Getting Things Done: बिना टेंशन लिए काम में प्रोडक्टिव रहने का हुनर सिखाती है ये किताब

किताब के लेखक डेविन एलन टास्क यानी काम की सेलेक्टिंग, क्लियरिंग और मैनेजिंग करने की प्रक्रिया के बारे में बात करती है. किताब में एलेन ने जो नुस्खे सुझाएं हैं वो आपको बिना तनाव लिए काम पूरा करने में मददगार साबित तो होंगे ही साथ जिंदगी के अन्य मोर्चों पर भी कारगर साबित होंगे.

Getting Things Done: बिना टेंशन लिए काम में प्रोडक्टिव रहने का हुनर सिखाती है ये किताब

Saturday December 10, 2022,

3 min Read

हममें से कई ऐसे लोगों हैं जिन्हें लगता है कि उनके पास बहुत सारा काम है, लेकिन समय की कमी है. लेकिन, हमारे ही आसपास कुछ ऐसे लोग भी हैं जो उसी काम को उतने ही समय में बड़ी आसानी से करके निपटा देते हैं और अपनी पर्सनल लाइफ के लिए भी समय निकाल लेते हैं.

ये देखकर तनाव और बढ़ जाता है, हम सोचने लगते हैं कि आखिर हमसे वो काम क्यों नहीं समय से पूरा हो पा रहा. अगर आप भी इन्हीं लोगों में से हैं तो आपको बतादें कि ऐसी कोई चीज नहीं है जो आपको काम पूरा करने से रोक सकती है. बस जरूरत है तो नजरिए में और अपने काम करने के तरीके में थोड़ा बदलाव लाने की.

डेविन एलन ने गेटिंग थिंग्स डन नाम की किताब में इसी नजरिए को बदलने और काम करने के तरीके में बदलाव लाने के कुछ नुस्खे सुझाएं हैं, जो आपको बिना तनाव लिए काम पूरा करने में मददगार साबित हो सकते हैं.

ये किताब बिना स्ट्रेस लिए काम में प्रोडक्टिव बने रहने, प्रोडक्टिविटी हासिल करने जैसी चीजों के बारे में बात करती है. डेविन एलन खुद एक प्रोडक्टिविटी गुरू होने के साथ एक प्रोफेशनल प्रोडक्टिविटी कंसल्टेंट भी हैं. डेविन न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलिंग ऑथर भी हैं. ये किताब 2001 में छपी थी.

किताब का शुरुआती हिस्सा थोड़ा बोरिंग लग सकता है, लेकिन जैसे-जैसे आगे बढ़ते हैं किताब में इंटरेस्ट आने लगता है. सबसे दिलचस्प बात ये कि किताब में जो भी तरीके और सिस्टम बताए गए हैं वो वाकई काम करते हैं.

किताब टास्क यानी काम की सेलेक्टिंग, क्लियरिंग और मैनेजिंग करने की प्रक्रिया के बारे में बात करती है. किताब में बताया गया फॉर्म्यूला न सिर्फ जॉब में काम आएगा बल्कि जिंदगी के अन्य मोर्चे पर भी उतना ही कारगर साबित होने वाला है.

नाम के मुताबिक किताब जाहिर तौर पर टास्क पूरा करने के तरीके सीखाती है लेकिन ये सिर्फ जॉब तक सीमित नहीं है. ये किताब आपको वर्क और लाइफ के बीच अपना समय सही तरीके से देने के गुर भी सीखाती है.

किताब में एक ऐसे 5 स्टेप प्रोसेस के बारे में बताया गया है जो किसी भी नए काम को कैटेगराइज करने में काम आती है.  इस प्रक्रिया की काफी सराहना भी की गई है.  ये पांच स्टेप हैं-

कैप्चर- कलेक्ट वॉट हैज योर अटेंशन यानी जिस चीज पर आपका फोकस है पहले उन कामों को चुनें. 

क्लैरिफाई- किसी भी काम को ठीक से समझें.

ऑर्गनाइज- जो सामान जहां से उठाएं वापस वहीं रख दें.

रिफ्लेक्ट- अपने काम की अक्सर समीक्षा करते रहें 

इंगेज- किसी भी काम को करने का सबसे पहले स्टेप है उसे शुरू करना.

एलेन कहते हैं कि प्रोडक्टिव बनने का सबसे अच्छा तरीका है दिमाग से सभी तरह के भटकाव को दूर करें और जो काम है उस पर फोकस करें. ये काम करने के लिए आपको एक टू-डू लिस्ट बनाना चाहिए.

फिर, उन कामों को और छोटे छोटे हिस्सों में बांटें इससे वो काम करना आसान हो जाएगा. वो कहते हैं कि जो काम 2 मिनट के अंदर हो सकता है उसे फौरन करके निपटा देना चाहिए.

कुल मिलाकर एलेन इस किताब के जरिए लोगों की जिंदगी से तनाव और चिंता को दूर करना चाहते हैं. ताकि लोग उस काम को कर सकें जो वो करना चाहते हैं.

किताब में आप तनाव मुक्त होने, ज्यादा एनर्जी हासिल करने, दिमाग में स्पष्टता लाने, वर्तमान में जीने और कम कोशिश में ज्यादा से ज्यादा काम पूरा करने जैसी चीजों के बारे में गहन जानकारी और स्ट्रैटजी सीखेंगे.


Edited by Upasana