तालाबों और झीलों में एक साथ भारी तादाद में क्यों मर रही हैं मछलियां

By Ananya Vyas
August 10, 2022, Updated on : Wed Aug 10 2022 17:39:33 GMT+0000
तालाबों और झीलों में एक साथ भारी तादाद में क्यों मर रही हैं मछलियां
तालाबों और झीलों में एक साथ भारी मात्रा में मृत मछलियां पाए जाने की घटना भारत के कई राज्यों में सामान्य होती जा रही हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अप्रैल 2022 में, मुंबई के मालाबार पहाड़ी क्षेत्र में स्थित बाणगंगा टैंक में तैरती मृत मछलियों की कई तस्वीरें समाचार साइटों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हुईं. स्थानीय लोगों ने टैंक में मृत मछलियों को देखा और बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) को सूचित करने के बाद सफाई के प्रयास शुरू किए गए. सफाई के लिए नियुक्त ठेकेदार ने दावा किया कि साइट से मछली के चार ट्रक हटा दिए गए थे. अधिकारियों ने अनुमान लगाया कि बड़े पैमाने पर मछलियों की मौत का संभावित कारण ऑक्सीजन की कमी थी.


यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की घटना हुई हो. बाणगंगा टैंक में बड़े पैमाने पर मछली की मौत को पिछले वर्षों में “वार्षिक त्रासदी” करार दिया गया है. मछलियों की मौत का एक प्रमुख कारण धार्मिक अनुष्ठानों के तहत पानी में बड़ी मात्रा में भोजन डालना भी है.


एक अलग मामले में हाल ही में दिल्ली-हरियाणा सीमा के साथ नजफगढ़ नाले के पांच किलोमीटर के ऊपरी इलाके में बड़ी संख्या में मछलियां मृत पाई गईं. प्रारंभिक रिपोर्टों में अनुमान लगाया गया है कि ये मौतें नदी में रासायनिक उर्वरक प्रदूषण के कारण हो सकती हैं, जिसके कारण शैवाल पैदा होते हैं और पानी में मौजूद ऑक्सीजन को समाप्त कर देते हैं. फलस्वरूप, वहां जलीय जीवन समाप्त होने लगता है.


भारत भर में ऐसी तस्वीरें सामान्य होती जा रही हैं जहां तालाब, झीलें और अन्य जल स्रोत में मछलियों और अन्य जलीय प्रजातियां सामूहिक रूप से मृत मिलती हैं. इस घटना का मुख्य कारण जल प्रदूषण है, जो अक्सर मानवजनित गतिविधियों से उत्पन्न होता है.

हमें जल प्रदूषण और मछलियों की मौत की परवाह क्यों करनी चाहिए?

बड़े पैमाने पर मछलियों के मरने या प्रदूषित झीलों, तालाबों और अन्य जल स्रोतों से शहर में रहने वाले लोगों पर सीधा प्रभाव नहीं पड़ता है. शहरी लोग इन प्रभावों को तुरंत या सीधे अनुभव नहीं कर सकते हैं, लेकिन इस समस्या के समाधान के लिए लोगों को अपनी भूमिका जानना और जिम्मेदारी लेना महत्वपूर्ण है.


“हमारी नदियों, झीलों, तालाबों और अन्य जल स्रोतों के बिना भारत का भूगोल, भाषा और संस्कृति बहुत अलग होगी. लोग इन जल स्रोतों के साथ भौतिक और आध्यात्मिक तरीकों से जुड़े हुए हैं. जल स्रोत किसी भी सभ्यता की संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं,” यह कहना है प्रिया रंगनाथन का जो अशोका ट्रस्ट फॉर रिसर्च इन इकोलॉजी एंड द एनवायरनमेंट में पीएचडी स्कॉलर हैं. उन्होंने वेटलैंड इकोलॉजी, समुदाय-आधारित संरक्षण और इकोहाइड्रोलॉजिकल फ्लो जैसे विषयों पर काम किया है.

