NPS: पेंशन का अनुमान लगाना हुआ आसान, PFRDA ने लॉन्च किया रिटायरमेंट कैलकुलेटर

By Ritika Singh
December 11, 2022, Updated on : Sun Dec 11 2022 01:31:31 GMT+0000
NPS: पेंशन का अनुमान लगाना हुआ आसान, PFRDA ने लॉन्च किया रिटायरमेंट कैलकुलेटर
PFRDA ने 9 दिसंबर, 2022 को अपने सर्कुलर के माध्यम से इस प्लानर को लॉन्च करने की घोषणा की.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) की रेगुलेटरी बॉडी 'पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) ने व्यक्तियों के लिए एनपीएस प्रॉस्पैरिटी प्लानर (एनपीपी) लॉन्च किया है. यह रिटायरमेंट प्लानर, व्यक्तियों की एन्युइटी विकल्पों के अनुरूप अनुमानित रिटायरमेंट इनकम (एन्युइटी) का अनुमान लगाने में मदद करेगा. अनुमानित रिटायरमेंट इनकम की गणना एनपीएस के तहत व्यक्तियों/सब्सक्राइबर्स के मौजूदा योगदान के आधार पर की जाएगी.


PFRDA ने 9 दिसंबर, 2022 को अपने सर्कुलर के माध्यम से इस प्लानर को लॉन्च करने की घोषणा की. यह कैलकुलेटर, सेंट्रल रिकॉर्डकीपिंग एजेंसीज (CRAs) के माध्यम से व्यक्तियों के लिए उपलब्ध है. वर्तमान में, तीन सीआरए हैं- Protean (इसे पहले NSDL के रूप में जाना जाता था), फिनटेक और CAMS.

कैसे कर सकते हैं एक्सेस

व्यक्ति द्वारा अपने संबंधित सीआरए के साथ एनपीएस खाते में लॉग किए जाने के बाद इस कैलकुलेटर को देखा जा सकता है. कैलकुलेटर उनके पिछले योगदानों के आधार पर अनुमानित रिटायरमेंट इनकम को दर्शाएगा. साथ ही अन्य कारकों के बीच वेतन में अनुमानित भावी वृद्धि को भी दर्शाएगा. सर्कुलर के अनुसार, "एनपीपी मुद्रास्फीति और जीवन व्यय की अनुमानित लागत पर विचार करते हुए रिटायरमेंट नहीं होने तक की बाकी अवधि में एक्सीलरेटेड कॉन्ट्रीब्यूशन प्लान के माध्यम से उच्च रिटायरमेंट इनकम के लिए टूल प्रदान करता है."


पीएफआरडीए का कहना है, "एनपीएस प्रॉस्पेरिटी प्लानर फ्यूचरिस्टिक है और ग्राहकों के लिए उनके पिछले योगदान, आय में भविष्य में अपेक्षित वृद्धि और उनके जीवन यापन की लागत के आधार पर व्यक्तिगत सेवानिवृत्ति योजना उपलब्ध कराता है." कैलकुलेटर, ग्राहक को उचित अनुमान प्रदान कर सकता है, जो उन्हें पर्याप्त और स्थायी वृद्धावस्था आय सुनिश्चित करने के लिए बेहतर सेवानिवृत्ति योजना में मदद कर सकता है.

क्या है NPS

बता दें कि एनपीएस, रिटायरमेंट के लिए बचत के लोकप्रिय निवेश विकल्पों में से एक है. यह योजना, एक्युमुलेशन के दौरान और साथ ही मैच्योरिटी के समय विभिन्न आयकर लाभ प्रदान करती है. एक्युमुलेशन फेज के दौरान, एक व्यक्ति एनपीएस के माध्यम से 9.5 लाख रुपये तक के टैक्स डिडक्शन का दावा कर सकता है. इन डिडक्शंस का दावा आयकर कानूनों के तहत निर्दिष्ट 3 अलग-अलग सेक्शंस के माध्यम से किया जाता है. ये सेक्शंस हैं-


1. सेक्शन 80CCD (1) (सेक्शन 80C के ओवरआॅल अंब्रैला के तहत अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक का डिडक्शन)

2. सेक्शन 80CCD (1b) (50,000 रुपये का अतिरिक्त डिडक्शन)

3. सेक्शन 80CCD (2) (NPS खाते में नियोक्ता का योगदान)


मैच्योरिटी के समय, एनपीएस कॉर्पस का 60 प्रतिशत एकमुश्त के रूप में निकाला जा सकता है. यह एकमुश्त राशि आयकर से मुक्त है. शेष 40 प्रतिशत हिस्सा अनिवार्य रूप से एन्युइटी इनकम की खरीद के लिए उपयोग करना होता है. एन्युइटी इनकम ही पेंशन कहलाती है. साल 2004 में NPS को केवल सरकारी कर्मचारियों के लिए शुरू किया गया था. इसे 2009 में सभी कैटगरी के लोगों के लिए खोल दिया गया. एनपीपी को आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में ग्राहकों के लाभ के लिए लॉन्च किया गया है.