दिल्ली की इन दो बहनों ने पैरिस से शुरू किया फ़ैशन ब्रैंड, दुनियाभर के 90 स्टोर्स में बिकते हैं इनके प्रॉडक्ट्स

हिन्दुस्तानी बहनों की मेहनत लाई रंग, अब इंटरनेशनल लेवल पर बना रही हैं अपनी अलग पहचान...

दिल्ली की इन दो बहनों ने पैरिस से शुरू किया फ़ैशन ब्रैंड, दुनियाभर के 90 स्टोर्स में बिकते हैं इनके प्रॉडक्ट्स

Wednesday April 04, 2018,

5 min Read

 मीशा ने न्यूयॉर्क के पारसन्स स्कूल ऑफ़ डिज़ाइन से डिज़ाइन और मैनेजमेंट की स्ट्रीम में अंडरग्रैजुएट प्रोग्राम पास किया है। मशहूर डिज़ाइनर मनीष अरोड़ा के साथ काम करने के अलावा वह अरमानी एक्सचेंज जैसे बड़े नामों के साथ भी जुड़ी रही हैं।

मीशा और तृषा

मीशा और तृषा


बिज़नेस में उनका साथ दे रहीं उनकी बहन तृषा ने, न्यूयॉर्क के आरआईटी से मार्केटिंग और इंटरनैशनल बिज़नेस स्ट्रीम में अंडरग्रैजुएट प्रोग्राम पूरा किया है। तृषा, यूएसए वेब के साथ बतौर कॉन्टेन्ट राइटर-ऐड डिवेलपर और एच. ब्लूम एनवाईसी के साथ सेल्स और ऑपरेशन्स का काम कर चुकी हैं।

स्टार्टअप: मीशा

फ़ाउंडर्स: मीशा खन्ना, तृषा खन्ना, मगाली कारुयर और कैथरीन गुइन,

शुरूआत: 2011

जगह: दिल्ली

सेक्टर: फ़ैशन रीटेल

फ़ंडिंगः बूटस्ट्रैप्ड

मनीषा खन्ना बजाजा और उनकी बहन तृषा ने मिलकर 2011 में पैरिस से एक इंटरनैशनल फ़ैशन ब्रैंड की शुरूआत की और आज दुनियाभर के 90 स्टोर्स में उनके प्रोडक्ट्स बेचे जा रहे हैं। मीशा को डिज़ाइनिंग और तृषा को मार्केटिंग के क्षेत्रों का अच्छा प्रोफ़ेशनल अनुभव है। दोनों बहनों ने अपनी विशेषताओं की जुगलबंदी से अपने ब्रैंड ‘मीशा’ की शुरूआत की और फ़ैशन के अपने शौक़ को एक नए मुकाम तक पहुंचाया।

दिल्ली की रहने वाली मीशा खन्ना बजाज का हमेशा से ही फ़ैशन और लाइफ़स्टाइल प्रोडक्ट्स की ओर ख़ास रुझान रहा है। उनकी परवरिश भी ऐसे परिवार में हुई, जो टेक्स्टाइल और गारमेंट एक्सपोर्ट के बिज़नेस से जुड़ा था। कम उम्र से ही वह फ़ैशन शोज़ का हिस्सा रही हैं और उन्होंने रीटेलिंग बिज़नेस को भी काफ़ी करीब से देखा है। मीशा ने न्यूयॉर्क के पारसन्स स्कूल ऑफ़ डिज़ाइन से डिज़ाइन और मैनेजमेंट की स्ट्रीम में अंडरग्रैजुएट प्रोग्राम पास किया है। मशहूर डिज़ाइनर मनीष अरोड़ा के साथ काम करने के अलावा वह अरमानी एक्सचेंज जैसे बड़े नामों के साथ भी जुड़ी रही हैं।

मीशा मानती हैं कि प्रोफ़ेशनल अनुभव के बाद भी उन्हें ठीक तरह से पता नहीं था कि उन्हें डिज़ाइनिंग से जुड़ना चाहिए या फिर ब्रैंड मैनेजमेंट से। फ़िलहाल मीशा ये दोनों ही काम अपने ब्रैंड के अंतर्गत कर रही हैं। बिज़नेस में उनका साथ दे रहीं उनकी बहन तृषा ने, न्यूयॉर्क के आरआईटी से मार्केटिंग और इंटरनैशनल बिज़नेस स्ट्रीम में अंडरग्रैजुएट प्रोग्राम पूरा किया है। तृषा, यूएसए वेब के साथ बतौर कॉन्टेन्ट राइटर-ऐड डिवेलपर और एच. ब्लूम एनवाईसी के साथ सेल्स और ऑपरेशन्स का काम कर चुकी हैं।

