पीएम मोदी ने जामनगर में रखी WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन की आधारशिला

By रविकांत पारीक
April 20, 2022, Updated on : Wed Apr 20 2022 05:20:40 GMT+0000
पीएम मोदी ने जामनगर में रखी WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन की आधारशिला
WHO केंद्र के आयोजन स्थल पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "अब विश्व स्वास्थ्य संगठन का यह ग्लोबल सेंटर, वैलनेस के क्षेत्र में जामनगर के योगदान को वैश्विक स्तर पर नई ऊंचाई देगा।"
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को जामनगर में मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस घेब्रेयसस की उपस्थिति में WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन (GCTM) की आधारशिला रखी।


GCTM दुनिया भर में पारंपरिक चिकित्सा के लिए पहला और एकमात्र वैश्विक आउटपुट केंद्र होगा। यह वैश्विक कल्याण के अंतरराष्ट्रीय केंद्र के रूप में उभरेगा। इस अवसर पर बांग्लादेश, भूटान, नेपाल और मालदीव के राष्ट्रपति के प्रधानमंत्रियों के वीडियो संदेश चलाए गए। केंद्रीय मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया, सबानंद सोनोवाल, मुंजापारा महेंद्रभाई और गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 19 अप्रैल, 2022 को गुजरात के जामनगर में WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन (GCTM) की आधारशिला रखते हुए।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 19 अप्रैल, 2022 को गुजरात के जामनगर में WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन (GCTM) की आधारशिला रखते हुए।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस घेब्रेयसस ने जामनगर में WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन की स्थापना के लिए हर संभव समर्थन प्रदान करने में उनके नेतृत्व के लिए प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद दिया। महानिदेशक ने केंद्र को वास्तव में एक वैश्विक परियोजना करार दिया, क्योंकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के 107 सदस्य देशों के अपने देश विशिष्ट सरकारी कार्यालय हैं, जिसका अर्थ है कि दुनिया पारंपरिक चिकित्सा में नेतृत्व के लिए भारत आएगी।


उन्होंने कहा कि पारंपरिक दवाओं के उत्पाद विश्व स्तर पर प्रचुर मात्रा में हैं और केंद्र पारंपरिक चिकित्सा के वादे को पूरा करने में एक लंबा सफर तय करेगा। दुनिया के कई क्षेत्रों के लिए पारंपरिक चिकित्सा उपचार की शुरुआत है। उन्होंने कहा कि नया केंद्र डेटा, नवाचार और स्थिरता पर ध्यान केंद्रित करेगा और पारंपरिक चिकित्सा के उपयोग का अनुकूलन करेगा। डॉ. टेड्रोस घेब्रेयसस ने कहा कि केंद्र के पांच मुख्य क्षेत्रों में अनुसंधान एवं नेतृत्व, साक्ष्य एवं शिक्षा, डेटा एवं विश्लेषण, स्थायित्व एवं समानता तथा नवाचार एवं प्रौद्योगिकी शामिल होंगे।


मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविन्द कुमार जगन्नाथ ने भी इस अवसर के साथ मॉरीशस को जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। उन्होंने विभिन्न संस्कृतियों में स्वदेशी चिकित्सा प्रणाली और हर्बल उत्पादों के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि केंद्र की स्थापना के लिए कोई भी इससे अधिक उपयुक्त समय नहीं हो सकता था। उन्होंने केंद्र की स्थापना में नेतृत्व संभालने में प्रधानमंत्री मोदी के व्यक्तिगत योगदान के बारे में बताया।


प्रविंद कुमार जगन्नाथ ने कहा, "हम इस उदार योगदान के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भारत सरकार और भारतीय लोगों के बहुत आभारी हैं।" उन्होंने 1989 से मॉरीशस में आयुर्वेद को विधायी मान्यता का विवरण भी दिया। उन्होंने जामनगर में आयुर्वेदिक चिकित्सा का अध्ययन करने के लिए मॉरीशस के छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करने के लिए गुजरात को भी धन्यवाद दिया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 19 अप्रैल, 2022 को गुजरात के जामनगर में WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन (GCTM) की आधारशिला रखी।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने डॉ. टेड्रोस घेब्रेयसस को उनके सहृदय निवेदन के लिए धन्यवाद दिया। प्रधानमंत्री ने डॉ. टेड्रोस घेब्रेयसस के भारत के साथ जुड़ाव और WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन (GCTM) की परियोजना में उनकी व्यक्तिगत भागीदारी के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि उनका स्नेह WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन के साकार होने से प्रकट हुआ है। प्रधानमंत्री ने महानिदेशक को आश्वासन दिया कि भारत से उनकी उम्मीदें पूरी होंगी।


प्रधानमंत्री ने मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ और उनके परिवार के साथ तीन दशक लंबे जुड़ाव पर भी प्रकाश डाला और उनके शब्दों और उनकी उपस्थिति के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। पीएम मोदी ने उन नेताओं को भी धन्यवाद दिया जिनके वीडियो संदेश चलाए गए थे।


