[टेकी ट्यूज्डे] जिंगा के सीटीओ से लेकर ट्विटर प्लेटफॉर्म लीड तक, ऐसी रही है निकोलस टॉर्नो की शानदार जर्नी

By Sindhu Kashyaap
March 31, 2020, Updated on : Tue Mar 31 2020 09:40:27 GMT+0000
[टेकी ट्यूज्डे] जिंगा के सीटीओ से लेकर ट्विटर प्लेटफॉर्म लीड तक, ऐसी रही है निकोलस टॉर्नो की शानदार जर्नी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

ट्विटर के प्लेटफॉर्म लीड निकोलस 'निक' टॉर्नो का दृढ़ता से मानना है कि टेक्नोलॉजी और इसका विकास महत्वपूर्ण है, लेकिन जो सबसे ज्यादा मायने रखता है वह यह है कि कैसे इसने "लोगों के व्यवहार और सोचने के तरीके में बदलाव लाया है"। यहां तक कि जब वे किसी इंजीनियरों को हायर करते हैं तब भी वे इस पहलू को ध्यान में रखते हुए ऐसा करते हैं।


निक कहते हैं,

"मैं यह देखता हूं कि क्या लोग उस बड़े उद्देश्य को समझना चाहते हैं, और उसे अपने काम में लाना चाहते हैं। क्या महत्वपूर्ण है, और मैं अपने टूल्स और स्किल का उपयोग कैसे करूं? मैं केवल रॉ टैलेंट के विपरीत व्यापक चुनौती को कैसे स्वीकार कर सकता हूं? ये सारे सवाल सीखने की मानसिकता को दर्शाते हैं।"


ट्विटर पर, प्लेटफॉर्म को स्केल करने के अलावा, निक और उनकी 800 से अधिक लोगों की टीम गलत सूचना और दुर्व्यवहार से लड़ने की दिशा में काम करती है, और स्वस्थ और रचनात्मक सार्वजनिक बातचीत पर ध्यान केंद्रित करती है। उन्हें विश्वास है कि टेक्नोलॉजी पोलराइजेशन और गलत सूचना से निपटने में मदद कर सकती है।



k


मजे की बात ये है कि जब तक निक ने ट्विटर ज्वाइन नहीं किया था तब उनका खुद का कोई ट्विटर अकाउंट नहीं था। और उससे भी मजे की बात ये कि जब वे सोशल गेम डेवलपर Zynga में थे तब उन्होंने कई गेम नहीं खेले थे।


ट्विटर में वह कैसे शामिल हुए, इस पर निक कहते हैं:

“मुझे इस बात का अंदाजा था कि ट्विटर क्या है। मैं मॉर्डन कल्चर से बहुत अलग हो गया था, लेकिन इस बात को लेकर श्योर था कि ट्विटर प्रेस, राजनीति और गलत सूचना का केंद्र था। 2018 में, मैं एक भूमिका की तलाश में था, जो मेरे करियर में एक सार्थक कदम था, और मैंने इसमें शामिल होने से पहले जैक डोरसी से बात की। मैं जानना चाहता था कि क्या कंपनी को पोलराइजेशन और गलत सूचनाओं की उतनी ही फिक्र है जितना की मुझे थी। जब मुझे महसूस हुआ कि वे भी इसको लेकर चिंतित हैं, तो मैं ट्विटर से जुड़ गया।”


प्लेटफॉर्म लीड के रूप में ट्विटर पर एक बड़ी टीम को मैनेज करते हुए, निक के लिए मुश्किल समस्याओं का सामना करना कोई नई बात नहीं है। वह अपने सबसे कठिन समय के दौरान जिंगा के सीटीओ रहे हैं, और समझते हैं कि प्रमुख चरणों को एक सांस्कृतिक और मानसिकता बदलाव की आवश्यकता होती है।


पुराने आईबीएम और पास्कल के साथ शुरूआत


निक के पिता एक एयरफोर्स अधिकारी थे और उनकी मां एक लेखक व शिक्षक थीं। निक का जन्म मैरीलैंड में हुआ था। लेकिन वह मैरीलैंड, न्यू हैम्पशायर, सैक्रामेंटो; कैलिफोर्निया, और टेक्सास, ऑस्टिन सहित अमेरिका के विभिन्न हिस्सों में रहे थे। उनका परिवार चार साल तक पश्चिमी जर्मनी में भी रहा। जब वे युवा थे तब से ही उन्हें साइंस से प्यार था।


