Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

फिनटेक स्टार्टअप Niyo लेकर आया अपना दूसरा ESOP बायबैक प्लान, क्या होता है ESOP?

फिनटेक स्टार्टअप Niyo लेकर आया अपना दूसरा ESOP बायबैक प्लान, क्या होता है ESOP?

Friday September 16, 2022 , 4 min Read

फिनटेक स्टार्टअप Niyo ने कंपनी के तेजी से विकास में योगदान के लिए अपने कर्मचारियों को रिवार्ड देने के लिए अपनी दूसरी कर्मचारी स्टॉक स्वामित्व योजना (employee stock ownership plan - ESOP) की घोषणा की है. 2015 में स्थापित, Niyo बैंकों के साथ साझेदारी में डिजिटल सेविंग्स अकाउंट्स और दूसरी बैंकिंग सर्विसेज देता है. यह वर्तमान में अपने बैंकिंग और वेल्थ मैनेजमेंट प्रोडक्ट्स में 5 मिलियन से अधिक ग्राहकों को सर्विस देता है. स्टार्टअप का दावा है कि इसके प्लेटफॉर्म पर प्रतिदिन 10,000 से अधिक नए यूजर जुड़ते हैं.

स्टार्टअप ने बायबैक की घोषणा बाजार की कठिन परिस्थितियों के बीच की है. यह बात अपने बिजनेस की ग्रोथ में नियो का विश्वास दिखाती है और अपने कर्मचारियों के लिए लगातार पैसे जोड़ने के लिए कंपनी की प्रतिबद्धता भी दिखाती है. Niyo में 500 कर्मचारी हैं और बायबैक योजना इसके अधिकांश कर्मचारियों को दो साल से अधिक की पुरानी अवधि और पिछले कुछ वर्षों में अच्छी परफॉर्मेंस रेटिंग के साथ कवर करेगी. इससे पहले अप्रैल 2022 में, Niyo ने ईएसओपी मूल्य का लगभग 40 करोड़ रुपये कर्मचारियों को अपने वार्षिक मूल्यांकन में दिए थे.

fintech-startup-niyo-rolls-out-its-second-esop-buyback-plan

Niyo के को-फाउंडर और सीईओ विनय बागड़ी ने कहा, "हमने पिछले एक साल में अपने बिजनेस को दोगुना कर दिया है और एक मजबूत ब्रांड बनाया है. यह ग्रोथ हमारी टीम के सदस्यों की कड़ी मेहनत का प्रमाण है. हम हमेशा से एक कर्मचारी-केंद्रित कंपनी रहे हैं जो हमारे कर्मचारियों के लिए स्वामित्व की भावना देने में विश्वास करती है. दूसरी ईएसओपी बायबैक योजना उस टीम के प्रति आभार व्यक्त करने का हमारा विनम्र प्रयास है जो हमारे साथ रही है.”

Niyo के लिए साल काफी अच्छा रहा है. फंडिंग विंटर के बावजूद, Niyo ने Accel और Lightrock India के नेतृत्व में सीरीज़ सी फंडिंग राउंड में 100 मिलियन डॉलर जुटाए हैं. जुलाई में, Niyo ने BFSI-केंद्रित निजी इक्विटी फर्म, Multiples से 30 मिलियन डॉलर जुटाए हैं. कंपनी ने क्रेडिट कार्ड और इंश्योरेंस में भी कदम रखने की घोषणा की.

जगदीश बी, हेड ऑफ ह्यूमन रिसोर्सेज, Niyo ने कहा, "पिछले कुछ महीनों में, कंपनी ने सामूहिक विश्वास और पूरी टीम के योगदान के कारण सभी बिजनेस केपीआई में महत्वपूर्ण सुधार देखा है. हम अनिश्चित मैक्रो वातावरण के बावजूद मौजूदा बाजार में एक मजबूत स्थिति में रहने के लिए आभारी हैं और निकट भविष्य में अपने कर्मचारियों के लिए इस तरह के और अवसर पैदा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं."

Niyo के बैंगलोर, मुंबई और दिल्ली में कॉर्पोरेट ऑफिस हैं और 20 से अधिक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इसकी बिक्री उपस्थिति है, जो वर्तमान में लगभग 5 मिलियन+ के ग्राहक आधार और 6,000 से अधिक के एक उद्यम / एसएमई आधार की सेवा कर रहा है. इसके निवेशकों में Accel, Lightrock, Multiples, Prime Venture Partners, Horizons Ventures, Tencent, JS Capital, Social Capital, और Beams Fintech Fund शामिल हैं.

क्या होता है ESOP?

ESOP के तहत स्टाफ को कम भाव पर कंपनी का शेयर खरीदने का मौका मिलता है. कंपनी कर्मचारियों को अपने साथ लंबे समय तक जोड़कर रखने के लिए इसका इस्तेमाल करती है. ईसॉप में कर्मचारी को शेयर खरीदने का अधिकार मिलता है, उस पर शेयर खरीदने की बाध्यता नहीं होती. ESOP के द्वारा निश्चित रूप से ज्यादा वेतन, फायदा और ज्यादा पैसे कमाने के लिए कर्मचारियों को फाइनेंशियल बेनिफिट पहुंचाती है. एक आरामदायक रिटायरमेंट भी सुनिश्चित होता है. ESOP कर्मचारियों को जॉब सिक्योरिटी, जॉब सैटिस्फैक्शन देता है.

इस योजना के तहत कंपनियां अपने कर्मियों को एक तय मूल्य पर तय नंबरों में शेयर खरीदने का ऑप्शन देती हैं. ये मूल्य आमतौर पर मार्केट मूल्य से कम होते हैं.

सबसे पहले कंपनी एक ESOP स्कीम ड्राफ्ट करते है, और शेयरहोल्डर्स की मीटिंग में मंजूरी ली जाती है. इस मीटिंग में ESOP योजना के मंजूर हो जाने के बाद, संबंधित कर्मचारियों को एक ' लैटर ऑफ ग्रांट' जारी किया जाता है. इस पेपर में विकल्पों से जुड़ी जानकारी, एक्सरसाइज प्राइस कैलकुलेशन जैसी जानकारी होती है. यहां ध्यान देने वाली बात यह भी है कि विकल्प शेयर नहीं होते, शेयर होल्ड करने का अधिकार होते हैं. अब अगर कोई कर्मचारी उस कंपनी द्वारा दिए गए विकल्प को यूज करना चाहता है तो उसे एक एक्सरसाइज एप्लीकेशन देने की जरूरत होती है. इसके बाद उनके विकल्प इक्विटी में बदल जाते हैं.