PNB ने 20 हजार करोड़ से अधिक के बैड लोंस एनएआरसीएल को ट्रांसफर किए

By yourstory हिन्दी
November 03, 2022, Updated on : Thu Nov 03 2022 05:44:06 GMT+0000
PNB ने 20 हजार करोड़ से अधिक के बैड लोंस एनएआरसीएल को ट्रांसफर किए
गोयल ने कहा कि हमने पहले चरण में एनएआरसीएल को हस्तांतरित किए जाने वाले 2,752 करोड़ रुपये के नौ खातों की पहचान की है. दूसरे चरण में 2,685 करोड़ रुपये की राशि के 11 खाते होंगे, और तीसरे चरण में शेष रहेंगे.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने 62 खातों से 20,008 करोड़ रुपये के बैड लोंस (NPA) की पहचान की है, जिसे चरणबद्ध तरीके से समाधान के लिए सरकार समर्थित राष्ट्रीय संपत्ति पुनर्निर्माण कंपनी (एनएआरसीएल) में स्थानांतरित किया जाएगा. PNB के प्रबंध निदेशक (एमडी) अतुल कुमार गोयल, बुधवार को इसकी जानकारी दी.


गोयल ने कहा कि हमने पहले चरण में एनएआरसीएल को हस्तांतरित किए जाने वाले 2,752 करोड़ रुपये के नौ खातों की पहचान की है. दूसरे चरण में 2,685 करोड़ रुपये की राशि के 11 खाते होंगे, और तीसरे चरण में शेष रहेंगे. हमें पहले ही एनएआरसीएल से पांच खातों पर ऑफर मिल चुके हैं, जहां हमारे ऊपर 1,099 करोड़ रुपये बकाया हैं. एनएआरसीएल की स्थापना वाणिज्यिक बैंकों द्वारा बैड लोंस के समेकित समाधान के लिए की गई थी.


पीएनबी द्वारा मंगलवार को घोषित परिणामों से पता चला है कि जुलाई-सितंबर के दौरान उसका स्टैंडअलोन शुद्ध लाभ सालाना आधार पर (YoY) 62.8 प्रतिशत गिरकर 411.3 करोड़ रुपये हो गया. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) 32 प्रतिशत बढ़कर 3,556 करोड़ रुपये हो गईं.


गोयल ने कहा कि उन्हें नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) के मामलों से चालू वित्त वर्ष के दौरान 3,995 करोड़ रुपये की वसूली का भरोसा है. एनसीएलटी में उल्लेख किया गया कुल बकाया खराब ऋण 66,855 करोड़ रुपये है.


FY23 की पहली छमाही के दौरान, बैंक ने 1,471 करोड़ रुपये की वसूली की थी. FY22 में, यह NCLT मामलों से 6,321 करोड़ रुपये के बैड लोंस की वसूली करने में सक्षम था.


वित्त वर्ष 2013 के लिए फंसे हुए ऋणों से 32,000 करोड़ रुपये की वसूली के लक्ष्य के खिलाफ गोयल ने कहा कि बैंक पहले ही पहली छमाही में लगभग 16,000 करोड़ रुपये वसूल कर चुका है.


उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष के दौरान 32,000 करोड़ रुपये का डूबा कर्ज वसूलने के लिए सही राह पर आगे बढ़ रहा है. गोयल ने तिमाही नतीजों के बाद संवाददाताओं से कहा कि चालू वित्त वर्ष के लिए वसूली का लक्ष्य 32,000 करोड़ रुपये है. यह प्रति तिमाही 8,000 करोड़ रुपये बैठता है.


गोयल ने कहा, ‘‘जून तिमाही में हमने 7,057 करोड़ रुपये की वसूली की है. सितंबर तिमाही में कुल वसूली 8,564 करोड़ रुपये रही है. इसका मतलब है कि हम सही दिशा में हैं. निश्चित रूप से हम चालू वित्त वर्ष के लक्ष्य को हासिल कर पाएंगे.’’


उन्होंने कहा, "हमें पूरा भरोसा है कि हम वित्त वर्ष 23 के अंत तक अपना लक्ष्य हासिल कर लेंगे." गोयल ने कहा कि बैंक का लक्ष्य चालू वित्त वर्ष के दौरान सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (जीएनपीए) को वित्त वर्ष 23 की सितंबर तिमाही के अंत में 10.48 प्रतिशत से घटाकर एक अंक में लाना है.


Edited by Vishal Jaiswal