Happy Friendship Day: कारोबार के साथ-साथ अपनी दोस्ती के लिए भी मशहूर हैं ये बिजनेसमैन

By Ritika Singh
August 07, 2022, Updated on : Sun Aug 07 2022 01:31:32 GMT+0000
Happy Friendship Day: कारोबार के साथ-साथ अपनी दोस्ती के लिए भी मशहूर हैं ये बिजनेसमैन
फ्रेंडशिप डे के मौके पर आइए जानते हैं बिजनेस वर्ल्ड की कुछ पॉपुलर फ्रेंड्सशिप्स के बारे में...
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कारोबार जगत में प्रतिस्पर्धा होना आम है और कई बार तो यह प्रतिस्पर्धा चर्चित भी हो जाती है. लेकिन कुछ कारोबारी ऐसे भी हैं, जिनकी दोस्ती बिजनेस जगत में चर्चित है. कुछ तो ऐसे हैं, जो बिजनेस पार्टनर भी हैं लेकिन फिर भी उनके बीच में कभी कोई मनुटाव नहीं हुआ. आज फ्रेंडशिप डे (Friendship Day 2022) के मौके पर आइए जानते हैं बिजनेस वर्ल्ड की कुछ पॉपुलर फ्रेंड्सशिप्स के बारे में...

राधेश्याम अग्रवाल और राधेश्याम गोयनका

ये दोनों भारत के इमामी ग्रुप (Emami Group) के फाउंडर्स हैं. राधेश्याम अग्रवाल और राधेश्याम गोयनका की दोस्ती बचपन से शुरू हुई और कारोबारी पार्टनरशिप बनने के बाद भी आज तक जारी है. राधेश्याम गोयनका और राधेश्याम अग्रवाल कोलकाता के एक ही स्कूल में थे. दोनों का परिचय एक कॉमन फ्रेंड के जरिए हुआ. राधेश्याम अग्रवाल, राधेश्याम गोयनका से सीनियर थे. दोनों की दोस्ती इतनी गहराई कि दोनों ने साथ में कारोबार की नींव डाली और दोनों के परिवारों में घर जैसे संबंध हैं. फरवरी 2022 में दोनों फाउंडर्स ने इमामी लिमिटेड में अपने एग्जीक्यूटिव रोल छोड़ने का फैसला किया था. गोयनका एक अप्रैल 2022 से कंपनी में गैर-कार्यकारी चेयरमैन हैं, जबकि अग्रवाल मानद चेयरमैन हैं.

रतन टाटा और शांतनु नायडू

टाटा सन्स के चेयरमैन एमिरेट्स रतन टाटा और युवा शांतनु नायडू की दोस्ती भारतीय बिजनेस जगत में काफी चर्चित हो चुकी है. 28 दिसंबर 2021 को रतन टाटा का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह शांतनु नायडू के साथ अपने 84वें जन्मदिन पर बड़ी ही सादगी से सेलिब्रेट करते दिखे थे. वीडियो में शांतनु, टाटा के कंधे पर हाथ रखे हुए नजर आ रहे थे. शांतनु, टाटा ग्रुप में काम करते हैं और उम्र के अंतर के बावजूद उनकी व रतन टाटा की बॉन्डिंग काफी अच्छी है. वर्तमान में शांतनु और रतन टाटा मिलकर सड़क पर दुर्घटनाग्रस्त आवारा पशुओं की मदद के लिए काम करते हैं. आवारा पशुओं के लिए शांतनु और रतन टाटा के दिल में खास जगह ने ही दोनों को मिलवाया था. कहा जाता है कि रतन टाटा अपना पर्सनल निवेश जिन स्टार्टअप्स में करते हैं, उनके पीछे 28 साल के शांतनु का दिमाग होता है. इतना ही नहीं यह भी कहा जाता है कि शांतनु ने ही रतन टाटा को सोशल मीडिया से परिचित कराया. शांतनु की खुद की एक कंपनी मोटोपॉज भी है, जो कुत्तों के लिए अंधेरे में चमकने वाला रिफ्लेक्टर कॉलर बनाती है. 

वॉरेन बफे और चार्ली मुंगेर

वॉरेन बफे (Warren Buffett) और चार्ली मुंगेर की दोस्ती को 60 वर्ष हो चुके हैं. वॉरेन बफे अमेरिकी कंपनी बर्कशायर हैथवे के मालिक हैं और चार्ली कंपनी के वाइस चेयरमैन हैं. दोनों 1978 से बिजनेस पार्टनर हैं. पहली बार दोनों की मुलाकात 1959 में एक डिनर पर हुई थी. दोनों का नाम अरबपतियों की लिस्ट में शामिल है. बफे, मुंगेर को अपना दाहिना हाथ और सबसे करीबी पार्टनर बताते हैं. दोनों की मजाकिया स्वभाव के हैं और परोपकारी गतिविधियों में सक्रिय रहते हैं.

वॉरेन बफे और बिल गेट्स

माइका्रेसॉफ्ट के कोफाउंडर अरबपति बिल गेट्स (Bill Gates) और वॉरेन बफे भी काफी अच्छे दोस्त हैं. उनकी दोस्ती को 25 वर्ष हो चुके हैं. गेट्स साल 2004 से लेकर 15 सालों तक बर्कशायर हैथवे के बोर्ड में रहे. वहीं वॉरेन बफे, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन में 15 सालों तक ट्रस्टी रहे. बिल व मेलिंडा के तलाक के बाद बफे ने गेट्स फाउंडेशन के ट्रस्टी की भूमिका से इस्तीफा दिया. बफे ने 2006 में बर्कशायर हैथवे में अपनी 85 प्रतिशत होल्डिंग्स, गेट्स फाउंडेशन को दान कर दी थी. उनकी ओर से गेट्स फाउंडेशन को दान का सिलसिला जारी है. गेट्स और बफे की दोस्ती 1990 के दशक में शुरू हुई. गेट्स ने एक बार कहा था कि बफे के साथ उनकी दोस्ती ने ही उन्हें और मेलिंडा को साल 2000 में खुद की फिलांथरोपी शुरू करने के लिए प्रेरित किया. दोनों दोस्त अक्सर सार्वजनिक आयोजनों में साथ-साथ दिखते हैं. महामारी के दिनों में दोनों ऑनलाइन ब्रिज भी खेला करते थे.