गुरुग्राम स्थित इस डेयरी स्टार्टअप के पास है मिलावट से लड़ने का तरीका

21st Mar 2020
  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) द्वारा पिछले साल किए गए एक राष्ट्रीय-स्तर के सर्वेक्षण में पाया गया कि भारत में खपत होने वाले अधिकांश दूध में मिलावट है। असंगठित आपूर्तिकर्ता स्वच्छता और गुणवत्ता मानकों से अवगत नहीं हैं। वे बाजार में अशुद्ध, असंसाधित दूध को फील्ड में ताजा और शुद्ध के तौर पर पेश करने की दौड़ में हैं। यह बड़ी संख्या में भारतीयों के स्वास्थ्य को जोखिम में डालता है।


ल

NutriMoo के फाउंडर्स (बाएं से दाएं) अमित शर्मा और अजय यादव



दूसरी ओर, भारत को उत्पादन में खराबी के कारण दूध की कमी का सामना करना पड़ रहा है। इसी तरह, अन्य खाद्य श्रेणियों में भी, घी में व्यापक रूप से मिलावट है, शहद में इनवर्टेड सुगर सिरप का अनियंत्रित उपयोग और मिलावटी दूध के साथ कम गुणवत्ता वाले दूध का उपयोग पनीर और अन्य उत्पादों का उत्पादन करने के लिए किया जाता है।


इन परेशान करने वाले रुझानों पर ध्यान देते हुए, अमित शर्मा और अजय यादव ने स्वच्छता और अभिनव मानकों को सुनिश्चित करने के लिए अत्याधुनिक स्वचालन के साथ समर्थित डेयरी, खाद्य और पौष्टिक उत्पादों के उत्पादन के उद्देश्य से एक कंपनी शुरू की। गुरुग्राम में 1 मई, 2016 को लॉन्च की गई कंपनी क्रेडेंस होल फूड्स प्राइवेट लिमिटेड 'न्यूट्रीमू' (NutriMoo) ब्रांड नाम से डेयरी उत्पाद तैयार करती है।


लक्ष्य

कंपनी के संस्थापक अमित शर्मा और अजय यादव बचपन से ही एक-दूसरे को जानते हैं। जहां अजय डेयरी पृष्ठभूमि से आते हैं, तो वहीं अमित को बड़े और जटिल कार्यक्रमों को मैनेज करने के कौशल के साथ कॉर्पोरेट अनुभव भी है। उनकी स्किल्स एक-दूसरे की पूरक हैं क्योंकि अजय खरीद और बैकएंड संचालन संभालते हैं और अमित रणनीति, मार्केटिंग, फाइनेंस, सेल्स और आईटी पर ध्यान केंद्रित करते हैं।


वर्तमान में NutriMoo में 50 कर्मचारियों की एक टीम है। Nutrimoo 100 प्रतिशत शुद्ध, ताजा, हार्मोन-मुक्त और परिरक्षक-मुक्त डेयरी और संपूर्ण खाद्य उत्पादों का वादा करता है, और यह दावा करते हैं कि किसी भी मिलावट से पूरी तरह मुक्त हैं।


यह ब्रांड पारंपरिक उत्पाद और उनके प्रकार जैसे गाय का घी, देसी घी, शहद (हिमालयन, तुलसी, अजवाईन और दालचीनी), दही, ताजा पनीर (कॉटेज चीज), छाछ (बटरमिल्क) प्रदान करता है।


न्यूट्रीमू के सह-संस्थापक और निदेशक अमित शर्मा कहते हैं,

“दूध को उत्तर भारत के दुग्ध-समृद्ध क्षेत्रों से इकट्ठा किया जाता है जो सीधे फॉर्म से हांथ से निकाला हुआ होता है और कई स्तरों पर कड़े परीक्षण प्रक्रियाओं के माध्यम से डाला जाता है। फार्म-टू-होम कोल्ड चेन को एक इन-हाउस इंटीग्रेट सिस्टम और बुनियादी ढांचे के माध्यम से बनाए रखा जाता है। बागपत, यूपी में एकमात्र दुग्ध प्रसंस्करण संयंत्र अच्छी तरह से सुसज्जित है और प्रति दिन 50,000 लीटर की प्रसंस्करण क्षमता के साथ पास्चुरीकरण, बंध्याकरण और होमोजिनेशन में विश्व मानकों के अनुरूप है।”


अमित कहते हैं,

"इसी तरह, बड़े हैंडपिक्ड फॉर्म्स से शहद खरीदा जाता है और 70 मीट्रिक टन प्रति दिन की बड़ी प्रोसेसिंग क्षमता वाले अत्याधुनिक ऑटोमेटेड प्लांट में पैक किया जाता है।"





Nutrimoo द्वारा लॉन्च किए जा रहे नए उत्पादों में विभिन्न स्वादों में प्रोसेस्ड चीज स्लाइस शामिल हैं इनमें- क्लासिक, ऑरिगानो, पेरी-पेरी और पिज्जा मोजेरेला चीज, मल्टीग्रेन कैरेल्स (रागी, क्विनोआ, व्हीट और बारले के साथ मल्टीग्रेन ओट्स, फ्रूट और नट के साथ म्यूजली और फ्रूट्स, नट्स और क्विनोआ के साथ म्यूजली), पैकेज्ड पनीर, और कप दही शामिल हैं।


