कम खर्च में ही 3 गुना तक मुनाफा देगी ये खेती, पेड़ों की छाया में भी होता है बंपर उत्पादन

By Anuj Maurya
November 28, 2022, Updated on : Mon Nov 28 2022 02:31:32 GMT+0000
कम खर्च में ही 3 गुना तक मुनाफा देगी ये खेती, पेड़ों की छाया में भी होता है बंपर उत्पादन
हल्दी की खेती से आपको तगड़ा मुनाफा होगा. बाजार में इसकी खूब डिमांड रहती है. इसके बहुत सारे औषधीय गुण होते हैं. आप पहले से ही कुछ कंपनियों से संपर्क कर के कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग भी कर सकते हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

बात भले ही खेती (Agricultural Business Idea) की हो या फिर बिजनेस (Turmeric Farming Business Idea) की, जिस चीज की डिमांड खूब रहती है उसी से फायदा होता है. ऐसे में अगर आप हल्दी की खेती करते हैं तो आप तगड़ा मुनाफा कमा सकते हैं. अगर हल्दी की खेती के साथ-साथ आप हल्दी का बिजनेस (Turmeric Business) भी करते हैं तो आपको और ज्यादा फायदा होगा. हल्दी में बहुत सारे औषधीय गुण होते हैं, ऐसे में अगर आप हल्दी की खेती करेंगे तो तगड़ा मुनाफा (Profit in Turmeric Farming) होगा. आइए जानते हैं कैसे की जाती है हल्दी की खेती (How To Do Turmeric Farming) और इससे आपको कितना मुनाफा हो सकता है.

कब और कैसे करें हल्दी की खेती?

हल्दी की बुआई मई-जून के दौरान की जाती है. जिस भी खेत में हल्दी की खेती करनी है उसे पहले 2-3 बार अच्छे से जोत देना चाहिए, ताकि मिट्टी भुरभुरी हो जाए. मिट्टी जितनी भुरभुरी होगी, उसमें हल्दी उतनी ही अच्छे से बैठेगी. खेत में पानी निकासी की अच्छी सुविधा होनी चाहिए, ताकि पानी ना रुके वरना हल्दी की फसल खराब हो सकती है. हल्दी की खेती उसके छोटे-छोटे अंकुरित बीजों से की जाती है.


हल्दी की खेती लाइनों में की जाती है और थोड़ी बड़ी होने पर उस पर दोनों तरफ से थोड़ी-थोड़ी मिट्टी चढ़ा दी जाती है. इससे फायदा ये होता है कि हल्दी को फैलने और अच्छे से बैठने के लिए ढेर सारी मिट्टी और जगह मिल जाती है. इसकी फसल करीब 8 महीने में तैयार हो जाती है. हल्दी की फसल की अच्छी बात ये है कि यह छायादार जगह में भी अच्छी पैदावार देती है. ऐसे में अगर आप बागवानी करते हैं तो पेड़ों के बीच की जगह में हल्दी लगा सकते हैं और अतिरिक्त कमाई कर सकते हैं.

कितना होगा उत्पादन?

हल्दी की खेती का उत्पादन बहुत हद तक इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस क्वालिटी का बीज लगाते हैं. हल्दी के बीज लेते वक्त ध्यान रखें कि उन्हें अच्छे से उपचारित किया गया हो और उनमें अच्छे से अंकुर आ गया हो. बीज जितने मजबूत होंगे, आपकी फसल उतनी ही बेहतर होगी. इसके बीज आप अपने नजदीकी किसी बीज भंडार से ले सकते हैं या फिर किसी ऐसे किसान से बीज ले सकते हैं, जिसने पहले हल्दी की खेती की हो. ये भी पता कर लें कि आस-पास कोई सरकारी संस्था भी हल्दी के बीज मुहैया कराती है या नहीं. सरकारी संस्था से आपको बेहतर क्वालिटी के बीज भी काफी सस्ते दाम में मिल जाएंगे. एक हेक्टेयर में हल्दी की खेती के लिए आपको करीब 20 क्विंटल तक बीज की जरूरत पड़ेगी.

कितनी लागत और कितना मुनाफा?

हल्दी की खेती में करीब 40-50 हजार रुपये का तो बीज ही लग जाएगा. वहीं इसकी बुआई से लेकर सिंचाई, उर्वरक और फिर हार्वेस्टिंग तक में भी आपका करीब 50 हजार रुपये का खर्च आ जाएगा. यानी 1 हेक्टेयर (करीब 2.5 एकड़) में हल्दी की खेती में आपकी लगभग 1 लाख रुपये की लागत आ जाएगी. अगर आपकी फसल अच्छी रहती है तो आप एक हेक्टेयर से 200 क्विंटल तक हल्दी हासिल कर सकते हैं. यह आराम से 160-180 क्विंटल तो निकल ही जाती है.


अगर मान लें कि आपकी फसल औसत रहती है और आपको सिर्फ 160 क्विंटल ही हल्दी प्राप्त होती है तो भी आपको फायदा ही होगा. कच्ची हल्दी बाजार में बेचने से फायदा नहीं होता है, ऐसे में उसे उबालकर सुखाया जाता है और फिर पीसकर बेचा जाता है. सूखने के बाद हल्दी एक चौथाई रह जाती है. यानी आपकी हल्दी 40 क्विंटल रह जाएगी. अगर आप इसे बिना पीसे भी बेचना चाहते हैं तो भी आसानी से आपको 70-80 रुपये प्रति किलो का भाव मिल जाएगा. यानी आपकी हल्दी 2.80-3.20 लाख रुपये तक की बिकेगी. इस तरह आपको हल्दी की खेती से सिर्फ 8 महीने में ही दोगुने से तीन गुने तक का मुनाफा होगा.

ऐसे खेती करके और बढ़ा सकते हैं कमाई

अगर आप किसी फार्मा या कॉस्मेटिक कंपनी से पहले से ही कॉन्ट्रैक्ट कर लें तो आपको तगड़ा मुनाफा होगा. ऐसा इसलिए क्योंकि इस तरह खेती के जरिए आप पहले ही तय कर पाएंगे कि किस किस्म की हल्दी उगानी है और कितनी मात्रा में उगानी है. यानी हल्दी उगाने के बाद आपको उसे बेचने की भी कोई चिंता नहीं रहेगी. इस तरह खेती में आप बेहतर भाव पहले ही तय कर सकते हैं और हल्दी को प्रोसेस कर के पीसकर या बिना पीसे सीधे कंपनी को भेज सकते हैं. इससे कंपनियों को बेहतर हल्दी मिलेगी और आपको बेहतर दाम.