ब्रिटेन के इतिहास में पहले भारतवंशी PM होंगे ऋषि सुनक

By yourstory हिन्दी
October 25, 2022, Updated on : Tue Oct 25 2022 09:51:46 GMT+0000
ब्रिटेन के इतिहास में पहले भारतवंशी PM होंगे ऋषि सुनक
भारतीय मूल के ऋषि सुनक ने पूर्व प्रधानमंत्री थेरेसा मे के कैबिनेट में जूनियर मिनिस्टर का पद संभाला फिर बोरिस जॉनसन के कार्यकाल के दौरान 2019 में ब्रिटेन के वित्त मंत्री भी रहे.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारतीय मूल के ऋषि सुनक (42) ने ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनकर इतिहास रच दिया है. ऋषि यूनाइटेड किंगडम में सबसे बड़ा पद संभालने वाले पहले भारतीय और 200 सालों में अब तक के सबसे युवा प्रधानमंत्री होंगे. रिपोर्ट्स की मानें तो ऋषि के पास कंजर्वेटिव पार्टी के 180 से ज्यादा सांसदों का समर्थन है. जबकि उनकी प्रतिद्ंदी पेनी मॉरडैंट इस मामले में उनसे काफी पीछे थीं. पेनी ने जैसे ही अपना नाम वापस लेने का ऐलान किया ऋषि सुनक को आधिकारिक तौर पर ब्रिटेन का प्रधानमंत्री घोषित कर दिया गया.


आइए जानते हैं ऋषि सुनक के बारे में, कौन हैं वो, कैसी रही है उनकी जिंदगी और कैसे पहुंचे यूके के सबसे ऊंचे पद पर. सुनक 12 मई, 1980 को यूके के साउथहैंप्टन में पैदा हुआ थे. उनके पिता एक डॉक्टर थे और माँ एक डिस्पेंसरी चलाती थीं. सुनक के तीन भाई बहन हैं जिनमें वो सबसे बड़े हैं. सुनक पैदा जरूर यूके में हुए मगर उनके परिवार का भारत से गहरा रिश्ता रहा है. सुनक के दादा दादी पंजाब में पैदा हुआ थे. सुनक के पिता केन्या में जबकि मां तंजानिया की रहने वाली थीं.

पढ़ाई-लिखाई

ऋषि ने यूके के विनचेस्टर कॉलेज से ही राजनीति विज्ञान में पढ़ाई की. उसके बाद आगे की पढ़ाई ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से पूरी की, जहां उन्होंने फिलॉसॉफी और इकनॉमिक्स की पढ़ाई की. इतना ही नहीं उन्होंने स्टैनफोर्ड से एमबीए की भी डिग्री ली हुई है.

पढ़ाई पूरी करने के बाद ऋषि गोल्डमैन सैक्स चले गए और बाद में हेज फंड फर्म्स में पार्टनर बन गए.

करियर की शुरूआत

उन्होंने अरबपति एक्टिविस्ट हेज फंड मैनेजर क्रिस हॉन्स की टीसीआई फंड मैनेजमेंट में लगभग 3 सालों तक काम किया और उसके बाद TCI के सहकर्मी पैट्रिक डिगोर्से के हेज फंड में पार्टनर बन गए. राजनीति में आने से पहले ऋषि ने बिलियन पाउंड की एक ग्लोबल इनवेस्टमेंट कंपनी बनाई. उनकी ये कंपनी ब्रिटेन में स्मॉल केस बिजनेसेज में इनवेस्टमेंट से जुड़े सलाह देती थी.

राजनीति में कदम

यूके के सबसे अमीर सांसदों में शामिल सुनक ने पहली बार 2015 में यूके पार्लियामेंट में अपनी जगह बनाई. सुनक यॉर्कशायर में रिचमंड को हराकर संसद पहुंचे. सुनक ब्रेक्जिट को सपोर्ट करने वाले नेताओं में भी शामिल रहे हैं और इस तरह राजनीति में उनकी कद, लोकप्रियता दोनों बढ़ती गई.


आपका बता दें कि सुनक ने पूर्व प्रधानमंत्री थेरेसा मे के कैबिनेट में जूनियर मिनिस्टर का पद संभाला फिर बोरिस जॉनसन के रहते हुए 2019 में ब्रिटेन के वित्त मंत्री भी रहे.

इन्फोसिस फाउंडर के दामाद हैं

सुनक की शादी इन्फोसिस के फाउंडर नारायन मूर्ति की बेटी अक्षता से हुई है. रईस घराने में शादी करने की वजह से उन्हें काफी निशाने पर भी लिया जाता है. सुनक और अक्षता की मुलाकात स्टैनफोर्ड में एमबीए के दौरान हुई थी और दोनों ने बाद में शादी कर ली. ऋषि और अक्षता की दो बेटियां हैं जिनका नाम कृष्णा और अनुष्का है.

शुरू से पॉपुलर नेता रहे

बोरिस सरकार के दौरान ऋषि सुनक काफी लोकप्रिय मंत्रियों में गिने जाते थे. इस बात का अंदाजा इससे ही लगाया जा सकता है कि जब भी सरकार की कोई प्रेस ब्रीफिंग होती ऋषि अक्सर उस ब्रीफ का मुख्य चेहरा होते. कोरोना काल के दौरान यूके की आर्थिक स्थिति को संभाले रखने के लिए भी सुनक को काफी क्रेडिट दिया जाता है. यूके में सभी तबके के लोग सुनक के काम से काफी खुश हुए थे. कोरोना के दौरान ऋषि की नीतियों के बदौलत ही किसी का भी मेहनताना कम नहीं किया गया और उनकी लोकप्रियता और  बढ़ गई.

आलोचनाओं का भी शिकार हुए

प्रधानमंत्री के चुनाव प्रचार के दौरान ऋषि सुनक को उनके आलीशान घर, महंगे सूट और जूतों के लिए काफी आलोचना झेलनी पड़ी थी. ऋषि 700 मिलियन पाउंड से ज्यादा के मालिक हैं. यॉर्कशायर में एक मैंशन के अलावा सुनक और उनकी पत्नी के पास सेंट्रल लंदन में केनसिंगटन में भी एक प्रॉपर्टी है.


Edited by Upasana