वायुमंडल से ऑक्सीजन पानी में घुल जाता है और इसे घुलित ऑक्सीजन (डीओ) कहा जाता है। पर्याप्त डीओ झील की गुणवत्ता का एक अच्छा संकेत है। इलस्ट्रेशन- लैबोनी रॉय / मोंगाबे

वायुमंडल से ऑक्सीजन पानी में घुल जाता है और इसे घुलित ऑक्सीजन (डीओ) कहा जाता है. पर्याप्त डीओ झील की गुणवत्ता का एक अच्छा संकेत है. इलस्ट्रेशन - लैबोनी रॉय / मोंगाबे

उन्होंने आगे कहा, “जब एक जलीय पारिस्थितिकी तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, तो स्थानीय प्रजातियों का सफाया हो जाता है. इससे स्थानीय आजीविका को नुकसान पहुंचता है. अगर शहरों में रहने वाले लोग भी दैनिक आधार पर जल स्रोतों के संपर्क में नहीं है तो जल प्रदूषण के प्रभावों को तुरंत महसूस नहीं कर सकते हैं.”

हमें कैसे पता चलेगा कि पानी प्रदूषित है?

जल प्रदूषण या पानी की गुणवत्ता को मापदंडों की एक विस्तृत श्रृंखला में मापा जा सकता है. पानी की गुणवत्ता के पांच बुनियादी मानदंड हैं घुलित ऑक्सीजन, तापमान, विद्युत चालकता या लवणता, पीएच और मैलापन.


घुलित ऑक्सीजन पानी में घुली ऑक्सीजन की मात्रा है. यह ऑक्सीजन अधिकांश जलीय जीवों के अस्तित्व और विकास के लिए आवश्यक है. यह पानी की गुणवत्ता और जलीय जीवन और पारिस्थितिक तंत्र को लेकर जल स्रोतों की क्षमता का एक प्रमुख संकेतक है.


पानी का तापमान जल रसायन और जलीय जीवों के कार्यों को प्रभावित करता है, जैसे जीवों की चयापचय दर, प्रजनन का समय, प्रवास आदि.


चालकता पानी की बिजली का संचालन करने की क्षमता है. पानी में घुले हुए लवणों की वजह से यह सकारात्मक और नकारात्मक रूप से आवेशित आयनों में टूट जाता है. लवणता जल में लवण की मात्रा का माप है; घुले हुए लवण लवणता और चालकता दोनों को बढ़ाते हैं, इसलिए दोनों आपस में जुड़े हुए हैं. लवण और अन्य घुले हुए पदार्थ जलीय जीव पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं. प्रत्येक प्रकार के जीव में एक विशिष्ट लवणता सीमा होती है जिसे वह सहन कर सकता है.


पीएच इस बात का माप है कि पानी कितना अम्लीय या क्षारीय है. कई रासायनिक प्रतिक्रियाएं जो जलीय जीवों के जीवित रहने और बढ़ने के लिए आवश्यक हैं, उनके लिए बहुत ही संकीर्ण या कम पीएच रेंज की आवश्यकता होती है. पीएच के पैमाने पर दो छोर होते हैं, एक अत्यधिक अम्लीय और दूसरा अत्यधिक क्षारीय. अगर यह किसी एक छोर पर अधिक हो जाता है तो जीवों के गलफड़ों, एक्सोस्केलेटन (कंकाल) और पंखों को क्षति हो सकती है. पीएच में परिवर्तन जल स्रोत की विषाक्तता को भी प्रभावित करता है.


मटमैलापन पानी में निलंबित कणों की मात्रा का एक संकेत है. शैवाल, तलछट पर जमी गाद, और कार्बनिक पदार्थ कण सभी मैलापन को बढ़ाते हैं. निलंबित कण सूर्य के प्रकाश को फैलाते हैं और गर्मी को अवशोषित करते हैं. इसकी वजह से पानी का तापमान बढ़ता है, शैवाल के प्रकाश संश्लेषण के लिए रोशनी कम उपलब्ध होती है और मछली के गलफड़ भी बंद हो जाते हैं. इसके अलावा गाद अगर पानी के ऊपर जम जाए तो मछली के अंडों को भी नुकसान हो सकता है.


