Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory
search

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ADVERTISEMENT

कलाकारों की आमदनी बढ़ाने में मदद कर रहा है संदीप होता का डिजाइन स्टूडियो BEADS

संदीप होता ने कनाडा से MBA की डिग्री हासिल की और फिर भारत लौटे. उन्होंने मशहूर चित्रकार और मूर्तिकार जगन्नाथ पांडा के नेतृत्व में ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में BEADS डिजाइन स्टूडियो की शुरुआत की. कलाकारों की आमदनी में इजाफा करने के लिए BEADS उन्हें लाइफटाइम रॉयल्टी/कमीशन देता है.

कलाकारों की आमदनी बढ़ाने में मदद कर रहा है संदीप होता का डिजाइन स्टूडियो BEADS

Tuesday March 19, 2024 , 6 min Read

हाइलाइट्स

BEADS की फुल-फॉर्म है — Bhubaneswar-based Experimental Art and Design Studio

BEADS के हर प्रोडक्ट पर कलाकारों के हस्ताक्षर किए जाते हैं, इससे उन्हें खास पहचान मिलती है

पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए BEADS के प्रोडक्ट्स को जूट बैग और हनीकॉम्ब पेपर के साथ प्लास्टिक-फ्री लेबल में पैक किया जाता है

पैकेजिंग में प्लास्टिक के उपयोग को कम करने पर जोर देने के साथ, हमें यह भी ध्यान देना चाहिए कि दुनिया भर का प्लास्टिक पैकेजिंग बाजार साल 2022 में 369.21 अरब अमेरिकी डॉलर के आंकड़े को पार कर गया है. ऐसे में ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर स्थित डिजाइन स्टूडियो BEADSका पैकेजिंग डिज़ाइन पर्यावरण-अनुकूल सामग्रियों को प्राथमिकता देता है. यह री-यूज और अपसाइक्लिंग को बढ़ावा देता है. BEADS के प्रोडक्ट्स को जूट बैग और हनीकॉम्ब पेपर के साथ प्लास्टिक-फ्री लेबल में पैक किया जाता है.

BEADS का मुख्य उद्देश्य कलाकारों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डालना है. इसकी एक और खास बात यह है कि यह कलाकारों को लाइफटाइम रॉयल्टी/कमीशन देता है. BEADS के हर एक प्रोडक्ट पर कलाकार द्वारा ग्राहकों के लिए प्रामाणिकता के प्रमाण पत्र और कलाकारों के लिए मान्यता के रूप में हस्ताक्षर किए जाते हैं.

BEADS के को-फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर संदीप होता (Sandeep Hota) ने हाल ही में YourStory से बात की. जहां उन्होंने बताया कि कैसे उन्होंने BEADS की नींव रखी, वे किस तरह से कलाकारों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने की कोशिश कर रहे हैं, और इस सफर में उन्हें किन चुनौतियों का सामना करना पड़ा.

शुरुआत

भुवनेश्वर से ग्रेजुएशन में इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद, संदीप कनाडा चले गए. वहां उन्होंने Queen's University के Smith School of Business से MBA की डिग्री हासिल की. साल 2016 में वे भारत लौटे. विजुअल आर्ट्स के प्रति जुनूनी संदीप को Utsha में वॉलेंटियरिंग (स्वेच्छा से काम करने) की प्रेरणा मिली, जहां उन्होंने प्रसिद्ध कलाकार जगन्नाथ पांडा (Jagannath Panda) के साथ काम किया.

इसके बाद संदीप ने जगन्नाथ पंडा के नेतृत्व में फरवरी, 2022 में, भुवनेश्वर में BEADS डिजाइन स्टूडियो की शुरुआत की. उनके साथ सिद्धार्थ मोहंती और जय मिश्रा भी BEADS के को-फाउंडर हैं.

