ऑनलाइन पार्ट-टाइम जॉब स्कैम: ED की कर्नाटक में 16 ठिकानों पर छापेमारी, 80 बैंक अकाउंट फ्रीज

By रविकांत पारीक
November 18, 2022, Updated on : Fri Nov 18 2022 09:39:03 GMT+0000
ऑनलाइन पार्ट-टाइम जॉब स्कैम: ED की कर्नाटक में 16 ठिकानों पर छापेमारी, 80 बैंक अकाउंट फ्रीज
ED ने बेंगलुरू में 16 ठिकानों पर छापेमारी की और कुल एक करोड़ रुपये की राशि वाले 80 बैंक खातों को सील कर दिया. पिछले एक महीने में बेंगलुरु में एजेंसी द्वारा की गई यह दूसरी ऐसी छापेमारी है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate - ED) ने पार्ट-टाइम जॉब घोटाले के सिलसिले में सोमवार और मंगलवार को बेंगलुरू में 16 ठिकानों पर छापेमारी की और कुल एक करोड़ रुपये की राशि वाले 80 बैंक खातों को सील कर दिया. एजेंसी ने गुरुवार को यह जानकारी दी. पिछले एक महीने में बेंगलुरु में एजेंसी द्वारा की गई यह दूसरी ऐसी छापेमारी है.


ईडी ने मैसर्स सुपर लाइक ऑनलाइन अर्निंग एप्लिकेशन (M/s Super Like Online Earning Application) और अन्य आरोपी व्यक्तियों के खिलाफ साउथ सीईएन पुलिस स्टेशन द्वारा 3 मार्च, 2021 को दर्ज एक प्राथमिकी (FIR) के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की थी.


कंपनी ने अपने ऐप 'सुपर लाइक' (Super Like) के जरिए पार्ट टाइम जॉब का ऑफर दिया. साइन अप करने के बाद, एक व्यक्ति को पहले सदस्यता शुल्क के रूप में कुछ पैसे देने पड़ते थे. पेमेंट हो जाने के बाद, व्यक्ति को अपने ग्राहकों द्वारा बनाए गए कंटेंट को लाइक और शेयर करने के लिए कहा गया. कंपनी ने लाइक और कंटेंट शेयर करने के लिए पैसे देने का वादा किया था.


शुरुआत में लोगों को कुछ पैसे मिले, लेकिन बाद में कंपनी ने पेमेंट करना बंद कर दिया और जब पीड़ितों ने पैसे निकालने की कोशिश की तो उनके अकाउंट ब्लॉक कर दिए गए. इस साल 13 जनवरी को पुलिस ने कुल 50 आरोपियों के खिलाफ अदालत में चार्जशीट दायर की थी, जिसमें दो चीनी नागरिक शेन लॉन्ग और हिमानी शामिल थे.


आरोपियों के आवासीय परिसरों और Phonepe, Paytm, Google Pay, Amazon Pay आदि जैसे पेमेंट गेटवे के ऑफिस और HDFC Bank, ICICI Bank, Dhanalakshmi Bank और अन्य जैसे कुछ बैंकों पर छापे मारे गए, जो कथित तौर पर इस मामले में शामिल हैं. ईडी ने कहा, आगे की जांच जारी है.


गौरतलब हो कि ED ने अक्टूबर में कथित तौर पर चीनी नागरिकों द्वारा चलाए जा रहे लोन ऐप्स के अवैध संचालन के खिलाफ चल रही मनी लॉन्ड्रिंग जांच के तहत पेमेंट गेटवे कंपनी Razorpay और कुछ बैंकों के परिसरों की तलाशी के बाद 78 करोड़ रुपये की ताजा जमा राशि को फ्रीज कर दिया था. ईडी ने कहा कि 19 अक्टूबर को बेंगलुरु में पांच परिसरों पर छापेमारी की गई. वहीं, रेजरपे ने कहा कि उसने एजेंसी के साथ सहयोग किया और उसके धन को जब्त नहीं किया गया.


इससे पहले अगस्त महीने में ED ने क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज WazirX के डायरेक्टर के ठिकानों पर छापेमारी कर 64.67 करोड़ रुपये की बैंक एसेट्स को फ्रीज कर दिया था. इस मामले के बाद से अब ED कम से कम 10 क्रिप्टो एक्सचेंजों की जांच कर रही है. ED का मानना है कि ये एक्सचेंज क्रिप्टो एसेट्स की खरीद / ट्रांसफर के जरिए चीन की इंस्टंट लोन ऐप्लीकेशन की सहायता से कथित तौर पर 1,000 करोड़ रुपये से अधिक की मनी लॉन्ड्रिंग कर रहे हैं.