किराए पर साइकिल देकर की शुरुआत, मिली 653 करोड़ रुपये की फंडिंग

इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लीडर Yulu ने Magna International Inc. और Bajaj Auto Limited के नेतृत्व में अपने मोबिलिटी और बैटरी स्वैपिंग बिजनेस को बढ़ाने के लिए 82 मिलियन डॉलर (653 करोड़ रुपये) की इक्विटी फंडिंग हासिल की है.

किराए पर साइकिल देकर की शुरुआत, मिली 653 करोड़ रुपये की फंडिंग

Monday September 12, 2022,

4 min Read

इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की डिमांड दुनियाभर के मार्केट में दिन-ब-दिन बढ़ती ही जा रही है. ग्लोबल इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के मार्केट साइज पर गौर करें तो यह 2020 में 230.12 बिलियन अमेरीकी डॉलर का आंकड़ा पार कर चुका है. अब 27.2% की CAGR (compound annual growth rate) से 2021 में 279.45 बिलियन अमेरीकी डॉलर से बढ़कर 2028 में 1,507.21 बिलियन अमेरीकी डॉलर होने की उम्मीद है. ये आंकड़े फॉर्च्यून बिजनेस इनसाइट्स की एक रिपोर्ट में सामने आए हैं.

भारत के शेयर्ड इलेक्ट्रिक मोबिलिटी-एज़-ए-सर्विस (MaaS) और बैटरी-एज़-ए-सर्विस (BaaS) सेक्टर में काम कर रहे स्टार्टअप Yulu ने सीरीज़ बी फंडिंग राउंड में $82 मिलियन (₹653 करोड़) जुटाने की घोषणा की है. अमेरिका स्थित मोबिलिटी टेक्नोलॉजी कंपनी Magna International Inc. ने इस राउंड का नेतृत्व किया था. इसके साथ ही मौजुदा निवेशक Bajaj Auto Limited ने भी इस राउंड में भाग लिया था.

ताजा फंडिंग का इस्तेमाल स्टार्टअप अपने प्रोडक्ट और टेक्नोलॉजी इनोवेशन को मजबूत करने के लिए करेगा. Yulu अगले 12 महीनों में 500+ बैटरी चार्जिंग और स्वैपिंग स्टेशनों के साथ अपने ईवी बेड़े को 1 लाख से अधिक इलेक्ट्रिक 2-व्हीलर्स तक बढ़ाएगा.

Electric Mobility leader Yulu secures $82 Mn (₹ 653 Cr) equity funding led by Magna to scale its mobility & battery swapping businesses

Yulu (Bikes Pvt Ltd) के को-फाउंडर और सीईओ अमित गुप्ता ने कहा, “हम अगले तीन-चार वर्षों में BaaS और MaaS दोनों बिजनेसेज में युलु के लिए 100 गुना विकास का अवसर देख सकते हैं. इलेक्ट्रिक मोबिलिटी में मार्केट लीडर के रूप में, सिद्ध बिजनेस मॉडल के साथ, हमारा ध्यान अब मजबूत सप्लाई चेन स्थापित करने और अपने कारोबार को बढ़ाने पर होगा. हम अपने मौजूदा बाजारों में और गहराई तक जाएंगे और बेहतरीन ग्राहक अनुभव देते हुए नए क्षेत्रों का पता लगाएंगे. हम भारत और उसके बाहर सस्टेनेबल और स्केलेबल ईवी इकोसिस्टम बनाने के लिए अपने साझा दृष्टिकोण के साथ मैग्ना का स्वागत करते हैं.”

Magna International के कार्यकारी उपाध्यक्ष और Magna New Mobility के ग्लोबल लीड माटेओ डेल सोरबो ने कहा, "यूलु में इस निवेश के माध्यम से मैग्ना के लिए शहरी गतिशीलता में एक स्थायी भविष्य में योगदान करने के लिए यह एक अविश्वसनीय रूप से रोमांचक समय है. माइक्रोमोबिलिटी मैग्ना के लिए अतिरिक्त विकास का एक बड़ा अवसर प्रस्तुत करती है, और युलु के साथ जुड़ने से हमें इस तेजी से बढ़ते क्षेत्र में अपने व्यवसाय का विस्तार करने में मदद मिलती है.”

युलु की भारत की अग्रणी 2-व्हीलर निर्माता, बजाज ऑटो लिमिटेड (Bajaj Auto Ltd) के साथ एक सफल रणनीतिक साझेदारी है. वर्षों से, युलु और बजाज प्रोडक्ट डिजाइन, टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म, इंजीनियरिंग प्रोसेस और मैन्युफैक्चरिंग पर सहयोग कर रहे हैं. युलु की अगली पीढ़ी के इलेक्ट्रिक 2 व्हीलर इस साल के अंत तक बजाज की पुणे फैक्ट्री से शुरू हो जाएंगे.

युलु ने लाखों उपयोगकर्ताओं को सेवाएं दी है. युलु ने हजारों गिग इकॉनमी वर्कर्स को वर्कफोर्स में शामिल होने और एक कुशल, टिकाऊ और सस्ती गतिशीलता सेवा देकर अपनी कमाई बढ़ाने में सक्षम बनाया है.

फर्स्ट एंड लास्ट माइल मोबिलिटी में मार्केट लीडर के रूप में, युलु ने बैंगलोर मेट्रो (BMRCL), दिल्ली मेट्रो (DMRC) और बेंगलुरु (BBMP/DULT), मुंबई (BMC/MMRDA) और नई दिल्ली (NDMC) में पार्किंग और चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर दोनों के लिए शहर के अधिकारियों के साथ सफल साझेदारी की है.

युलु, मैग्ना के साथ एक नई युनिट, Yulu Energy का गठन कर रहा है, जो युलु और अन्य निर्माताओं द्वारा बनाए गए वाहनों की मांग को पूरा करने के लिए राष्ट्रव्यापी बैटरी चार्जिंग और स्वैपिंग इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने के लिए है. इस इन्फ्रास्ट्रक्चर से इलेक्ट्रिक वाहनों को खरीदने की लागत में कमी आने की उम्मीद है और इससे भारत में इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को अपनाने में तेजी आएगी.

आपको बता दें कि शेयर्ड ईवी मोबिलिटी और बैटरी स्वैपिंग कंपनी Yulu की स्थापना अमित गुप्ता ने 2017 में नवीन दाचुरी, आरके मिश्रा और हेमंत गुप्ता के साथ मिलकर की शुरुआत थी. शुरुआत में ये कंपनी साइकिल किराए पर देती थी. लेकिन लगातार टेक्नोलॉजी और इनोवेशन करते हुए कंपनी ने विकास की नई गाथा लिखी है.