भारतवंशी वकील किरण आहूजा अमेरिका के कार्मिक प्रबंधन कार्यालय की प्रमुख के तौर पर हुईं नामित

49 वर्षीय किरण आहूजा को यदि सीनेट से मंजूरी मिल जाती है तो वह इस पद पर पहुंचने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी व्यक्ति होंगी।

भारतवंशी वकील किरण आहूजा अमेरिका के कार्मिक प्रबंधन कार्यालय की प्रमुख के तौर पर हुईं नामित

Thursday February 25, 2021,

3 min Read

किरण आहूजा को यदि सीनेट से मंजूरी मिल जाती है तो वह इस पद पर पहुंचने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी व्यक्ति होंगी। आहूजा 2015 से 2017 तक कार्मिक प्रबंधन कार्यालय के निदेशक के चीफ ऑफ स्टाफ के तौर पर भी काम कर चुकी हैं। उन्हें लोक सेवा और गैर लाभकारी क्षेत्र में काम करने का दो दशक से ज्यादा का अनुभव है।

वाशिंगटन, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने भारतीय मूल की वकील और कार्यकर्ता किरण आहूजा को ‘कार्मिक प्रबंधन कार्यालय’ (Office of Personnel Management) की प्रमुख के तौर पर नामित किया है। कार्मिक प्रबंधन कार्यालय, अमेरिका के बीस लाख से अधिक सिविल सेवा अधिकारियों के प्रबंधन का कामकाज देखता है।


49 वर्षीय किरण आहूजा के नामांकन को यदि सीनेट से मंजूरी मिल जाती है तो वह इस पद पर पहुंचने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी व्यक्ति होंगी। आहूजा ने 2015 से 2017 तक कार्मिक प्रबंधन कार्यालय के निदेशक के चीफ ऑफ स्टाफ के तौर पर काम किया था। उन्हें, लोक सेवा और गैर लाभकारी क्षेत्र में काम करने का दो दशक से ज्यादा का अनुभव है।


वर्तमान में वह ‘फिलेनथ्रोपी नार्थवेस्ट’ की मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं जो कि परोपकारी संस्थाओं का एक क्षेत्रीय नेटवर्क है। आहूजा ने अमेरिका के न्याय मंत्रालय में नागरिक अधिकारों की वकील के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की थी। ओबामा-बाइडन प्रशासन के दौरान उन्होंने वाइट हाउस के एक कार्यक्रम की कार्यकारी निदेशक के तौर पर छह साल तक सेवा दी थी।


आहूजा की परवरिश जॉर्जिया के सवाना में हुई थी और उन्होंने स्पेलमेन कॉलेज से राजनीति विज्ञान में स्नातक तथा जॉर्जिया विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई की है और वहीं से वकील के रूप में अपना करियर शुरू किया।


‘वाशिंगटन पोस्ट’ ने कहा कि आहूजा, सिविल सेवाओं पर पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नीतियों को पलट सकती हैं।


आहुजा, जिनके नामांकन की घोषणा मंगलवार को व्हाइट हाउस ने की थी, उनके प्रशासन में वरिष्ठ पदों पर बाइडन द्वारा नामांकित कम से कम 20 अन्य भारतीय अमेरिकियों को शामिल किया जा रहा है। आपको बता दें, कि OPM संघीय सरकार की सिविल सेवा की देखरेख करता है, सरकारी कर्मचारियों की भर्ती का समन्वय करता है और साथ ही उनके स्वास्थ्य बीमा और सेवानिवृत्ति लाभ कार्यक्रमों का भी प्रबंधन करता है।


पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रशासन में आहूजा ने चीफ ऑफ स्टाफ के रूप में (ओपीएम) सेवा की थी। आहूजा अब छह राज्यों में धर्मार्थ संगठनों के एक नेटवर्क परोपकार नॉर्थवेस्ट के सीईओ हैं। उन्होंने कार्यकारी एशियाई राष्ट्रीय प्रशांत अमेरिकी महिला मंच और सदस्यता संगठन की भी स्थापना की।


(इनपुट्स साभार : PTI)