[फंडिंग अलर्ट] एडटेक स्टार्टअप इंस्टासॉल्व ने प्री-सीरीज़ ए फंडिंग राउंड में जुटाये 2 मिलियन डॉलर

By Thimmaya Poojary
June 22, 2020, Updated on : Tue Jun 23 2020 05:44:45 GMT+0000
[फंडिंग अलर्ट] एडटेक स्टार्टअप इंस्टासॉल्व ने प्री-सीरीज़ ए फंडिंग राउंड में जुटाये 2 मिलियन डॉलर
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

स्टार्टअप के अनुसार ताजा फंडिंग का उपयोग विभिन्न भाषाओं में राज्य स्तरीय पाठ्यक्रम के प्रश्न और उत्तर आधार के विस्तार के लिए किया जाएगा।

सांकेतिक चित्र

सांकेतिक चित्र



नोएडा स्थित एडटेक स्टार्टअप इंस्टासॉल्व ने अघोषित निवेशकों से प्री-सीरीज़ ए राउंड फंडिंग में 2 मिलियन डॉलर का निवेश जुटाया है। कंपनी विज्ञान और गणित के विषयों और IITJEE और NEET में कक्षा 6 से 12 वीं तक के छात्रों के लिए एक समाधान ऐप उपलब्ध कराती है।


स्टार्टअप के अनुसार ताजा फंडिंग का उपयोग विभिन्न भाषाओं में राज्य स्तरीय पाठ्यक्रम के प्रश्न और उत्तर आधार के विस्तार के लिए किया जाएगा। यह अधिक सुविधाओं को विकसित करने की योजना भी बना रहा है ताकि छात्र ऐप पर ही ट्यूशन और कोचिंग भी ले सकें।


आदित्य सिंघल, निशांत सिन्हा, बाहुल अरोरा द्वारा जून 2019 में स्थापित इंस्टासॉल्व ऐप पर एक प्रश्न की एक तस्वीर पर क्लिक करके छात्रों को उनके सवालों के तुरंत जवाब पाने में मदद करता है।


इंस्टासॉल्व के संस्थापक मानते हैं कि छात्रों को विशेष रूप से विज्ञान और गणित में विभिन्न प्रश्नों को हल करने में चुनौतीपूर्ण समय का सामना करना पड़ता है। यह अनुमान लगाया जाता है कि भारतीय छात्र प्रतिदिन लगभग एक अरब समस्याएँ इंटरनेट पर पोस्ट करते हैं।





स्टार्टअप के अनुसार इसने लोकप्रिय पुस्तकों के लिए फोटो और वीडियो समाधानों का निर्माण किया है। इंस्टासॉल्व का दावा है कि इसे रोजाना ऐप पर तीन मिलियन सवाल मिलते हैं।


इंस्टासॉल्व ने विज्ञान और गणित के लिए प्रति माह 800 रुपये और इसके बाद के बाजार की तुलना में 800 रुपये की लागत से लाइव ऑनलाइन कक्षाएं भी शुरू की हैं। स्टार्टअप के अनुसार यह इन वर्गों को कम कीमत के पॉइंट पर पेश कर रहा है क्योंकि यह सभी प्रकार के छात्रों के लिए शिक्षा को लोकतांत्रिक बनाना चाहता है।


आदित्य और निशांत आईआईटी-दिल्ली के स्नातक हैं और पूर्व में बड़ा एडटेक व्यवसाय बना चुके हैं। इन दोनों संस्थापकों के लिए यह दूसरा उपक्रम है।


कोविड-19 के समय में जब अधिकांश व्यवसाय बचाए रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, एडटेक क्षेत्र इस संकट से बचा हुआ है। वास्तव में एडटेक स्टार्टअप्स की एक महत्वपूर्ण संख्या में मार्च के बाद से उच्च राजस्व वृद्धि देखी गई है।