वो छह भारतीय फिनटेक स्टार्टअप जिन्होंने 2022 में YCombinator कोहॉर्ट में बनाई अपनी जगह

By रविकांत पारीक
September 26, 2022, Updated on : Mon Sep 26 2022 12:02:54 GMT+0000
वो छह भारतीय फिनटेक स्टार्टअप जिन्होंने 2022 में YCombinator कोहॉर्ट में बनाई अपनी जगह
जैसा कि भारत का लक्ष्य दुनिया की स्टार्टअप कैपिटल बनना है, भारत में पहले से ही 190 से अधिक स्टार्टअप हैं जिन्हें YCombinator से फंडिंग मिली है. यहां हमने उन 6 फिनटेक स्टार्टअप्स की एक लिस्ट तैयार की है जो फिनटेक स्पेस में क्रांति ला रहे हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

2005 में अपनी स्थापना के बाद से, अमेरिका स्थित एक्सीलरेटर YCombinator स्टार्टअप्स को इनक्यूबेट और सपोर्ट कर रहा है. अपने पोर्टफोलियो के तहत AirBnB, DropBox जैसी 3000 से अधिक सफल कंपनियों के साथ, YCombinator महीनों तक गहनता से काम करता है, उनके पिच तैयार करने और उन्हें दुनिया भर के स्टेकहोल्डर्स से जुड़ने में मदद करता है. प्रत्येक वर्ष यह 2 कोहॉर्ट - समर कोहॉर्ट और विंटर कोहॉर्ट ऑर्गेनाइज करने के लिए जाना जाता है. यह हर एक कंपनी में 500k डॉलर इन्वेस्ट करता है.


जैसा कि भारत का लक्ष्य दुनिया की स्टार्टअप कैपिटल बनना है, भारत में पहले से ही 190 से अधिक स्टार्टअप हैं जिन्हें YCombinator से फंडिंग मिली है. यहां हमने उन 6 फिनटेक स्टार्टअप्स की एक लिस्ट तैयार की है जो फिनटेक स्पेस में क्रांति ला रहे हैं.

AlgoTest

यह एक इन्वेस्टमेंट टेक स्टार्टअप है जो रिटेल ट्रेडर्स को मुफ्त में अपनी ट्रेडिंग स्ट्रैटेजी का बैकटेस्ट करने की अनुमति देता है. रिटेल इन्वेस्टमेंट में, बैकटेस्टिंग यूजर्स को किसी भी वास्तविक पूंजी का निवेश करने से पहले लाभप्रदता और जोखिम को मापने के लिए ऐतिहासिक डेटा तक पहुंचने की अनुमति देता है.


यूजर ऐसा करने के लिए क्रेडिट खरीदकर AlgoTest के साथ वास्तविक बाजार में अपनी ट्रेडिंग स्ट्रैटेजी को भी एग्जीक्यूट कर सकते हैं.

EthosX

EthosX एक डिसेंट्रलाइज्ड फाइनेंस (DeFi) प्लेटफॉर्म है जो ब्लॉकचेन पर एंड-टू-एंड फाइनेंशियल डेरिवेटिव क्रिएट करता है. स्टार्टअप ने अपने फाइनेंशियल डेरिवेटिव के आधार के रूप में क्रिप्टोकरेंसी के साथ शुरुआत की है और यूजर्स को एक्सचेंज या काउंटरपार्टी की आवश्यकता के बिना प्लेटफॉर्म से डेरिवेटिव खरीदने की अनुमति देता है.

Gullak

Gullak एक मोबाइल ऐप है जो बचत (सेविंग) को ऑटोमेट करता है और इसे गोल्ड में इन्वेस्ट करता है. ऐप यूजर्स के लिए नियमित रूप से छोटी मात्रा में बचत करना बेहद आसान बनाता है. Gullak के साथ, यूजर केवल 10 रुपये / दिन की ऑटो सेविंग के साथ शुरुआत कर सकते हैं. भारत बचतकर्ताओं का देश है, लेकिन जिस तरह से भारत के अधिकांश लोग बचत करते हैं वह स्मार्ट नहीं है और पैसे नहीं जोड़ता है. 200 मिलियन भारतीय हैं जो मैन्युअल रूप से बैंक जमा में बचत करते हैं, इन टूल्स से मिलने वाला रिटर्न भारत की मुद्रास्फीति को भी नहीं हराता है. Gullak के माध्यम से, जो यूजर अपनी बचत को ऑटोमेट करते हैं, वे पहले की तुलना में 5 गुना अधिक बचत कर सकते हैं.

Shelf

Shelf भारत का पहला नियोबैंक है जो युवा पेशेवरों पर केंद्रित है. यह उन्हें आसान बैंकिंग और पेमेंट सर्विसेज देता है और दोस्तों के साथ बिलों का भुगतान करना आसान बनाता है. Shelf के माध्यम से, यूजर अपने ग्रुप के साथ वॉलेट बना सकते हैं और इसके माध्यम से भुगतान कर सकते हैं, जिससे आपको कभी भी ट्रैक करने, बांटने या अपने पैसे वापस मांगने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है. ऐप ग्रुप वॉलेट्स, ग्रुप के खर्चों पर नज़र रखने और ग्रुप के लिए डेबिट कार्ड प्रोवाइड करता है.

PayCrunch

भारत में, 150 मिलियन से अधिक लोगों को फाइनेंशियल डेटा की कमी या कम क्रेडिट स्कोर के कारण औपचारिक क्रेडिट तक पहुंच प्राप्त करने में कठिनाई होती है. इस अंतर को पूरा करने के लिए PayCrunch बनाया गया था. वैकल्पिक क्रेडिट स्कोरिंग मॉडल का उपयोग करते हुए, स्टार्टअप UPI के माध्यम से क्रेडिट देता है और इसका उद्देश्य ट्रांजेक्शंस को ट्रैक करने में मदद करके फाइनेंस मैनेजमेंट को आसान बनाना है. बाई नाउ पे लेटर (BNPL) ऐप के वर्तमान में 10,000 से अधिक यूजर हैं.

Fello

Fello भारत के बुजुर्गों और युवाओं के लिए एक पारंपरिक बचत बैंक खाते की तुलना में अधिक बचत, खेलने और रिटर्न अर्जित करने के लिए एक गेम-बेस्ड सेविंग और इन्वेस्टमेंट ऐप्लीकेशन है. स्टार्टअप यूजर्स को फाइनेंशियल एसेट्स को बचाने और इन्वेस्ट करने की अनुमति देता है, और उनके द्वारा बचाए गए प्रत्येक रुपये के लिए, उन्हें एक गेमिंग टोकन मिलता है, जिसके उपयोग से वे दैनिक और साप्ताहिक गेम खेल सकते हैं और यदि वे इन खेलों में जीतते हैं, तो उन्हें प्रत्येक सप्ताह में 1 लाख रुपये मिलते हैं.


लॉन्च के 12 हफ्तों के थोड़े ही समय में, स्टार्टअप ने 250,000 से अधिक यूजर्स को जोड़ा, जिनमें से 92% रेफ़र किए गए यूजर्स थे, उनमें से 88% पहली बार निवेशक थे, जो ऐप पर प्रतिदिन औसतन 12 मिनट से अधिक समय व्यतीत कर रहे थे.