अगले 1 साल में 50 करोड़ के निवेश के साथ फ़ूड टेक प्रोग्राम को आगे बढ़ाएगा Ghost Kitchen

By yourstory हिन्दी
October 13, 2022, Updated on : Fri Oct 14 2022 04:31:07 GMT+0000
अगले 1 साल में 50 करोड़ के निवेश के साथ फ़ूड टेक प्रोग्राम को आगे बढ़ाएगा Ghost Kitchen
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Ghost Kitchens India Pvt Ltd - एक इंटरनेट रेस्‍टोरेन्‍ट टेक प्‍लेटफॉर्म है. यह कम प्रयुक्त क्षमताओं वाले रेस्‍टोरेन्‍ट्स और क्‍लाउड किचंस को बिना किसी निवेश के ज्‍यादा कमाई करने में मदद देता है. कंपनी ने गुजरात के भरूच में अपने 100वें फुलफिलमेंट पार्टनर की शुरूआत की घोषणा की है. कंपनी का लक्ष्‍य अगले एक साल में 50 करोड़ रुपये के निवेश के जरिए अपने ब्राण्‍ड की मौजूदगी को और भी बढ़ाना है.


गुजरात के भरूच में 50वें आउटलेट के साथ घोस्‍ट किचंस के कुल इन्टरनेट रेस्टोरेंट्स की संख्या पिछले 10 महीनों में 1200 से अधिक पर पहुँच गई है और इस प्रकार वह भारत में सबसे तेजी से बढ़ रहे इंटरनेट रेस्‍टोरेन्‍ट टेक प्‍लेटफॉर्म्‍स में से एक बन गया है. घोस्‍ट किचंस अभी 35 शहरों में मौजूद है, जिनमें सभी प्रमुख मेट्रोपोलिटन सेंटर्स शामिल हैं. यह ब्राण्‍ड पश्चिम भारत में 40, दक्षिण, पूर्वी और उत्‍तर भारत में 20-20 पार्टनर्स के साथ पूरे भारत में कारोबार करता है. अभी और 50 पार्टनर्स बनाने की बात चल रही है और अगले 2 महीनों में ये सभी वास्तविक रूप में आ जाएंगे.


घोस्‍ट किचंन ऐसे रेस्‍टोरेन्‍ट्स की समस्‍या को हल करता है, जो कि एग्रीगेटर्स के अल्‍गोरिदम्‍स की कम समझ के कारण फूड डिलीवरी के पर्याप्‍त ऑर्डर नहीं ले पाते हैं. घोस्‍ट किचंस का अनोखा इंटरनेट रेस्‍टोरेन्‍ट टेक प्‍लेटफॉर्म बाजार में इस तरह का एकमात्र सॉल्‍यूशन है और ऐसी कोई कंपनी नहीं है, जो यह सेवा निर्मित और प्रदान कर सकी है.


2019 में शुरू हुई घोस्‍ट किचंस ने फंडिंग के 2 राउंड्स में 1.2 मिलियन अमेरिकी डॉलर जुटाए हैं. इसके प्रमुख निवेशकों में युज वेंचर्स (जैन्डर ग्रुप के संस्‍थापक सिड योग के फैमिली ऑफिस की निजी निवेश शाखा), ढोलकिया वेंचर्स, सालारपुरिया फैमिली ऑफिस, ट्रेमिस कैपिटल, शंकर नारायणन और अन्‍य प्रतिष्ठित एंजल्‍स शामिल हैं.


इस उपलब्धि पर घोस्‍ट किचंस के सीओओ, कुमार गौरव ने कहा कि, "अपनी शुरूआत के बाद हमने थोड़े ही समय में सफलता के नए अध्याय जोड़े हैं. आज हमारे पास कई पार्टनर्स हैं, जिन्‍होंने कई स्‍टोर्स खोले हैं. इस सफलता के केन्‍द्र में हमारे स्‍वामित्‍व वाली टेक्‍नोलॉजी है, जो छोटे रेस्‍टोरेन्‍ट के मालिकों को ग्राहक की भावना समझने में समर्थ बना रही है, जिससे उन्‍हें सर्वश्रेष्‍ठ ग्राहकीय अनुभव देने में सहायता मिल रही है. इससे आखिरकार उन्‍हें सभी ब्राण्‍ड्स के ज्‍यादा फूड डिलीवरी ऑर्डर्स पाने में मदद मिलती है. हम भारत के हर रेस्‍टोरेन्‍ट को फायदेमंद बनाने के अपने सपने को साकार करने की दिशा में आत्‍मविश्‍वास के साथ बढ़ रहे हैं."


घोस्‍ट किचंस हर पार्टनर को एक क्विजि़न कैटेगरी देती है, जिसमें अंतिम उपभोक्ता के लिए विशिष्ट मूल्य प्रस्ताव के साथ 4-6 ब्राण्‍ड्स होते हैं. कम इस्‍तेमाल हुईं क्षमताओं वाला रेस्‍टोरेन्‍ट या क्‍लाउड किचन चलाने वाले को इस प्रकार घोस्‍ट किचंन तक पहुँचने और अपने ब्राण्‍ड्स जोड़ने का मौका मिलता है. कंपनी ने दक्षिण भारत में होटल चेन एसवीएन होटल्‍स के साथ भी साझेदारी की है. कंपनी साझेदारी के लिये विभिन्‍न होटलों और क्‍यूएसआर चेनों के साथ बात कर रही है, ताकि इसका प्रोग्राम उनके सभी स्‍टोर्स पर चलाया जा सके.


इस मौके पर एसवीएन होटल्‍स के एमडी, यशवंत ने कहा कि, "हमने फरवरी 2022 से घोस्‍ट किचन के विभिन्‍न उत्‍तम ब्राण्‍ड्स, जैसे कि स्‍टारबॉय पिज्‍ज़ा, न्‍यूयॉर्क वैफल्‍स और घोस्‍ट किचंस पोर्टफोलियो के अन्‍य ब्राण्‍ड्स को अपने होटल किचंस से जोड़ा है. एग्रीगेटर के अच्‍छे प्रबंधन और तैयार फूड प्रोडक्‍ट्स के कारण हम बिना किसी निवेश के काफी अच्‍छा फायदा कमा सके. अब हम घोस्‍ट किचंस के साथ आगे के विस्‍तार की योजना पर काम कर रहे हैं."


घोस्‍ट किचन 2000 से ज्‍यादा इंटरनेट रेस्‍टोरेन्‍ट्स के साथ 500 पार्टनर्स बनाना चाहती है और इस प्रकार 2023 तक भारत की टॉप-3 इंटरनेट रेस्‍टोरेन्‍ट कंपनियों में से एक बनना चाहती है. उसका इन-हाउस ब्राण्‍ड स्‍टारबॉय पिज्‍ज़ा अभी सबसे ज्‍यादा 65 स्‍टोर्स पर है, जिसके बाद 40 से ज्‍यादा स्‍टोर्स के साथ न्‍यूयॉर्क वैफल्‍स का नंबर आता है. इस ब्राण्‍ड ने काकिनाडा, विजियाग्राम, भावनगर, भद्रक, कटक, जोधपुर, भीलवाड़ा, बरेली, आदि जैसे टीयर 3 और 4 शहरों में उल्‍लेखनीय उपस्थिति दर्ज की है.


Edited by रविकांत पारीक

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close