वे कहते हैं,

“जब हम पश्चिम जर्मनी में रहते थे, तो मेरे पिता ने हमें एक Amiga कंप्यूटर खरीदा था। मैंने उस का उपयोग करना शुरू किया, उसके बारे में जाना, प्रयोग किया और खूब गेम खेले।"


1992 में, जब परिवार टेक्सास चला गया, तब निक ने हाई स्कूल में कंप्यूटर का उपयोग करना शुरू किया।


उन्होंने कंप्यूटर प्रोग्रामिंग क्लास का विकल्प चुना, और गेम बनाने के लिए पास्कल के साथ एक पुराने आईबीएम पर काम किया। निक ने कंप्यूटर पर काम करने को खूब एंजॉय लिया, लेकिन कभी भी यह महसूस नहीं किया कि यह भी एक कैरियर हो सकता है।


वे कहते हैं,

"हालांकि मुझे यकीन था कि मैं साइंस के साथ ही कुछ करना चाहता था, और इसीलिए MIT मैसाचुसेट्स के लिए अप्लाई किया।"

जल्द ही, वह इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस पर विचार करने लगे।


चार साल में दो कोर्स


कॉलेज में, निक ने दो क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित किया: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और कला को प्रस्तुत करने के लिए कंप्यूटर की क्षमता।


वे बताते हैं,

“आज हमारे पास ऐसी तकनीकें हैं जो बहुत जटिल प्रणालियों को ठीक करने के काफी करीब हैं जो सीधे तौर पर मानव मस्तिष्क की जटिलता या उससे परे की ओर ले जाती हैं; यह बहुत पेचीदा है।”


वह गतिशील और सुंदर कला को प्रस्तुत करने के लिए एक कंप्यूटर की क्षमता से भी रुचि रखते थे। वे कहते हैं, “मैं हमेशा से कला में रहा हूँ, लेकिन कभी भी इसे मैन्युअल रूप से नहीं किया। मेरे पास इसमें अच्छा होने का धैर्य नहीं था।"


उनके लिए कॉलेज का समय काफी इंटेंस था, और निक ने चार साल में अपने ग्रेजुएट और मास्टर कोर्स को पूरा करने के लिए खुद को आगे बढ़ाया।


वे कहते हैं,

“मुझे एमआईटी में प्रतिस्पर्धी माहौल पसंद आया; यह एक कारण था कि मैंने इसे स्टैनफोर्ड के ऊपर चुना। मैंने बहुत सारे कोर्स और क्लासेस के लिए साइन अप किया, चैरिटी, एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी कीं। मुझे लगता है कि मैंने खुद को बहुत मुश्किल से आगे बढ़ाया। स्नातक और मास्टर के बीच का परिवर्तन धुंधला था।"


निक ने अपने तीसरे वर्ष के दौरान इंटर्न करना और काम करना शुरू कर दिया। अपने आगे के दिनों में उन्होंने MIT कंप्यूटर साइंस लैब में एक शोध सहायक के तौर पर बहुत सी कोडिंग की।


वर्कलाइफ की शुरुआत


1998 में, पास आउट होने के बाद, वह ऑस्टिन, टेक्सास में बी 2 बी स्टार्टअप I चैट में शामिल हो गए, जहां उन्होंने मल्टी-थ्रेडेड C ++ चैट सर्वर बनाने के लिए टीम के साथ काम किया। यह तब एक ऑटोमैटिक कॉल डिस्ट्रीब्यूटर (ACD) के रूप में विकसित हुआ।


निक का कहना है कि वर्क लाइफ एक पूरी तरह से अलग अनुभव था क्योंकि उसमें केवल किसी एक ही चीज पर ध्यान केंद्रित कर सकते थे।