ब्रैंड शुरू करने से पहले दोनों बहनों की सोच स्पष्ट थी कि उन्हें भारत के विविधतापूर्ण टेक्स्टाइल संसाधनों का बेहतर इस्तेमाल करते हुए, उन्हें आज के दौर का स्वरूप देना है और ग्लोबल ऑडियंस तक अपनी पहुंच बनानी है। ब्रैंड की शुरूआत के लिए उन्होंने अच्छे दामों में बेहतर से बेहतर क्वॉलिटी वाले प्रोडक्ट्स की रणनीति बनाई। ग्लोबल ऑडियंस तक पहुंचने के लिए उन्होंने पैरिस में अपने दोस्तों मगाली कारुयर और कैथरीन गुइन की मदद ली। फ़ैमिली बिज़नेस की बदौलत मीशा और तृषा के पास अच्छे कॉन्टैक्ट्स थे और उन्होंने इस कारक को पूरी तरह से भुनाया। उन्होंने अपने ब्रैंड नेम के तहत सबसे पहले स्कार्फ्स लॉन्च किए। मीशा बताती हैं कि उन्होंने तय किया था कि सबसे पहले स्कार्फ्स लॉन्च करेंगे और लोगों का रेस्पॉन्स देखने के बाद आगे के प्रोडक्ट्स तय किए जाएंगे।

मीशा और तृषा की दोस्त मगाली कारुयर ने पैरिस में सेल्स और डिस्ट्रीब्यूशन एजेंसी शुरू की थी और कैथरीन गुइन उनके साथ पिछले 15 सालों से काम कर रही हैं। मगाली और कैथरीन भी मीशा के ब्रैंड के प्रोडक्ट्स देखकर बेहद ख़ुश हुए और उन्होंने कहा कि उनके स्कार्फ्स में भारतीय टेक्स्टाइल और फ्रांस की संस्कृति, दोनों ही की झलक है। मीशा के स्कार्फ्स उम्दा क़िस्म की मेरिनो ऊन, कश्मीरी ऊन और प्योर सिल्स से तैयार किए जाते हैं। दिल्ली, पंजाब, कश्मीर और कोलकाता के कुशल बुनकर (वीवर्स) इन हैंडीक्राफ़्ट स्कार्फ्स को तैयार करते हैं।

मीशा बताती हैं कि 25 साल से ऊपर के पुरुष और महिलाएं ही उनकी टारगेट ऑडियंस है। फ्रांस में अपने दोस्तों की डिस्ट्रीब्यूटरशिप की मदद से ब्रैंड को काफ़ी लाभ मिला। उन्होंने विदेशों में स्टोर्स पर अपने प्रोडक्ट्स रखवाए और यह उनके लिए बड़ी उपलब्धि साबित हुई। विदेशी ऑडियंस ने मीशा के प्रोडक्ट्स को काफ़ी पसंद भी किया। मीशा बताती हैं कि आज उनका ब्रैंड, दुनियाभर के कई बड़े स्टोर्स जैसे कि ल बॉन मार्के, सैक्स, फ़िफ्थ एवेन्यू, ल प्रिंटेम्प्स, ब्लूमिंगडेल्स (न्यूयॉर्क, लॉस ऐंजल्स, शिकागो और ऑनलाइन), हार्वे निकोलस (हॉन्ग-कॉन्ग) और भारत में ओगान पर उपलब्ध है और इसे वह एक बड़ी उपलब्धि मानती हैं।

तृषा बताती हैं कि उनका ब्रैंड, फ़ैलिएरो सार्टी और एपिक जैसे अंतरराष्ट्रीय ब्रैंड्स के साथ भी रीटेलिंग करता है। मीशा ब्रैंड के स्कार्फ्स की कीमत 4 हज़ार रुपए से लेकर 25 हज़ार रुपए तक है। मीशा के प्रोडक्ट्स पैरिस फ़ैशन वीक में भी प्रदर्शित हो चुके हैं। योर स्टोरी से बात करते हुए मीशा ने बताया कि फ़िलहाल 15 लोगों की कोर टीम, उनके साथ काम कर रही है, जिसमें डिज़ाइनर्स, मर्चेंडाइज़र्स, शिपिंग और लॉजिस्टिक्स आदि के प्रोफ़ेशनल्स शामिल हैं।

मीशा ने बताया कि हर साल उनका ब्रैंड, स्कार्फ्स के साथ कुछ नया प्रयोग करने की कोशिश करता है।

भविष्य की योजनाओं के बारे में बात करते हुए मीशा ने बताया कि ब्रैंड अभी 2019 के लिए स्प्रिंग/समर कलेक्शन तैयार करने पर काम कर रहा है। मीशा ने बताया कि 2019 के रेस्पॉन्स के बाद वह तय करेंगी कि आगे कौन से वर्टिकल्स लॉन्च करने हैं और अतिरिक्त फ़ंडिंग कहां से लेनी है।

यह भी पढ़ें: 16 सालों की इन्फ़ोसिस की नौकरी छोड़ खेती करने लगा यह इंजीनियर