प्रधानमंत्री ने कहा, "WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन इस क्षेत्र में भारत के योगदान और क्षमता की मान्यता है।" उन्होंने आगे घोषणा की "भारत इस साझेदारी को पूरी मानवता की सेवा के लिए एक बड़ी जिम्मेदारी के रूप में लेता है।"


WHO केंद्र के आयोजन स्थल पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा, "अब विश्व स्वास्थ्य संगठन का यह ग्लोबल सेंटर, वैलनेस के क्षेत्र में जामनगर के योगदान को वैश्विक स्तर पर नई ऊंचाई देगा।" पीएम मोदी ने कहा कि पांच दशक से भी ज्यादा पहले, जामनगर में विश्व की पहली आयुर्वेद यूनिवर्सिटी की स्थापना हुई थी। यहां एक बेहतरीन आयुर्वेद संस्थान - इंस्टीट्यूट ऑफ टीचिंग एंड रिसर्च इन आयुर्वेद है।


प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि हमारा अंतिम लक्ष्य अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करना होना चाहिए। उन्होंने कहा कि रोगमुक्त रहना जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हो सकता है लेकिन अंतिम लक्ष्य स्वस्थ होना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि महामारी की अवधि के दौरान स्वास्थ्य के महत्व को काफी महसूस किया गया था। दुनिया आज स्वास्थ्य देखभाल वितरण के नए आयाम की तलाश में है। मुझे खुशी है कि 'वन प्लैनेट आवर हेल्थ' का नारा देकर WHO ने 'एक पृथ्वी, एक स्वास्थ्य' के भारतीय दृष्टिकोण को बढ़ावा दिया है।


प्रधानमंत्री ने कहा, "भारत की पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली उपचार तक सीमित नहीं है। यह जीवन का समग्र विज्ञान है।" पीएम मोदी ने कहा कि आयुर्वेद केवल उपचार और इलाज से भी आगे जाता है, उन्होंने कहा कि आयुर्वेद में उपचार और उपचार के अलावा; सामाजिक स्वास्थ्य, मानसिक स्वास्थ्य-प्रसन्नता, पर्यावरणीय स्वास्थ्य, सहानुभूति, करुणा और उत्पादकता शामिल हैं। पीएम मोदी ने कहा, "आयुर्वेद को जीवन के ज्ञान के रूप में लिया गया है और इसे पांचवां वेद माना गया है।"

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 19 अप्रैल, 2022 को गुजरात के जामनगर में WHO ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन (GCTM) की आधारशिला रखी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अच्छे स्वास्थ्य का सीधा संबंध संतुलित आहार से है। उन्होंने समझाया कि हमारे पूर्वज आहार को आधा इलाज मानते थे और हमारी चिकित्सा प्रणाली आहार संबंधी सलाह से परिपूर्ण है। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह भारत के लिए बहुत गर्व की बात है कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष के रूप में चुना गया है। उन्होंने कहा कि यह कदम मानवता के लिए फायदेमंद साबित होगा।


प्रधानमंत्री ने विश्व स्तर पर आयुर्वेद, सिद्ध, यूनानी योगों की बढ़ती मांग के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि कई देश महामारी से निपटने के लिए पारंपरिक चिकित्सा पर जोर दे रहे हैं। इसी तरह, योग दुनिया भर में लोकप्रियता हासिल कर रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि योग मधुमेह, मोटापा और अवसाद जैसी बीमारियों से लड़ने में बेहद उपयोगी साबित हो रहा है। योग मानसिक तनाव को कम करने तथा मन-शरीर एवं चेतना में संतुलन खोजने में भी लोगों की मदद कर रहा है।


प्रधानमंत्री ने नए केंद्र के लिए पांच लक्ष्य निर्धारित किए। पहला, प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हुए पारंपरिक ज्ञान प्रणाली का डेटाबेस बनाना; दूसरा, GCTM पारंपरिक दवाओं के परीक्षण और प्रमाणन के लिए अंतरराष्ट्रीय मानक बना सकता है ताकि इन दवाओं में विश्वास बढ़े। तीसरा, GCTM को एक ऐसे मंच के रूप में विकसित होना चाहिए जहां पारंपरिक दवाओं के वैश्विक विशेषज्ञ एक साथ आएं और अनुभव साझा करें। उन्होंने केंद्र से एक वार्षिक पारंपरिक चिकित्सा उत्सव की संभावना तलाशने को भी कहा। चौथा, GCTM को पारंपरिक दवाओं के क्षेत्र में अनुसंधान के लिए धन जुटाना चाहिए। अंत में, GCTM को विशिष्ट रोगों के समग्र उपचार के लिए प्रोटोकॉल विकसित करना चाहिए ताकि रोगियों को पारंपरिक और आधुनिक चिकित्सा दोनों से लाभ मिल सके।


प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "हम भारतीय वसुधैव कुटुंबकम और सर्वे संतु निरामया की भावना से जीने वाले लोग हैं। पूरी दुनिया एक ही परिवार है और यह पूरा परिवार हमेशा निरोग रहे, यह हमारा दर्शन रहा है।" उन्होंने कहा कि WHO-GCTM की स्थापना से यह परंपरा और समृद्ध होगी।


Edited by Ranjana Tripathi