कोलीफॉर्म और नाइट्रोजन भी चिंता का विषय है. नाइट्रोजन एक पोषक तत्व है जो प्राकृतिक रूप से ताजे और खारे पानी दोनों में पाया जाता है. जलीय पारिस्थितिकी तंत्र में पौधों की वृद्धि के लिए यह आवश्यक है. हालांकि, जब बड़ी मात्रा में नाइट्रोजन को जलीय पारिस्थितिकी तंत्र में डाला जाए (जैसे: उर्वरक के खेतों से जल स्रोत में पहुंचना), तो इससे पानी अत्यधिक क्षारीय हो जाता है. इस प्रक्रिया को ‘यूट्रोफिकेशन’ कहते हैं. इसकी वजह से शैवाल प्रकाश संश्लेषण के लिए ऑक्सीजन का उपयोग करते हैं, जिससे जलीय जीवों को उपलब्ध ऑक्सीजन कम हो जाती है. यह जल स्रोत में घुले हुए ऑक्सीजन को कम करता है, जिससे भीतर के जीवों का दम घुट सकता है.


कुल कोलीफॉर्म बैक्टीरिया, मल कोलीफॉर्म बैक्टीरिया और ई. कोलाई की उपस्थिति से पता चलता है कि एक जल स्रोत मल से दूषित हो गया है (उदाहरण: अनुपचारित सीवेज का पानी में मिल जाने से). इन बैक्टेरिया को ‘संकेतक बैक्टीरिया’ भी कहा जाता है क्योंकि अन्य बीमारी फैलाने वाले सूक्ष्मजीवी की तुलना में उनका परीक्षण करना आसान होता है.


भारत का केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) इन मापदंडों पर पानी की गुणवत्ता को मापता है. इसमें तापमान, घुलित ऑक्सीजन, पीएच, चालकता, जैविक ऑक्सीजन की मांग, नाइट्रेट और नाइट्राइट, मल कोलीफॉर्म और कुल कोलीफॉर्म शामिल हैं.


तालाबों और झीलों पर 2019 में सीपीसीबी ने जांच कर आंकड़े जारी किए थे जिसमें व्यापक रूप से विघटित ऑक्सीजन’ दर्ज किया गया था.


मछली को जीवित रहने के लिए कितनी ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है?

घुलित ऑक्सीजन या डिजॉल्व ऑक्सीजन (डीओ) एक जल स्रोत के स्वास्थ्य और उसकी जैविक उत्पादकता को समझने में एक व्यावहारिक मापदंड है. डीओ, जलीय जीवन को संभव करने के लिए जरूरी तत्व है. ऑक्सीजन का निम्न स्तर (हाइपोक्सिया) या कोई ऑक्सीजन की अनुपस्थिति (एनोक्सिया) तब हो सकती है जब अतिरिक्त कार्बनिक पदार्थ या पोषक तत्व जल स्रोतों में प्रवेश करते हैं. इसके परिणामस्वरूप यूट्रोफिकेशन जैसी घटनाएं होती हैं. प्रत्येक जीव की अपनी डीओ सीमा होती है. मछलियों के लिए 3 मिलीग्राम/एल (mg/L) से कम के होने पर खतरा उत्पन्न होता है. 1 मिलीग्राम/एल से नीचे के स्तर को हाइपोक्सिक माना जाता है और आमतौर पर इसमें कोई जीवन नहीं होता है.


यह डॉट चार्ट 2019 से सीपीसीबी डेटा का उपयोग करते हुए, छह भारतीय राज्यों में जल निकायों में औसत घुलित ऑक्सीजन स्तर को दर्शाता है. सीपीसीबी डेटा डिजॉल्व ऑक्सीजन के स्तर का न्यूनतम और अधिकतम मूल्य दर्ज करता है. जिन राज्यों में 20 या अधिक डेटा पॉइन्ट्स उपलब्ध थे, उनके लिए मूल्यों का औसत और नीचे प्लॉट किया गया है.


