नोटों पर दिख सकती है रवींद्रनाथ टैगोर, अब्दुल कलाम की तस्वीर, RBI कर रहा तैयारी

रिपोर्ट के मुताबिक, वित्त मंत्रालय और भारतीय रिजर्व बैंक कथित तौर पर नोटों की कुछ श्रृखंला पर बदलाव करने पर विचार कर रहे हैं. इसी के तहत कुछ नोटों पर रवींद्रनाथ टैगोर और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की तस्वीर देखने को मिल सकती है.

अब आपको जल्द ही RBI द्वारा नए जारी किए जाने वाले भारतीय नोटों पर रवींद्रनाथ टैगोर और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की तस्वीरें देखने को मिल सकती हैं. अबतक भारतीय नोटों पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तस्वीरें ही छापी जाती रही हैं. यह पहली बार है कि RBI इस तरह के बदलाव को लेकर तैयारी कर रहा है.

न्यू इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, वित्त मंत्रालय और भारतीय रिजर्व बैंक कथित तौर पर नोटों की कुछ श्रृखंला पर बदलाव करने पर विचार कर रहे हैं. इसी के तहत कुछ नोटों पर रवींद्रनाथ टैगोर और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की तस्वीर देखने को मिल सकती है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, RBI और सिक्योरिटी प्रिंटिंग एंड मीटिंग कार्पोरेशन ऑफ इंडिया ने IIT-दिल्ली के एमेरिटस प्रोफेसर दिलीप टी शाहनी को गांधी, टैगोर और कलाम वॉटरमार्क के सेम्पल के दो अलग-अलग सेट भेजे हैं. साहनी को दो सेटों में से चुनने और उन्हें सरकार द्वारा अंतिम विचार के लिए पेश करने के लिए कहा गया है. सरकार इन सेम्पल पर अपना अंतिम निर्णय लेगी. वॉटरमार्क की जांच करने वाले प्रोफेसर शाहनी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंस्ट्रुमेंटेशन में माहिर हैं. उन्हें इस साल जनवरी में मोदी सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया था.

कुछ रिपोर्ट्स में RBI के इस कदम के पीछे वजह बताई जा रही है कि करेंसी नोटों पर कई अंकों के वॉटरमार्क को शामिल करने की संभावनाओं का पता लगाने के लिए RBI द्वारा यह कदम उठाया जा रहा है.

आपको बता दें कि अमेरिका की राष्ट्रीय करेंसी डॉलर पर जॉर्ज वाशिंगटन, बेंजामिन फ्रैंकलिन, थॉमस जेफरसन, एंड्रयू जैक्सन, अलेक्जेंडर हैमिल्टन और अब्राहम लिंकन सहित 19 वीं सदी के कुछ राष्ट्रपतियों की तस्वीरें छपी हैं.

न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में बताया गया है कि सरकारी सूत्रों के मुताबिक साल 2017 में नौ आरबीआई आतंरिक समितियों में से एक, जो नोटों की नई श्रृंखला के लिए सुरक्षा सुविधाओं के लिए बनाई गई थी. उसने 2020 में अपनी एक रिपोर्ट पेश की, जिसमें गांधी के अलावा टैगोर और कलाम के वॉटरमार्क भी होने की बात कही गई. इसके मुताबिक 2000 रुपए के नोटों को छोड़कर सभी नोटों में शामिल करने के लिए प्रस्ताव रखा गया. हालांकि अंतिम निर्णय अभी नहीं लिया गया. लेकिन तीनों के वॉटरमार्क के नमूनों को मंजूरी मिल चुकी है. सरकार इस पर विचार कर रही है.

2021 में, RBI ने अपने मैसूर स्थित भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण प्राइवेट लिमिटेड और होशंगाबाद में SPMCIL की सिक्योरिटी पेपर मिल को वॉटरमार्क सेंपल के अपने स्वयं के सेट डिजाइन करने के निर्देश जारी किए थे. इसके बाद, RBI और SPMCIL ने अपने सेंपल टेस्ट के लिए भेजे. सेंपल के ‘अच्छे पहलुओं‘ पर अधिकारियों के साथ कई दौर की चर्चा हो चुकी है. बस अंतिम निर्णय लिया जाना बाकी है.