BEADS के को-फाउंडर संदीप होता बताते हैं, "B2C (बिजनेस-टू-कंज्यूमर) मॉडल पर काम करते हुए, हमारा उद्देश्य ओडिशा की कहानियों को आधुनिक समकालीन शैली में प्रस्तुत करना है, उन्हें लोगों के रहने की जगहों में सहजता से एकीकृत करना है, चाहे वह घर पर हो या ऑफिस में. इसके अलावा, हम ग्राहक के फिलॉसफी और चाहत को ध्यान में रखते हुए कस्टमाइज्ड प्रोडक्ट तैयार करते हैं. ये कस्टमाइज्ड प्रोडक्ट टेबलवेयर, घरेलू सजावट और मूर्तियां आदि होते हैं."

sandeep-hota-design-studio-beads-odisha-helping-artists-increase-their-income

BEADS की टीम

पर्यावरण के प्रति जागरूक

सस्टेनेबल पैकेजिंग पर बात करते हुए संदीप बताते हैं, "जैसे-जैसे हमारी रिसर्च बढ़ती गई, हमने पर्यावरण के प्रति जागरूक नागरिक के रूप में खुद को पाया. हम प्लास्टिक की खपत पर पैकेजिंग इंडस्ट्री के बढ़ते प्रभाव को नजरअंदाज नहीं कर सके. प्लास्टिक पैकेजिंग बाजार की तेजी से वृद्धि, 2022 में वैश्विक स्तर पर 369.21 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गई और इसके 2023 से 2030 तक 3.6% की CAGR (compound annual growth rate) से जारी रहने का अनुमान है. यह बेहद चिंता का विषय है."

संदीप बताते हैं, "BEADS में, हम समस्या को बढ़ाने के बजाय समाधान का हिस्सा बनने के अपने दृढ़ संकल्प पर दृढ़ थे. सस्टेनेबिलिटी के प्रति हमारे समर्पण से प्रेरित होकर, हमने अपनी पैकेजिंग में क्रांति लाने का एक जानबूझकर निर्णय लिया. प्लास्टिक-फ्री लेबल के साथ-साथ जूट बैग और हनीकॉम्ब पेपर जैसी पर्यावरण-अनुकूल सामग्री का चयन करके, हम अपने पर्यावरणीय प्रभाव को काफी कम कर देते हैं."

वे आगे कहते हैं, "इन पहलों के माध्यम से, हमारा लक्ष्य न केवल शानदार प्रोडक्ट डिलीवर करना है बल्कि पर्यावरण में सकारात्मक योगदान देना भी है. हम यह देखकर रोमांचित हैं कि ग्राहक हमारे जूट बैग और बलेरी बक्सों को दोबारा उपयोग में ला रहे हैं, क्योंकि यह स्थिरता के प्रति उनकी साझा प्रतिबद्धता को दर्शाता है. हम दूसरों को हरित भविष्य की यात्रा में शामिल होने के लिए प्रेरित करने की उम्मीद करते हैं, जहां पर्यावरण-अनुकूल प्रथाएं अपवाद के बजाय आदर्श हैं."

sandeep-hota-design-studio-beads-odisha-helping-artists-increase-their-income-

BEADS के कलाकारों द्वारा तैयार किए गए प्रोडक्ट

कलाकारों को लाइफटाइम रॉयल्टी

संदीप बताते हैं, "हमारी रिसर्च के दौरान, हमें एक गंभीर समस्या का पता चला: कलाकारों को उनके काम के लिए उचित मुआवजा नहीं मिल रहा था. सकारात्मक प्रभाव डालने के लिए दृढ़ संकल्पित, BEADS ने एक मुख्य उद्देश्य बनाया: कलाकारों को उनके नाम प्रमुखता से प्रदर्शित करके और उचित वेतन प्रणाली लागू करके सम्मानित करना. परिणामस्वरूप, BEADS के प्रत्येक प्रोडक्ट पर गर्व से कलाकार के हस्ताक्षर होते हैं, जो ग्राहकों के लिए प्रामाणिकता का प्रमाण पत्र और प्रत्येक आर्ट के पीछे प्रतिभाशाली व्यक्तियों के लिए एक अच्छी-खासी मान्यता के रूप में कार्य करता है. यह पहल न केवल कलाकारों का समर्थन करती है बल्कि उपभोक्ताओं और पर्यावरण के बीच गहरे संबंध को भी बढ़ावा देती है, कला उद्योग में स्थिरता और नैतिक प्रथाओं को बढ़ावा देती है."

