुमार दो साल पहले गुडुवनचेरी में एक घर में गए तब वहां उन्हें कार्तिक और उनके परिवार के बारे में पता चला।


द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार नंदंबक्कम पुलिस स्टेशन में तैनात पी सेंथिल कुमार ने कहा,

“फरवरी में लॉकडाउन से ठीक पहले, डॉक्टरों ने कार्तिक को सलाह दी थी कि उसकी बच्ची को एंजियोग्राम के लिए जाना चाहिए, लेकिन मैंने सुना कि उसके पास पैसा नहीं होने के कारण वह इसे स्थगित करने की योजना बना रहा था। मेरी पत्नी और मैंने कार्तिक को एंजियोग्राम के लिए मना लिया और 30,000 रुपये दान कर दिए।”


कविष्का की तबीयत बिगड़ने के कारण, कार्तिक उन्हें एक स्थानीय क्लिनिक में ले गया, जहाँ डॉक्टर ने सुझाव दिया कि उन्हें ओपन-हार्ट सर्जरी से गुजरना होगा।


सेंथिल कुमार ने आगे कहा,

“कार्तिक शुरू में झिझक रहा था क्योंकि उसे लगा कि वह हम पर बोझ डाल रहा है और उसने हमसे नहीं पूछा। मैंने इसे हमारे पड़ोसियों और निरीक्षक थंगराज के माध्यम से सुना। उन्होंने मुझसे कहा कि हमें बच्ची की मदद करनी चाहिए और हमारे स्टेशन क्षेत्राधिकार में एक अच्छी तरह से स्थापित निजी अस्पताल है।”


दोनों ने अस्पताल के अधिकारियों से बात की और स्टेशन में सभी कर्मियों से 45,000 रुपये, एक सरकारी कल्याण योजना के माध्यम से 1.25 लाख रुपये और अन्य प्रायोजकों के माध्यम से 3 लाख रुपये जमा किए।


कविष्का को एक महीने पहले सर्जरी के लिए भर्ती किया गया था, जो सात घंटे तक चली थी, और 15 दिनों के लिए आईसीयू में फिर अगले 15 दिनों के लिये सामान्य वार्ड में रहीं। बीती शनिवार रात उसे छुट्टी दे दी गई। पुलिस स्टेशन की पूरी फोर्स पिछले महीने कविष्का से मिलने उसके घर गई और मदद की पेशकश की।


द न्यू इंडिया एक्सप्रेस से बात करते हुए, कार्तिक ने कहा, “जब मैं छोटा था तो पुलिस कर्मियों के साथ मेरे कुछ बहुत बुरे अनुभव थे। मैंने कभी नहीं सोचा था कि खाकी में एक आदमी वास्तव में मेरी बच्ची को बचाएगा।”



Edited by रविकांत पारीक

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close