जैसा कि चार्ट से स्पष्ट है, राज्यों में बड़ी संख्या में जल स्रोतों में किसी भी तरह के जलीय जीवों का जीवन संभव नहीं है. कर्नाटक और तेलंगाना में उनके अधिकांश तालाब और झीलें ‘0-4 mg/L’ DO रेंज के भीतर हैं, जहां कोई भी मछली जीवित नहीं रह सकती है – डीओ रेंज जितनी अधिक होगी, कुछ मछलियों के जीवित रहने का मौका उतना ही बेहतर होगा.


प्लॉट किए गए 215 जल निकायों में से 76 ‘0-4 mg/L’ डीओ, 75 ‘4-6.5 mg/L’ डीओ और 64 ‘6.5-9.5 mg/L’ डीओ रेंज में हैं. 6.5-9.5 मिलीग्राम/लीटर की सीमा में 64 जल स्रोत में से 28 मध्य प्रदेश में हैं और 18 असम में हैं. ये दो राज्य छह में से सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्य हैं. सबसे चिंताजनक बात यह है कि सभी राज्यों में एक भी जल निकाय 9.5+ mg/L DO श्रेणी में नहीं आता है, जहां सभी मछलियां जीवित रह सकती हैं.

भारत में तालाबों और झीलों के प्रदूषण के कारण क्या हैं?

हाल के वर्षों में, भारत के तेजी से विकास हो रहे हैं. इसके परिणामस्वरूप देश का लगभग 70% सतही जल उपभोग के लिए अनुपयुक्त हो गया है और गंभीर प्रदूषण ने जलीय जीवन को खतरे में डाल दिया है. उदाहरण के लिए बेंगलुरु में कई झीलों में जलीय जीवन असंभव हो गया है, जबकि अन्य जल स्रोतों में अक्सर कई मृत मछलियों, घोंघे या अन्य जलीय जीवों के मृत अवशेष पानी पर तैरते दिखते रहते हैं.


जल स्रोतों का प्रदूषण मछुआरों की आजीविका पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है. सितंबर 2021 में विशाखापत्तनम के परवाड़ा में एक तालाब में कई मरी हुई मछलियां तैरती मिलीं. स्थानीय मछली पालकों ने एक सप्ताह तक विरोध प्रदर्शन करते हुए आरोप लगाया कि क्षेत्र की औद्योगिक इकाइयों ने तालाब को पानी की आपूर्ति करने वाले टैंक को प्रदूषित कर दिया है. उन्होंने स्थिति को सुधारने के लिए तत्काल कदम उठाने की मांग की.


सीवेज और कचरा डंपिंग भारत के तालाबों और झीलों में जल प्रदूषण और निम्न डीओ स्तर में प्रमुख योगदान देता है. 2017 में राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एक रिपोर्ट से पता चला कि अंधाधुंध सीवेज मिलाने की वजह से जल महल झील में ऑक्सीजन का स्तर कम हुआ और बीमारी फैलाने वाले सूक्ष्मजीवों की उत्पत्ति की वजह बना.


धार्मिक आयोजन भी इस समस्या को बढ़ाते हैं. बाणगंगा टैंक को उदाहरण के रूप में ले सकते हैं. एक अन्य उदाहरण राजस्थान में पुष्कर झील का है. इसके पौराणिक महत्व की वजह से यहां साल भर कई तीर्थयात्री और पर्यटक आते हैं. मानवजनित गतिविधियों के परिणामस्वरूप जल प्रदूषण होता है. वार्षिक पुष्कर मेला (पशु मेले के साथ आयोजित) झील पर अतिरिक्त दबाव डालता है. लोग अक्सर गायों और अन्य जानवरों को खिलाने की कोशिश करते हैं, और मवेशी अक्सर झील की परिधि के पास शौच करते हैं जिसके परिणामस्वरूप कार्बनिक पदार्थ जमा हो जाते हैं. इससे डीओ का स्तर कम हो जाता है और झील के जलीय जीवन को खतरा होता है.

