कौन हैं YouTube के नए भारतीय-अमेरिकी सीईओ नील मोहन?

भारतवंशी नील मोहन YouTube के नए सीईओ बने हैं. वे Google के पहले ऐसे कर्मचारी हैं जो प्रमोशन के बाद YouTube के सीईओ बने. नील मोहन 2008 में YouTube की पैरेंट कंपनी Google का हिस्सा बने. साल 2013 में कंपनी ने उन्हें 544 करोड़ रुपए का बोनस दिया था.

कौन हैं YouTube के नए भारतीय-अमेरिकी सीईओ नील मोहन?

Friday February 17, 2023,

3 min Read

भारतीय मूल के अमेरिकी नील मोहन (Indian-American Neal Mohan new CEO of YouTube) ने गुरुवार को यूट्यूब (YouTube) की कमान संभाल ली है. वे Google के पहले ऐसे कर्मचारी हैं जो प्रमोशन के बाद YouTube के सीईओ बने हैं. बता दें कि सुसान वोज्स्की (Susan Wojcicki) जिन्होंने 25 साल पहले अपने गैरेज से कंपनी की शुरुआत की थी, ने इस्तीफा दे दिया है.

54 वर्षीय वोज्स्की ने कहा कि इस्तीफा देने का कारण यह है कि वह अब "फैमिली, हेल्थ और पर्सनल ऑब्जेक्ट्स" पर ध्यान केंद्रित करेंगी. वह पहले Google में एडवर्टाइजिंग प्रोडक्ट्स डिपार्टमेंट की सीनियर वाइस-प्रेसीडेंट थीं और 2014 में YouTube की सीईओ बनीं.

कौन हैं नील मोहन- YouTube के नए सीईओ

नील मोहन 2008 में YouTube की पैरेंट कंपनी Google का हिस्सा बने. साल 2013 में कंपनी ने उन्हें 544 करोड़ रुपए का बोनस दिया था.

उन्होंने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी (Stanford University) से ग्रेजुएशन पूरी की हैं. और, YouTube के CEO बनने से पहले, उन्होंने कंपनी में बतौर चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर के रूप में काम किया.

नील ने अपने करियर की शुरुआत ग्लोरफाइड टेक्निकल सपोर्ट से की थी, जहां उन्हें 60,000 डॉलर वेतन मिलता था. इसके अलावा नील ने एसेंचर में सीनियर एनालिस्ट के पद पर काम किया है. फिर वे DoubleClick Inc से जुड़े. इस कंपनी में 3 साल 5 महीने में नील मोहन ने डायरेक्टर, ग्लोबल क्लाइंट सर्विसेज के पद पर काम किया. इसके अलावा करीब ढाई साल वाइस प्रेसिडेंट बिजनेस ऑपरेशन की जिम्मेदारी संभाली.

मोहन ने माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) के साथ भी काम किया है और स्टिच फिक्स (Stitch Fix) और जीनोमिक्स और बायोटेक्नोलॉजी कंपनी 23andMe के बोर्ड में शामिल हैं.

मोहन और वोज्स्की ने करीब 15 साल साथ काम किया है. 2007 में DoubleClick अधिग्रहण के दौरान वे Google में आए और बाद में डिस्प्ले एंड वीडियो एडवर्टाइजमेंट्स डिपार्टमेंट के सीनियर वाइस-प्रेसीडेंट बने. वह 2015 में YouTube के चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर बने.

मोहन को वोज्स्की का स्वाभाविक उत्तराधिकारी माना गया.

"उन्हें हमारे प्रोडक्ट, हमारे बिजनेस, हमारी क्रिएटर और यूजर कम्यूनिटी और हमारे कर्मचारियों के बारे में बहुत अच्छी समझ है. नील YouTube के लिए बेहद शानदार लीडर होंगे," वोज्स्की ने कहा.

उन्होंने आगे कहा, "सभी के साथ, हम आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI) के वादों के साथ-साथ शॉर्ट्स, स्ट्रीमिंग और सब्सक्रिप्शन में काम कर रहे हैं, YouTube के सबसे रोमांचक अवसर आगे हैं, और नील हमारा नेतृत्व करने के लिए सही व्यक्ति हैं."

वोज्स्की ने लंबे समय तक गूगल और अल्फाबेट में सलाहकार की भूमिका निभाने के लिए अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई की भी तारीफ की. उन्होंने कहा कि वर्षों के उनके अनुभव उन्हें पूरे गूगल और अल्फाबेट कंपनियों के पोर्टफोलियो में मार्गदर्शन और परामर्श प्रदान करने में सक्षम बनाएंगे.

यह भी पढ़ें
दुनिया की इन 25 बड़ी कंपनियों में हैं भारतीय मूल के CEO

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors