गर्मियों में चलने वाली लू और छुट्टियों के दौरान डायबिटीज़ प्रबंधन के लिए गाइड

आपके डायबिटीज़ को नियंत्रण में रखते हुए गर्मी के मौसम का आनंद लेने और लू को मात देने के लिए यहाँ 5 आसान कदम दिए जा रहे हैं.

गर्मियों में चलने वाली लू और छुट्टियों के दौरान डायबिटीज़ प्रबंधन के लिए गाइड

Sunday June 04, 2023,

5 min Read

दुनिया भर में तापमान में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, ऐसे में हीट वेव्‍स (लू) का बार-बार आना और तीव्र होना भी बढ़ता जा रहा है जो दुनियाभर में लोगों के स्वास्थ्य के लिए बड़ी चुनौती है. भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) द्वारा हीटवेव के संबंध में जारी की गई चेतावनी डायबिटीज़ से पीड़ित लोगों के लिए अनोखे जोखिम लेकर आती है. डायबिटीज़ का प्रबंधन करना वैसे ही एक मुश्किल चुनौती है, लेकिन जब इसके साथ अत्य़धिक गर्मी का मौसम हो, तो व्‍यक्ति के स्वास्थ्य की रक्षा करने के लिए सक्रिय रूप से उपाय करना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है.  

डायबिटीज़ से पीड़ित लोगों को बदलते पैटर्न और मौसम के परिणामों को लेकर सतर्क रहना चाहिए, आपके ग्लूकोज़ स्तर की निगरानी करना एक प्राथमिकता है, और ब्लड शुगर के स्तर की निगरानी करना महत्वपूर्ण है, विशेष रूप से जीवनशैली में आया कोई भी बदलाव जो इस स्तर में परिवर्तन की वजह बन सकता है. इस प्रक्रिया को सीजीएम उपकरणों ने आसान बना दिया है, जो बिना सुई चुभाए, एक दर्द रहित सॉल्यूशन पेश करते हैं ताकि आप सफर के दौरान भी अपनी स्थिति की जांच कर सकते हैं. आपकी रीडिंग्स पर आपको नजर रखनी होगी और हर दिन 24 घंटों में से करीब 17 घंटे अधिकतम ग्लूकोज़ रेंज में रहने की कोशिश करनी होगी.

डॉ. अशोक कुमार झिंगन, सीनियर डायरेक्टर- मैक्स सेंटर फॉर डायबिटीज़, थाय़रॉइड, ओबेसिटी एंड एंडोक्राइनोलॉजी, बीएलके-मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, दिल्ली ने कहा, “जब बात डायबिटीज़ प्रबंधन की हो तो एक स्वस्थ जीवनशैली सबसे महत्वपूर्ण है. गर्मी के महीनों में किसी भी व्यक्ति की दिनचर्या में भारी ऊथल-पुथल हो सकती है. इसका परिणाम यह हो सकता है कि लोग डायबिटीज़ के अनुकूल आहार न लें या समय से अपने ब्लड ग्लूकोज़ के स्तर की जांच न करें. गर्मी के दौरान, विशेष रूप से जब लू चलती है, तो डायबिटीज़ से पीड़ित व्यक्तियों के शरीर में भी पानी की कमी (डिहाइड्रेशन) की संभावना होती है, खास तौर पर यदि उनका ब्‍लड ग्लूकोज़ का स्तर काफी अनियंत्रित हो. जब बात ब्लड शुगर स्तर को बनाए रखने की हो, तो सही संतुलन हासिल करने के लिए कुछ उपाय को ध्यान में रखना चाहिए जिसमें शामिल है लगातार ग्लूकोज़ की निगरानी (सीजीएम) करना ताकि दिनचर्या में कोई भी बदलाव डायबिटीज़ प्रबंधन में बाधा उत्पन्न न करे.”

इस मौसम की चिलचिलाती गर्मी में, विशेष रूप से डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे नियमित रूप से ब्लड शुगर स्तर की जाँच करें और इन दिनों में से ज़्यादातर दिन इसे विनिर्दिष्ट की गई लक्षित सीमा (सामान्य तौर पर 70-180 एमजी/डीएल) के भीतर रखने का प्रयास करें. इसे सीजीएम डिवाइस जैसे साधनों का उपयोग करते हुए आसानी से किया जा सकता है जिसमें आपके ग्लूकोज़ स्तर पर जानकारी प्रदान करने के लिए आपकी उंगलियों पर सुई चुभाने की ज़रूरत नहीं होती. इस प्रकार के डिवाइस में मेट्रिक्स जैसा समय रेंज में होता है – और आपके रीडिंग्स का जाँच करने का संबंध अक्सर आपकी अधिकतम रेंज में ज़्यादा समय बिताने से जुड़ा होता है, जो आपके ग्लूकोज़ नियंत्रण को सुधार सकता है.  