जल प्रदूषण के कारण और परिणाम क्या हैं?

जल प्रदूषण तब होता है जब हानिकारक पदार्थ जैसे रसायन या सूक्ष्मजीव किसी धारा, नदी, झील, समुद्र या पानी के किसी अन्य शरीर को दूषित करते हैं. इससे पानी की गुणवत्ता कम होती है और ये मनुष्यों और पर्यावरण के लिए विषाक्त बन जाते हैं.


एटीआरईई के रंगनाथन ने कहा कि जल स्रोतों के लिए जलवायु परिवर्तन एक प्रमुख चुनौती है. गर्म तापमान की वजह से जल स्रोतों में कई प्रभाव होते हैं. उदाहरण के लिए, कार्बन स्टोर रखने वाले यौगिक एक साथ टूट जाते हैं, जिससे पानी में कार्बन डाइऑक्साइड निकलता है. बदलते तापमान जलीय प्रणालियों के भीतर होने वाले अन्य जैविक प्रक्रियाओं को भी प्रभावित करते हैं. ऐसे में मामूली पर्यावरणीय परिवर्तनों के प्रति बहुत संवेदनशील होने वाली प्रजातियां मर सकती हैं. अक्सर, इन प्रजातियों के मरने से जो खाली स्थान बचता है उसे आक्रामक प्रजाति (जैसे जल जलकुंभी) द्वारा भर दिया जाता है, जो इन जलीय प्रणालियों के नुकसान पहुंचाते हैं. उदाहरण के लिए ऐसे प्रजाति डिजॉल्व ऑक्सीजन के भंडार का उपयोग करके इसे कम करते हैं.


मानव स्वास्थ्य के लिए संभावित रूप से घातक होने के अलावा, जल प्रदूषण का जलीय पारिस्थितिक तंत्र पर कई व्यापक प्रभाव पड़ता है. रंगनाथन कहती हैं कि कृषि और औद्योगिक स्रोतों के साथ-साथ खराब नियोजित बुनियादी ढांचे और जल निकायों (जैसे नदियों) को उनके मूल रास्ते से बहुत अधिक मोड़ना भी जलीय रसायन विज्ञान को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर सकता है. वह उल्लेख करती हैं कि भारतीय संदर्भ में अनुपचारित सीवेज और कचरा निपटान प्रमुख समस्या हैं.


विशेष रूप से बड़े पैमाने पर मछली की मौत की घटनाओं के बारे में बोलते हुए, वह कहती हैं, “इस तरह की मछली मरने की घटनाओं के लिए भारी धातु विषाक्तता अक्सर एक महत्वपूर्ण कारक होता है. यहां तक कि अगर थोड़ी मात्रा में भारी धातुएं एक जल स्रोत में प्रवेश करती हैं, तो पारिस्थितिकी तंत्र पर उनका प्रभाव बढ़ जाता है. धातुओं और विषाक्त पदार्थों का सेवन सबसे पहले खाद्य श्रृंखला में नीचे रहने वाले जीव करते हैं. औद्योगिक अपशिष्ट, कीटनाशक, कीटनाशक रसायन सभी इस तरह की मछलियों को मारने में सक्षम हैं. इनमें भारी धातुओं की उच्च मात्रा होती है.”

इस मुद्दे के संभावित समाधान क्या हैं?

हाल के दिनों में दुनिया भर और भारत में कई झील और तालाब को साफ करने की कोशिशें हो रही हैं. स्थानीय स्तर पर अक्सर अगर कोशिशें हो तो अच्छे परिणाम मिल सकते हैं.