चुनौतियां

इस बिज़नेस को खड़ा करने में किन चुनौतियों का सामना करना पड़ा? इसके जवाब में BEADS के को-फाउंडर संदीप होता बताते हैं, "सिरेमिक स्टूडियो शुरु करना एक कठिन चुनौती है, जिसके लिए समय और श्रम के महत्वपूर्ण निवेश की आवश्यकता होती है. यह मनचाहा प्रोडक्ट प्राप्त करने के लिए कलात्मक स्वभाव और वैज्ञानिक परिशुद्धता के नाजुक संतुलन की मांग करता है. क्राफ्ट-बेस्ड डिज़ाइन स्टूडियो के रूप में, हमारी रचनाएँ अक्सर लोगों को आश्चर्यचकित या स्तब्ध कर देती हैं. कलाकारों और कारीगरों के समुदाय के सहयोग से तैयार किए गए ओडिशा के बेहतरीन और सुरुचिपूर्ण प्रोडक्ट्स को पेश करना एक अनूठी चुनौती है. पारंपरिक डिज़ाइनों से अलग होने या उनकी पुनर्व्याख्या करने के लिए स्वीकृति की बाधा पर काबू पाने की आवश्यकता होती है, क्योंकि हम समकालीन प्रोडक्ट बनाने का प्रयास करते हैं जो इस सांस्कृतिक रूप से समृद्ध क्षेत्र में कलात्मक अभिव्यक्ति की सीमाओं को आगे बढ़ाते हैं."

sandeep-hota-design-studio-beads-odisha-artists-increase-their-income

BEADS के कलाकारों द्वारा बनाई गई वन वॉल — (1) अंशुका महापात्रा, (2) अभिषेक चक्रवर्ती और (3) तपन मोहराना

रेवेन्यू

BEADS के प्रोडक्ट्स को इसकी ईकॉमर्स वेबसाइट पर जाकर खरीदा जा सकता है. यह हर महीने एक अनूठी, इन-स्टूडियो सेल भी आयोजित करता है. इसके अलावा, यह कस्टम ऑर्डर भी लेता है, जो BEADS को लगातार कुछ नया करने और नए डिज़ाइन तैयार करने के लिए प्रेरित करते हैं.

वर्तमान में, स्टूडियो कई बिजनेस ऑर्डरों को पूरा करने के साथ-साथ नए डिजाइनों की खोज और विभिन्न शिल्प सामग्रियों के साथ प्रयोग करने में लगा हुआ है. रेवेन्यू के आंकड़ों का खुलासा करते हुए, को-फाउंडर संदीप होता बताते हैं, "जनवरी के अंत तक, हमने लगभग 9 लाख का रेवेन्यू हासिल कर लिया है और इस वित्त वर्ष के अंत तक 20 लाख तक पहुंचने का अनुमान है."

भविष्य की योजनाएं

अंत में, BEADS को लेकर भविष्य की योजनाओं पर बात करते हुए संदीप होता बताते हैं, "हम विभिन्न प्रकार की शिल्प सामग्रियों और डिज़ाइनों को शामिल करके अपने बिजनेस को बढ़ाने में लगे हुए हैं. हमारे चल रहे प्रयोगों में पेपर माचे, बेल मेटल, ग्रास क्राफ्ट्स आदि की खोज शामिल है. एक समकालीन शैली में कई शिल्पों को मिश्रित करने की रणनीतिक दृष्टि के साथ, हम शिल्प तकनीकों पर विशेष जोर देने के साथ नए संस्करण लॉन्च करने के लिए तैयार हैं, जो विशेष रूप से होम डेकोर या एक्सेसरीज के लिए तैयार किए गए हैं. इसके अलावा, हम विस्तारित और लगातार कला निवासों के लिए तैयारी कर रहे हैं, हमारी वन वॉल परियोजना गति पकड़ रही है, और हमारे वार्षिक निवास कार्यक्रम का शुभारंभ निकट ही है."

संदीप होता कहते हैं, "कला, डिज़ाइन और जलवायु संकट जैसी सामाजिक चुनौतियों के बारे में आकर्षक चर्चा को बढ़ावा देने के लिए, हमने अपनी पहल Art, Design & Conversation के माध्यम से Utsha Foundation for Contemporary Art जैसे संगठनों के साथ साझेदारी की है. इस सहयोगी मंच का उद्देश्य समाज के भीतर महत्वपूर्ण मुद्दों को हल करते हुए कला और शिल्प के अंतर्संबंध का पता लगाना है."