इसके अलावा, आपके डायबिटीज़ को नियंत्रण में रखते हुए गर्मी के मौसम का आनंद लेने और लू को मात देने के लिए यहाँ 5 आसान कदम दिए जा रहे हैं:

              

1. पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें: यात्रा और बाहर बिताए गए समय में बढ़ोतरी के कारण शरीर में पानी की कमी (डिहाइड्रेशन) की समस्या होती है. इससे बचने के लिए, पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं, ताज़े फलों का रस, और कैफीन मुक्त पेय पदार्थों का सेवन करें, भले ही आपको विशेष रूप से प्यास न लगी हो. इसके अलावा आप नारियल पानी, शक्कर रहित लेमोनेड, लस्सी (छाछ/मठ्ठा), और अन्य चीज़ें ले सकते हैं और शराब और कैफीन का सेवन न करें.

2. चिलचिलाती धूप से दूर रहें: गर्मी की छुट्टियों में लोगों को पिकनिक पर जाने या दोस्तों के साथ पार्क में साइकिल चलाने का बेसब्री से इंतज़ार रहता है. पर डायबिटीज़ से पीडित लोग यदि लंबे समय तक धूप में रहते हैं तो उन्‍हें गर्मी से थकान होने का जोखिम काफी ज्‍यादा होता है. इन लक्षणों पर पूरी तरह नजर रखें और सावधानी बरतें, जिसमें शामिल है, चक्कर आना, पसीना आना, मांसपेशियों में ऐंठन, बेहोश हो जाना, सिरदर्द, हृदय गति का तेज़ हो जाना और मितली. यदि आपको महसूस हो कि इनमें से कोई भी लक्षण आपमें दिखाई दे रहे हैं, तो ठंडी जगह पर चले जाएं और तरल पदार्थ का सेवन करें.

3. अपनी एक्‍सरसाइज की योजना स्मार्ट तरीके से बनाए: गर्मी की छुट्टियां अगर अच्‍छे से बितानी हें तो आराम करना सबसे अच्छा मंत्र है, वहीं डायबिटीज़ का प्रबंधन करने के लिए व्यायाम करना उतना ही महत्वपूर्ण होता है. आप सुबह जल्दी या देर शाम बाहर जाकर व्यायाम कर सकते हैं लेकिन जब तापमान अधिक हो तो एक इन्डोर जिम में व्यायाम करें या घर पर ही योग अभ्यास करें. 

4. सही भोजन खाएं: जब लोग छुट्टियों में अपने घर जाते हैं तो अक्सर स्ट्रीट फूड या स्थानीय खाने के स्वाद से खुद को रोक नहीं पाते. छुट्टियों में वे अक्सर नए रेस्टॉरेंट और तरह-तरह के व्‍यंजन आज़माने की इच्छा रखते हैं.

5. डायबिटीज़ से पीड़ित लोगों को अधिक सावधानी बरतनी चाहिए और एक संतुलित, स्वस्थ, डायबिटीज़ के अनुकूल आहार का सेवन जारी रखना चाहिए और ऐसे भोजन के आकर्षण से बचना चाहिए जो उनके ग्लूकोज़ स्तर को प्रभावित कर सकते हैं.  

इन सुझावों का पालन कर और अपने डॉक्टर से परामर्श लेकर तथा एक समग्र डायबिटीज़ प्रबंधन योजना बना कर, आप गर्मी के महीनों में भी दिन के 70% समय लक्षित ग्लूकोज़ रेंज में बने रहने का लक्ष्य रख सकते हैं.

गर्मी का समय छुट्टी लेने और बेफिक्र होकर बिंदास जीने का समय होता है. जबकि डायबिटीज़ के कारण ऐसा करना मुश्किल होता है, लेकिन इस जीवनशैली से जुड़ी बीमारी के प्रबंधन के लिए छोटे और आसान कदम उठाने से आपके स्वास्थ्य को नियंत्रण में रखने और इस मौसाम का आनंद लेने और खुलकर जीने में सहायता मिल सकती है.

यह भी पढ़ें
कैसे कंटेंट क्रिएटर्स की पैसे कमाने में मदद करता है स्टार्टअप Cosmofeed


Edited by रविकांत पारीक