क्यों ZestMoney को खरीदने की तैयारी कर रही है PhonePe?

By रविकांत पारीक
November 25, 2022, Updated on : Fri Nov 25 2022 09:18:02 GMT+0000
क्यों ZestMoney को खरीदने की तैयारी कर रही है PhonePe?
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

फिनटेक यूनिकॉर्न PhonePe लोन देने वाले प्लेटफॉर्म ZestMoney को खरीदने की तैयारी कर रहा है. इसी के साथ PhonePe लेंडिंग (उधार देना) की दुनिया कदम रख सकती है. ZestMoney - BNPL (Buy Now, Pay Later) लोन की सुविधा देता है, जिसे ग्राहक किश्तों में चुका सकते हैं.


जबकि PhonePe ने पहले ही म्यूचुअल फंड, इंश्योरेंस, डिजिटल गोल्डआदि में पहले ही कदम रख दिया है, कंपनी ने अभी तक अपने प्लेटफॉर्म के जरिए उधार देना शुरू नहीं किया है. लंबे समय से, उधार देने को फिनटेक के लिए प्रमुख प्रोडक्ट की पेशकश के रूप में देखा गया है, जिसमें बड़ी संख्या में खिलाड़ी पहले से ही मौजूद हैं.


फोनपे के प्रतिद्वंद्वी पेटीएम और भारतपे मर्चेंट और कंज्यूमर लेंडिंग दोनों के जरिए लेंडिंग स्पेस में हैं. अक्टूबर में, Paytm ने कहा कि उसने अक्टूबर में लोन देने में लगभग पांच गुना या 387 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की, जो कि एक साल पहले की अवधि से 3,056 करोड़ रुपये थी. पेटीएम द्वारा दिए गए लोन की संख्या लगभग तीन गुना या 161 प्रतिशत बढ़कर 3.4 मिलियन हो गई.


ऑस्ट्रेलिया के Zip, Goldman Sachs, Quona Capital, Xiaomi और Alteria Capital, जैसे निवेशकों द्वारा समर्थित, ZestMoney ने आखिरी बार सितंबर 2021 में 50 मिलियन डॉलर जुटाए थे. कंपनी ने अपने सीरीज सी राउंड के हिस्से के रूप में अतिरिक्त 20 मिलियन डॉलर जुटाए थे. इस राउंड में कंपनी की वैल्यूएशन 470 मिलियन डॉलर आंकी गई.


लिज़ी चैपमैन, प्रिया शर्मा और आशीष अनंतरामन द्वारा 2016 में स्थापित, ZestMoney का कुल ग्राहक आधार 17 मिलियन है और प्रति माह 400 करोड़ रुपये के लोन बांटने को सक्षम बनाता है. कंपनी के 10,000 ऑनलाइन ब्रांड्स और 75,000 ऑफलाइन स्टोर्स के साथ 27 लेंडिंग पार्टनर्स और मर्चेंट पार्टनरशिप्स हैं.


फंडिंग विंटर के बीच, जिसमें वैल्यूएशन घटते देखी गई है क्योंकि निवेशकों ने निवेश का पुनर्मूल्यांकन किया है. हालांकि ये डील कितने रुपये में होगी, इसको लेकर अभी तक कोई जानकारी नहीं आई है. PhonePe और ZestMoney, दोनों ही कंपनियों ने इस बारे में कोई जवाब नहीं दिया है.


पिछले वर्ष, PhonePe ने GigIndia, WealthDesk, OpenQ का अधिग्रहण किया और IndusOS के लंबे समय से लंबित अधिग्रहण को पूरा किया.


Tofler के माध्यम से एक्सेस की गई फाइलिंग के अनुसार, वित्त वर्ष 22 में ZestMoney का घाटा पिछले वित्त वर्ष में 125.8 करोड़ रुपये से 216 प्रतिशत बढ़कर 398 करोड़ रुपये हो गया. FY21 में रेवेन्यू 89.3 करोड़ रुपये से 62 प्रतिशत बढ़कर FY22 में 145 करोड़ रुपये हो गया.


दूसरी तरफ Walmart समर्थित PhonePe 12 अरब डॉलर की वैल्यूएशन पर 45-50 करोड़ डॉलर जुटाने की तैयारी कर रही है.


यदि यह राउंड पूरा हो जाता है, तो PhonePe 10 बिलियन डॉलर से अधिक वैल्यूएशन वाला स्टार्टअप बन जाएगा. PhonePe की वैल्यूएशन डिजिटल पेमेंट और नियोबैंकिंग यूनिकॉर्न Razorpay को भी पार कर जाएगी, जिसकी अंतिम मूल्य लगभग 7.5 बिलियन डॉलर थी.

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close