वे कहते हैं,

“मैं हमेशा अथक रहा, और हल करने में बहुत संतुष्टि मिली। एक समय में महीनों तक किसी चीज पर ध्यान केंद्रित करने की क्षमता संतोषजनक थी। मैंने बिक्री टीम के साथ एक महत्वपूर्ण समय बिताया, यह समझकर कि ग्राहक क्या चाहता है।"


उपभोक्ता के करीब आना


यह सीखने में उनकी रुचि थी कि ग्राहक क्या चाहता है, इसने निक को एंटप्राइस सॉफ्टवेयर में जाने के लिए प्रेरित किया, जिसे वे कहते हैं कि "इंजीनियरों और ग्राहकों के बीच महत्वपूर्ण संरचनात्मक अलगाव" है।


वे कहते हैं,

"मुझे यह महसूस हुआ कि वे लोग कौन हैं जो वास्तव में हमारा उपयोग कर रहे हैं और क्या चाहते हैं।"


2000 तक, आई चैट को एक बड़ी उद्यम कंपनी बनने के लिए अधिग्रहित किया गया था; लेकिन अगले साल, निक ने एक स्टार्टअप में शामिल होने के लिए इसे छोड़ दिया, जिसको लेकर वे कहते हैं कि "यह उनके लिए अच्छा नहीं गया।"


वे कहते हैं,

“मैं अपने करियर में अपेक्षाकृत युवा था। यह अनिवार्य रूप से वीसी द्वारा वित्तपोषित स्टार्टअप था और 2001 में इनके पास काफी अतिउत्साह था। लेकिन 2002 में, उनके पास पैसे नहीं रहे।”


जिसके बाद 2003 में, निक ने सपोर्टसॉफ्ट को ज्वाइन किया; और एक साल बाद, वह कैलिफोर्निया में शिफ्ट हो गए।


वे कहते हैं,

“2003 तक, मैंने अन्य इंजीनियरों और निर्माताओं के साथ संबंध बनाने पर ध्यान केंद्रित किया, जिनका मैंने सम्मान किया। मैं पैसे बनाने की तुलना में सीखने और निर्माण में अधिक रुचि रखता था।”
k

अपनी ट्विटर टीम के साथ निक

द जिंगा कनेक्ट

जब वह सपोर्टसॉफ्ट में तभी उनका संपर्क मार्क पिंकस के साथ हुआ, जिन्होंने बाद में जिंगा की स्थापना की और कादिर ली उसके सीटीओ बने। निक 2008 में Zynga में शामिल हुए और 2018 तक इस गेम डेवलपर के साथ रहे।


वे कहते हैं,

"जब मैंने Zynga ज्वाइन किया, तो हम एक तरह से गेम बनाने की कोशिश कर रहे थे, जिसने हमें कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में एकीकृत करने की अनुमति दी। हम एक छोटी सी टीम थे; एक व्यक्ति ने चार गेम मैनेज किए और चलाए। हमारे पास एक मिलियन डीएयू (DAUs) थे। मैंने स्क्रैम्बल और वर्ड ट्विस्ट जैसे गेम गेम पर काम किया।”


जिंगा ने तब टेक को स्वायत्तता का उच्च स्तर दिया था। निक ने कहा, "यह आइडिया पूरी तरह से व्यवसाय का हिस्सा था, और मिशन DAUs ग्रो करना था।" निक कहते हैं कि वह प्रोडक्ट मैनेजमेंट से लेकर क्यूए डिप्लॉयमेंट और कस्टमर सपोर्ट तक सब कुछ कर रहे थे।


वे बताते हैं, “यह पहली बार था जब मैंने उन कई लोगों के साथ उस तरह से काम किया था। हम उस प्रोडक्ट को चलाने में सफल रहे।” जब गेम माफिया वॉर ने माइस्पेस पर उड़ान भरी, तो निक को गेम को ग्रो करने में मदद करने के लिए बुलाया गया। यह एक लाख से अधिक DAU के साथ पहला गेम बन गया। उन्होंने डेटाबेस को मैनेज किया, डेटा सेंटरों को माइग्रेट किया और बड़े होने के कारण लोड को मैनेज किया।


