UPI पर क्रेडिट कार्ड को सपोर्ट करने वाला भारत का पहला पेमेंट गेटवे बना Razorpay

इस सुविधा की मदद से कस्टमर अपने क्रेडिट कार्ड का बेहतर उपयोग कर सकेंगे. क्रेडिट कार्ड के यूपीआई से जोड़ने का मतलब है कि ग्राहकों को रोजमर्रा के लेन-देन के लिए अपने बैंक खातों में पैसा नहीं लगाना पड़ेगा. साथ ही कस्टमर को अपने क्रेडिट को कहीं ले जाने की जरुरत भी नहीं होगी.

UPI पर क्रेडिट कार्ड को सपोर्ट करने वाला भारत का पहला पेमेंट गेटवे बना Razorpay

Wednesday December 14, 2022,

4 min Read

फिनटेक यूनिकॉर्न Razorpay अब क्रेडिट कार्ड (credit card) धारकों को जल्द ही किसी भी सामान का पेमेंट करने के लिए यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (Unified Payment Interface - UPI) का इस्तेमाल करने की परमिशन देगा. इस लॉन्च के साथ रेजरपे यूपीआई पर क्रेडिट कार्ड के माध्यम से लेनदेन शुरू करने वाल भारत का पहला पेमेंट गेटवे बन गया है.

इसके तहत एचडीएफसी बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, यूनियन बैंक और इंडियन बैंक के रुपे क्रेडिट कार्ड कस्टमर इस नई सुविधा का लाभ उठा सकते है.

fintech-unicorn-razorpay-becomes-indias-first-payment-gateway-to-support-credit-cards-on-upi-npci

एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में केवल 6% भारतीयों के पास क्रेडिट कार्ड है, यूपीआई की सुविधा के साथ क्रेडिट कार्ड के जुड़ने से भारत में क्रेडिट इकोसिस्टम को और बढ़ावा मिलेगा. 

आपको बता दें कि यूपीआई पेमेंट से जुड़े सभी फैसले लेने वाली संस्था नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया (National Payment Corporation of India) देश में यूपीआई की पहुंच को बढ़ाने के लिए लगतार फैसले ले रही है. इससे पहले NPCI ने यूपीआई पेमेंट को बढ़ाने के लिए क्रेडिट कार्ड के जरिए पेमेंट करने के ऑप्शन को मान्यता दी थी. इसके लिए यूपीआई ने रूपे से करार किया था. इसके बाद अब रेजरपे पेमेंट गेटवे ने अपने व्यापारियों को रूपे क्रेडिट कार्ड से यूपीआई पेमेंट लेने की अनुमति दे दी है.

Razorpay ने कहा कि कंपनी ने एक्सिस बैंक के साथ साझेदारी की है. व्यापारियों की जरूरतों को फोकस में रखकर इस फैसले को लिया गया है. अब व्यापारी रेजरपे और यूपीआई के जरिए रूपे क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके पेमेंट कर सकते हैं. डिजिटल पेमेंट सर्विस के क्षेत्र में हम एक नई क्रांति की दहलीज पर है. क्योंकि हमनें यूपीआई पर क्रेडिट कार्ड को सपोर्ट देने की शुरुआत कर दी है. इस पहल से व्यवसायों और ग्राहकों को समान रूप से लाभ होगा साथ ही क्रेडिट इकोसिस्टम को विस्तारित करने में भी मदद मिलेगी.

इस सुविधा की मदद से कस्टमर अपने क्रेडिट कार्ड का बेहतर उपयोग कर सकेंगे. क्रेडिट कार्ड के यूपीआई से जोड़ने का मतलब है कि ग्राहकों को रोजमर्रा के लेन-देन के लिए अपने बैंक खातों में पैसा नहीं लगाना पड़ेगा. साथ ही कस्टमर को अपने क्रेडिट को कहीं ले जाने की जरुरत भी नहीं होगी, फिर भी आप उससे पेमेंट करने में सक्षम होंगे.

NPCI के आंकड़ों के मुताबिक 250 मिलियन भारतीय अपने रोजमर्रा के ट्रांजेक्शन के लिए यूपीआई का यूज करते हैं. इसमें 50 मिनियन ऐसे लोग हैं जो एक या उससे अधिक क्रेडिट कार्ड यूज करते हैं. ऐसे में अब वह लोग भी यूपीआई का यूज कर पाएंगे जो केवल क्रेडिट के जरिए पेमेंट करते हैं. 

ऐसे क्रेडिट कार्ड को UPI से लिंक करें

अपने यूपीआई क्रेडिट कार्ड को संलग्न करने का प्रमुख लाभ यह है कि आपको इसे अपने साथ कहीं भी ले जाने की जरुरत नहीं होगी. यूपीआई के जरिए क्रेडिट कार्ड से भुगतान सरल और सुविधाजनक है. हालांकि यह भुगतान करते समय, आपको डेबिट कार्ड विकल्प के बजाय क्रेडिट कार्ड विकल्प चुनना होगा. अगर आप दोनों को लिंक करना चाहते हैं, तो यहां हम आपको इसे लिंक करने के कुछ स्टेप्स बता रहे हैं, जिन्हें ध्यान में रखना जरूरी है.

  • आपको सबसे पहले UPI ऐप ओपन करना होगा.

  • इसके बाद आपको 'Add Card' विकल्प का चयन करना होगा.

  • उसके बाद आपके क्रेडिट कार्ड की जानकारी को पूरी तरह भरना होगा.

  • अब रजिस्टर्ड नंबर पर प्राप्त हुए ओटीपी को भरना होगा.

  • अब आपको अपना कार्ड मान्य करना होगा.

  • इसके बाद आपको पेमेंट यूपीआई में क्रेडिट का विकल्प दिखाई देगा.

इसके चलन में आने से क्यूआर कोड के माध्यम से पेमेंट की सुविधा में वृद्धि होगी, जिससे आने वाले समय में कार्ड-स्वाइपिंग मशीन पर भी निर्भरता कम हो जाएगी. इसकी मदद से भारत में डिजिटल भुगतान को और मजबूत बनाने में मदद मिलेगी.