क्या मणिरत्नम की PS 1 बाहुबली और आर.आर.आर की तरह हिंदी में कर पाएगी बड़ा बिज़नेस ?

By Rajat Pandey
September 30, 2022, Updated on : Fri Sep 30 2022 21:17:47 GMT+0000
क्या मणिरत्नम की PS 1 बाहुबली और आर.आर.आर की तरह हिंदी में कर पाएगी बड़ा बिज़नेस ?
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

मणिरत्नम(Mani Ratnam) के निर्देशन में 500 करोड़  के भारी भरकम बजट के साथ बनी फ़िल्म Ponniyin Selvan Part 1 आज सिनेमाघरों में रिलीज़ हो गयी है. इस फ़िल्म को हिंदी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयालम भाषा के लगभग 4300  स्क्रीन्स पर रिलीज़ किया गया है.


देशभर में सिनेमाघरों के बाहर सुबह से ही दर्शकों की लाइन नजर आने लगी थी.  फ़िल्म ने पहले दिन के लिए सभी भाषाओं में ₹ 20 करोड़ की एडवांस बुकिंग दर्ज की थी. फ़िल्म ने अपनी एडवांस बुकिंग के दौरान 10 करोड़ से ज्यादा सिर्फ तमिलनाडु से कमाए हैं. पी एस 1 का इंतज़ार दर्शक लम्बे समय से कर रहें थे, ये कयास लगाए जा रहे हैं, कि पहले दिन फ़िल्म लगभग 50 से 60 करोड़ रुपए की कमाई कर सकती है. इन कयासों में कितनी सत्यता है, ये तो कमाई के असल आकड़ो के आने के बाद ही पता चलेगा.  


एडवांस बुकिंग के आंकड़े देखकर लगता है कि तमिल भाषी लोगों ने इस फ़िल्म को देखने में ज्यादा रूचि दिखाई है. इससे पहले साउथ सिनेमा की फिल्मों ने पूरे विश्व के सिनेमाघरों में खूब धूम मचाई थी. साउथ की बड़ी बजट से बनी एस.एस राजामौली(SS Rajamouli) की बाहु बली( Baahubali) और आर.आर.आर(RRR) ने देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी कमाई के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए थे. मणिरत्नम की पी एस 1 से भी ऐसी ही उम्मीद की जा रही है.


चोल साम्राज्य पर आधारित इस फिल्म में चियान विक्रम, ऐश्वर्या राय बच्चन, तृषा कृष्णन, जयम रवि और कार्ति जैसे एक्टर्स ने अभिनय किया है. ऐश्वर्या राय बच्चन लम्बे ब्रेक के बाद इस फ़िल्म में नज़र आएंगी. फ़िल्म में म्यूजिक ऐ.आर. रहमान ने दिया है. इस फिल्म की शूटिंग केवल तीन साल पहले शुरू हुई थी, मगर फ़िल्म की योजना और प्री-प्रोडक्शन का काम 2010 से चल रहा था.


अगस्त में फिल्म के टीज़र लॉन्च के दौरान, लेखक जयमोहन ने बताया था कि मणिरत्नम और उन्होंने 'पोन्नियिन सेलवन 1' की स्क्रिप्ट तैयार करने के लिए स्क्रीन प्लेयर्स के साथ काफ़ी पहले ही काम करना शुरू करदिया था, मगर इसे परदे पर उतारने में 12 साल का लम्बा समय लग गया. जयमोहन बताते हैं कि उपन्यास को फिल्म में रूपांतरित करने की योजना 1985 से थी. पहले इस फिल्म को एमजीआर(MGR) बनाना चाहते थे, मगर 1990 आते-आते इसके राइट्स कमल हसन ने खरीद लिए. ख़बरों में ये भी आया कि इस फिल्म को कमल हसन और मणि रत्नम मिलकर बनाने वाले हैं, मगर बाद में किसी कारण से ऐसा नहीं हो सका.