टारगेट ऑडियंस

वे कहते हैं,

“हम बड़े पैमाने पर प्रीमियम श्रेणी के ग्राहकों को टारगेट कर रहे हैं जो उच्च मध्यम वर्ग से हैं और उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों के लिए प्रीमियम का भुगतान करने को तैयार हैं। अधिकांश टारगेट ऑडियंस (टीजी) उच्च-मध्यम वर्ग और शिक्षित महिलाएं (कामकाजी और गैर-कामकाजी) हैं, जो ब्रांड मूल्य की सराहना करते हैं।"


अमित का कहना है कि शुरू करने के लिए, हमारा ध्यान दिल्ली-एनसीआर है और धीरे-धीरे हम आने वाले हफ्तों में उत्तर भारत के अन्य शहरों का रुख करेंगे।

क

NutriMoo के प्रोडक्ट

ऑनलाइन उपस्थिति

न्यूट्रीएमू सोर्सिंग, प्रोडक्शन और ताजगी सुनिश्चित करने के लिए टाइट क्वालिटी कंट्रोल और जितना संभव हो उतना कम समय रखने का दावा करता है। यह ब्रांड वर्तमान में एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स के लिए उपलब्ध अपनी वेबसाइट और मोबाइल ऐप के साथ-साथ प्रमुख ऑनलाइन पोर्टल्स - अमेजॉन प्राइम, फ्लिपकार्ट, स्विगी स्टोर्स और बिगबास्केट के माध्यम से बेचता है।


अमित कहते हैं,

"न्यूट्रीमू दो शब्दों 'न्यूट्री' + 'मू' का संयोजन है, जिसका अर्थ है स्वास्थ्य और कल्याण के आसपास पौष्टिक सुपरफूड पहुंचाना।"


बाजार और राजस्व

ऑनलाइन उपस्थिति के अलावा, NutriMoo ऑफलाइन खुदरा वितरण नेटवर्क को भी लक्षित कर रहा है। वे कहते हैं,

“चरण- I के हिस्से के रूप में, कंपनी लगभग 2,000 आउटलेट्स में दिल्ली-एनसीआर में उत्पादों को लॉन्च करने का लक्ष्य बना रही है, इसके बाद उत्तर भारत और फिर पैन-इंडिया का लक्ष्य है। कंपनी के पास पहले से ही दिल्ली-एनसीआर में 500 से अधिक प्रीमियम रिटेल स्टोर में मौजूदगी है।”


अमित आगे कहते हैं कि पिछले तीन वर्षों में न्यूट्रिमू के राजस्व में 3 गुना की वृद्धि हुई है और पिछले वर्ष से वित्त वर्ष 2020 में इसके 3 गुना बढ़ने की उम्मीद है।


अमित कहते हैं,

''वित्त वर्ष 20 की आय 40 करोड़ रुपये के करीब पहुंचने की योजना है और वित्त वर्ष 2021 के लिए लक्ष्य 130 करोड़ रुपये है।"


अक्टूबर 2019 में, कंपनी ने इंडोकेन हनी प्राइवेट लिमिटेड से रणनीतिक निवेश में $1 मिलियन (लगभग 7.08 करोड़ रुपये) से अधिक जुटाया। इंडोकेन एक व्यवसायिक इकाई है जो प्रीमियम गुणवत्ता वाले शहद पर केंद्रित है। यह निवेश टाइम्स ग्रुप की निवेश शाखा, ब्रांड कैपिटल द्वारा किए गए एक बड़े निवेश के बाद था।


डेयरी सेगमेंट के अन्य प्लेयर्स में स्विगी का सुपर डेली, मिल्कबास्केट, डेली निन्जा, कंट्री डिलाइट और प्रोविलेक डेयरी फार्म शामिल हैं। वहीं पिछले साल बेंगलुरु के दुधवाला ने परिचालन बंद कर दिया था।


अमित कहते हैं,

“डेयरी और सुपरफूड्स उद्योग में कोई हाइप नहीं है, बल्कि यह अंडरपेनेट्रेटेड है, जिसका आगे जाने की बहुत संभावना है। बढ़ती आय और बढ़ती जागरूकता के साथ, ग्राहक अपने कल्याण और स्वास्थ्य पर ध्यान देने की आवश्यकता के बारे में जागरूक हो रहे हैं। इसलिए, हम अधिक से अधिक ग्राहकों को गुणवत्ता वाले उत्पादों के साथ एक स्वस्थ जीवन शैली के लिए चुन रहे हैं।”


उन्होंने कहा,

''वित्त वर्ष 2021 तक भारत के डेयरी क्षेत्र का राजस्व बढ़कर 10 लाख करोड़ रुपये होने का अनुमान है और ब्रांडेड मूल्यवर्धित उत्पादों का बाजार 90,000 करोड़ रुपये होने का अनुमान है।

How has the coronavirus outbreak disrupted your life? And how are you dealing with it? Write to us or send us a video with subject line 'Coronavirus Disruption' to editorial@yourstory.com

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

Our Partner Events

Hustle across India