विवादों में रहे Lulu Mall के इंडिया में आने की कहानी

Lulu international group के चेयरमैन और एमडी एम ए युसुफ का आज जन्मदिन है. उन्होंने ही 2013 में पहली बार केरल में लुलु शॉपिंग मॉल्स (lulu shopping mall) की शुरुआत की थी. 2013 से लेकर अब तक इंडिया में लुलु ग्रुप के 5 मॉल्स हो चुके हैं.

विवादों में रहे Lulu Mall के इंडिया में आने की कहानी

Tuesday November 15, 2022,

4 min Read

शॉपिंग मॉल्स को शुरुआती दौर में बड़े इनडोर शॉपिंग सेंटर्स की तरह जाने जाते थे मगर बीते कुछ सालों में इनका मॉडल काफी बदला है और अब ये फूड और एंटरटेनमेंट हब की तरह लोगों की बीच पॉपुलर हो रहे हैं.

शुरुआती दौर से लेकर आज की तारीख में इस फील्ड में कई बड़े बड़े नाम खड़े हो चुके हैं मगर एक ग्रुप है जो आज भी इस भीड़ में खुद को सबसे अलग खड़ा किए हुए है और वो है लुलु मॉल(Lulu mall).

लुलु शॉपिंग मॉल लुलु ग्रुप इंटरनैशनल(Lulu group international) का एक डिविजन है. लुलु मॉल अपना बिजनेस शुरू करने के दिन से लेकर आज तक लोगों को अव्वल दर्जे के रिटेल, डाइनिंग और एंटरटेनमेंट सुविधा ऑफर कर रहा है.

वैसे तो इसका मालिक यूएई बेस्ड एक ग्रुप है मगर इंडिया में भी लुलु मॉल्स लोगों के बीच काफी मशहूर है. लुलु मॉल की फैसिलिटी तो इसका कारण है ही मगर इसके चेयरमैन और एमडी का भी इस पॉपुलैरिटी के पीछे बड़ा हाथ रहा है.

दरअसल ग्रुप के एमडी और चेयरमैन एम ए युसुफ भारतीय मूल के हैं. उन्होंने ही भारत में लुलु मॉल की शुरुआत की. लुलु इंटरनैशनल ग्रुप ने 2013 में इंडिया में पहली बार कदम रखा. केरल के कोच्चि में लुलु इंटरनैशनल ग्रुप का पहला शॉपिंग मॉल 10 मार्च, 2013 को खोला गया. यह इसका इंडिया में पहला रिटेल वेंचर था और इंडिया का सबसे बड़ा मॉल है.

इस समय इंडिया में लुलु ग्रुप के टोटल 5 शॉपिंग मॉल्स हो चुके हैं. कोच्चि के अलावा बेंगलुरु, तिरुवनंतपुरम, त्रिसूर और लखनऊ में भी इसके मॉल हैं. सभी लुलु मॉल्स में इंटरनैशनल और नैशनल स्टोर्स की रेंज मौजूद है. हर मॉल में कुछ एंकर स्टोर्स भी मौजूद हैं जो इसे अन्य मॉल्स चेन से अलग बनाते हैं.

लुलु ग्रुप इंडिया में शॉपिंग मॉल्स के अलावा दिल्ली, मुंबई, कोच्चि, तिरुवनंतपुरम, चेन्नै, लखनऊ और त्रिसूर में फूड और नॉन फूड प्रॉडक्ट्क्स और कन्वेंशन सेंटर भी हैं. लुलु शॉपिंग मॉल की पैरंट कंपनी लुलु ग्रुप इंटरनैशनल लुलु हाइपरमार्केट चेन की भी मालिक है.

एम. ए. युसुफ के बारे में

एम ए युसुफ का पूरा नाम युसुफ अली मुसालिअम वीत्तिल अब्दुल कादिर है. उनका जन्म 15 नवंबर, 1955 को हुआ था. त्रिसुर के नट्टिका में पैदा हुए युसुफ ने करनचिरा के सेंट जेवियर्स हाई स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी की. उन्होंने बिजनेस मैनेजमेंट और एडमिनिस्ट्रेशन डिप्लोमा किया.

