पैसेंजर्स ने रेलवे की भरी तिजोरी, 71 फीसदी बढ़ी कमाई

भारतीय रेल को रिजर्व्ड पैसेंजर सेगमेंट से 1 अप्रैल से दिसंबर 2022 तक 46 फीसदी और अनरिजर्व्ड कोटे से 137 फीसदी ज्यादा की कमाई हुई है.

पैसेंजर्स ने रेलवे की भरी तिजोरी, 71 फीसदी बढ़ी कमाई

Tuesday January 03, 2023,

3 min Read

अप्रैल से दिसंबर 2022 के दौरान प्रारंभिक आधार पर भारतीय रेल को यात्री किराए से कुल अनुमानित 48913 करोड़ रुपये की आय हुई है. सालाना आधार पर इसमें 71 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. पिछले साल की इसी अवधि में भारतीय रेल ने 28569 करोड़ रुपये अर्जित किए थे.


रिजर्व्ड पैसेंजर कोटे में, 1 अप्रैल से 31 दिसंबर 2022 की अवधि के दौरान बुक किए गए यात्रियों की कुल अनुमानित संख्या 59.61 करोड़ रही है, जो पिछले वर्ष की समान अवधि के दौरान 56.05 करोड़ की तुलना में 6 प्रतिशत की बढ़ोतरी है.


1 अप्रैल से 31 दिसंबर 2022 की अवधि के दौरान रिजर्व्ड पैसेंजर कोटे से मिलने वाला राजस्व पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 26400 करोड़ रुपये की तुलना में 38483 करोड़ रुपये रहा है, जो कि 46 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्शाता है.


वहीं अनरिजर्व्ड पैसेंजर सेगमेंट में, 1 अप्रैल से 31 दिसंबर 2022 की अवधि के दौरान बुक किए गए यात्रियों की कुल अनुमानित संख्या पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 16968 लाख की तुलना में 40197 लाख है, जो 137 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाती है.


वहीं अनरिजर्व्ड पैसेंजर सेगमेंट से मिलने वाला राजस्व पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 2169 करोड़ रुपये की तुलना में 10430 करोड़ रुपये है जो कि 381 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्शाता है.

पैसेंजर सेगमेंट से हुई कमाई में यह इजाफा दिखाता है कि लोगों ने एक बार ट्रेन से यात्रा करनी शुरू कर दी है. भारतीय रेल जिसकी रफ्तार कोविड और लॉकडाउन की वजह से सुस्त पड़ी थी वो अब वापस से पटरी पर लौट रही है.

इसके अलावा रेलवे ने वंदे भारत एक्सप्रेस और तेजस एक्सप्रेस जैसी ट्रेनें भी शुरू की हैं. इनमें कई गुना ज्यादा स्पीड, ऑन-बोर्ड इन्फोटेनमेंट, जीपीएस-बेस्ड पैसेंजर इन्फॉर्मेशन सिस्टम, और जीरो डिस्चार्ज वैक्यूम बायो टॉयलेट लगे हुए हैं.

हाई स्पीड ट्रेनों के अलावा रेलवे ने यात्रियों के लिए बीते महीनों में कई और भी नई ट्रेनें लॉन्च की हैं. रेलवे की कमाई में बढ़ोतरी का एक बड़ा योगदान इन ट्रेनों का भी माना जा रहा है.

इसके अलावा मिनिस्ट्री ऑफ रेलवे ने एक अन्य बयान में बताया कि अप्रैल से दिसंबर के दौरान उसने 1109.38 MT टन की फ्रेट लोडिंग की है जो पिछले साल के 1029.96MT टन से 8 फीसदी ज्यादा है.


फ्रेट के जरिए उसकी कमाई इस दौरान 120,478 करोड़ रुपये रही जो पिछले साल की इसी अवधि के दौरान हुई कमाई से 104,400 करोड़ रुपये से 16 फीसदी अधिक है.

 


Edited by Upasana