पानी की गुणवत्ता पर डेटा एकत्र करने के लिए स्वचालित, जियोटैग्ड, टाइम-स्टैम्प्ड रीयल-टाइम सेंसर का उपयोग करना, स्थानीय स्तर पर जल प्रदूषण के प्रसार को प्रभावी ढंग से पहचानने का एक तरीका है. विश्वसनीय और सुलभ डेटा उपलब्ध कराकर जल प्रदूषण पर एक पूर्व-चेतावनी संकेत प्रणाली बनाया जा सकता है, ताकि समय रहते हस्तक्षेप किया जा सके. इसके अलावा जैसा कि रंगनाथन ने उल्लेख किया है, विभिन्न हस्तक्षेपों की सफलता और प्रभावशीलता का आकलन करने के लिए दीर्घकालिक अध्ययन महत्वपूर्ण हैं. इस तरह के अध्ययन दिखा सकते हैं कि लंबे समय में किस तरह के समाधान कायम किए जा सकते हैं.


अपशिष्ट जल उपचार बुनियादी ढांचे के विकास के लिए नियम, नीतियां और उसे लागू करने के लिए फंड का प्रबंध इसके लिए जरूरी होंगे. ठोस कचरा प्रबंधन में सुधार और उद्योग प्रदूषण को रोकने के लिए कड़े कानूनों को लागू करने से पानी की गुणवत्ता को दुरुस्त करने में मदद मिल सकती है. जल प्रदूषण को कम करने का लक्ष्य लेकर नियमों में बदलाव और उनका कड़ाई से पालन करने की जरूरत है. उदाहरण के लिए जल प्रदूषण का एक प्रमुख स्रोत कृषि गतिविधियां हैं (जैसे रासायनिक उर्वरक और कीटनाशक का प्रयोग). इसलिए, इन रासायनों के उपयोग में कटौती करने वाली हरित कृषि पद्धतियों को बढ़ावा देने से जल प्रदूषण के एक प्रमुख स्रोत को प्रभावी ढंग से नियंत्रित किया जा सकता है.


अंत में जल स्रोत से सीधे तौर से प्रभावित लोगों की भागीदारी और नवाचार भी महत्वपूर्ण हैं. कम खर्चे में नवाचारों की मदद से जल स्रोतों की सफाई के लिए स्थानीय भागीदारों द्वारा प्रबंधन से जमीनी प्रयासों को मजबूती मिलेगी. रंगनाथन ने जोर देकर कहा कि समस्याओं और समाधानों पर चर्चा करने में स्थानीय समूहों को शामिल करना स्थानीय जल स्रोतों के लिए साझा जिम्मेदारी और स्वामित्व की भावना पैदा करने का एकमात्र तरीका है.


स्थानीय समाधानों की एक सफलता की कहानी केरल में लागू की गई ‘सुचित्रा सागरम’ परियोजना है. इसके लिए बंदरगाहों के अधिकारियों को मछुआरों को नायलॉन बैग वितरित किया गया जिसमें वे प्लास्टिक प्रदूषकों को समुद्र में फेंकने के बजाय उसमें रखते गए. एकत्रित प्लास्टिक को अन्य उपयोगों के लिए रिसाइकल किया गया.


जल प्रदूषण के क्षेत्र में नवाचारों को भी प्रोत्साहित किया जा सकता है और सार्थक परिवर्तन को प्रभावित करने के लिए प्रेरित किया जा सकता है. ऐसे ही एक नवाचार का एक उदाहरण ‘फ्लोटिंग आइलैंड्स’ का निर्माण है, जहां जलीय पौधों को मैट पर रखकर प्रदूषित पानी को शुद्ध करने के लिए अपनी जड़ों और पत्ते के माध्यम से मैंगनीज, लोहा, एल्यूमीनियम और अन्य दूषित पदार्थों जैसी भारी धातुओं को अवशोषित कर सकते हैं.


(यह लेख मुलत: Mongabay पर प्रकाशित हुआ है.)


बैनर तस्वीर: झील में बड़े पैमाने पर मृत मछलियां.