पढ़ाई पूरी करने के बाद युसुफू 1973 में अबू धाबी शिफ्ट हो गए. अबू धाबी में लुलु ग्रुप ऑफ कंपनीज के फाउंडर और चेयरमैन और युसुफ के चाचा एम के अब्दुल्लाह पहले से ही बिजनेस शुरू कर चुके थे.

युसुफ ने अबू धाबी जाकर फैमिली बिजिनेस को जॉइन कर लिया. ग्रुप जॉइन करने के बाद उन्होंने बिजनेस को नई बुलंदियों पर पहुंचाया. उन्होंने लुलु ग्रुप के इंपोर्ट और होलसेल डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क को डिवेलप किया.

लुलु हाइपरमार्केट लॉन्च करने के साथ वो ग्रुप को सुपरमार्केट बिजनेस सेगमेंट में ले गए. उन्होंने 1990 में पहला लुलु हाइपरमार्केट खोला, उस समय यूएई में रिेटेल सेक्टर में बड़े बदलावों से गुजर रहा था.

लुल ग्रुप इंटरनैशनल

इस ग्रुप की शुरुआत फैमिली बिजनेस वेंचर की तरह हुई थी. युसुफ ने बिजनेस को जॉइन करने के बाद यूरोप और अमेरिका से फ्रोजन प्रॉडक्ट्स के इंपोर्ट और डिस्ट्रिब्यूशन में बिजनेस को डाइवर्सिफाई किया.

इन प्रॉडक्ट्स को उन्होंने अबू धाबी के अलावा अन्य एमिरेट्स में भी उपलब्ध कराया. बिजनेस फूड और नॉन फूड दोनों कैटिगरी में एक्सपैंड किया गया. ग्रुप ने होटल्स के लिए कोल्ड स्टोरेज, मीट और फूड प्रोसेसिंग प्लांट्स, लार्ज स्केल इंपोर्ट एंड डिस्ट्रीब्यूशन शुरू करके शिपिंग सर्विसेज में भी मौजूदगी बढ़ाई. 1980 तक ग्रुप के पास यूएई में होलसेल और रिटेल फूड मार्केट का एक बड़ा मार्केट शेयर आ चुका था.

लुलु ग्रुप अभी तीन महाद्वीपों में मौजूद है. ग्रुप के लुलु हाइपरमार्केट्स और सुपरमार्केट्स के फ्लैगशिप रिटेल चेन को इस समय मिडल ईस्ट में सबसे बड़े प्लेयर्स की लिस्ट में गिना जाता है.

हाइपरमार्केट्स और सुपरमार्केट्स के अलावा ग्रुप कई शॉपिंग मॉल भी चलाता है. इसके अलावा लुलु ग्रुप ट्रेडिंग, शिपिंग, आईटी, ट्रैवल एंड टूरिज्म, एजुकेशन क्षेत्र में भी मौजूद है.

आज की तारीख में एम ए युसुफ को मिडिल ईस्ट का रिटेल किंग कहा जाता है. ग्रुप की कमाई 8 अरब डॉलर से ऊपर है और इसके साथ 60000 से ज्यादा एंप्लॉयीज काम करते हैं. गल्फ देशों सहित दुनिया भर में इसके 255 स्टोर्स और शॉपिंग मॉल हैं.

लुलु ग्रुप इंटरनैशनल का सालाना टर्नओवर 8 अरब डॉलर का है. इसके अलावा यह भारत के बाहर भारतीयों को नौकरी देने वाला सबसे बड़ा ग्रुप है.फोर्ब्स मिडल ईस्ट ने अरब वर्ल्ड 2018 में टॉप 100 इंडियन बिजनेस ओनर की लिस्ट में युसुफ को पहला नंबर मिला था. डेलॉयट ने लुलु ग्रुप को दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाले रिटेलर्स के खिताब से नवाजा है.