निक ने जल्द ही यह जानने की प्रतिष्ठा विकसित की कि कैसे खेलों को स्केल किया जाए, और जब पोकर शुरू हुआ, तो वह गेम के सीटीओ बन गए। वह बताते हैं कि जिंगा में हर गेम एक व्यवसाय की तरह चलता था, वो भी प्रत्येक अपने स्वयं के सीईओ और सीटीओ के साथ। पोकर जल्द ही 9 मिलियन से अधिक DAU में तब्दील हो गया।


वे कहते हैं, “यह एक लाइव मल्टीप्लेयर गेम है। यह एक ऐसा गेम भी है जो शोषण, काला बाजारी और इस तरह की चीजों के अधीन है। इसलिए, स्केलिंग के साथ, हम यह भी लड़ रहे थे।” उसी समय के दौरान, जिंगा ने फार्मविले को लॉन्च किया था, जहां निक ने बैकएंड टेक्नोलॉजी स्टैक के लिए माफिया वॉर्स और पोकर से सीखने का उपयोग किया था।


उन्होंने कहा कि लॉन्च न केवल एक व्यावसायिक दृष्टिकोण से, बल्कि प्रौद्योगिकी के दृष्टिकोण से भी सफल थे। सिटीविले भी उसके तुरंत बाद में शुरू किया गया था, और दो साल के लिए फेसबुक पर सबसे बड़ा गेम बन गया।


एक अलग जिंगा


2012 के आसपास, दुनिया मोबाइल की ओर बढ़ने लगी और फेसबुक ने अपना बिजनेस मॉडल बदलना शुरू कर दिया। यही वह टाइम था जब निक पैटरनिटी लीव (पितृत्व अवकाश) पर गए थे। जब वह 2013 में काम पर लौटे, तो यह एक अलग जिंन्गा था। संघर्षण अधिक था, स्टॉक की कीमतें गिर रही थीं। मार्क पिंकस ने पद छोड़ दिया था और डॉन मैट्रिक सीईओ बन गए थे।


जिस दिन निक वापस आए, उस समय सीटीओ, कादिर ली ने उन्हें अपने ऑफिस में बुलाया। उन्होंने कहा कि वह इस्तीफा दे रहे हैं और पूछा कि क्या निक सीटीओ बन सकते हैं।


निक कहते हैं,

“मैं बहुत सपरप्राइज और शॉक्ड था। मैं इसके लिए तैयार नहीं था, यह निश्चित नहीं था कि क्या किया जाना चाहिए, लेकिन मैंने वास्तव में कादिर की ओर देखा। मैंने सोचा कि यह सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनी का सीटीओ बनने का जिंदगी में एक बार मिलने वाला मौका था।"



वॉर-टाइम सीटीओ होना

पांच लोगों की एक टीम को मैनेज करने से लेकर, निक को अब Zynga CTO के रूप में 120 सदस्यीय टीम की जिम्मेदारी लेनी थी।

वे कहते हैं,

“यह एक तनावपूर्ण समय था, लेकिन उन दो वर्षों के दौरान हमने अपने डेटा केंद्रों से जिंगा को एडब्ल्यूएस में स्थानांतरित कर दिया। हमने अपने सभी सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरों को मोबाइल में शिफ्ट कर दिया। यह जिंगा के लिए वास्तव में महत्वपूर्ण अवधि थी क्योंकि हम सतह पर फंस रहे थे, लेकिन आंतरिक रूप से हम धुरी बना रहे थे।"


वह कहते हैं कि Zynga सफल निवेश योजनाओं के साथ सोशल नेटवर्क पर एक वेब व्यवसाय था, और यह वृद्धिशील राजस्व को चलाने का सबसे सुरक्षित तरीका था। हालांकि, बाजार सिकुड़ रहा था और मोबाइल के आसपास एक नया बाजार उभर रहा था।


निक कहते हैं, ''हमने तब कुछ साहसिक निर्णय लिए।" उसी समय के दौरान, मार्क पिंकस वापस आए और कंपनी को एक और सीईओ, फ्रैंक गिब्यू मिले, 2018 तक, जिंगा ने अपने पैरों पर वापस खड़ा हो गया और फिर से लाभदायक हो गया।


वे कहते हैं,

“मैंने विभिन्न प्रकार के लीडरशिप डिसीजन पर विभिन्न दृष्टिकोण देखे। यह एक ऐसी कंपनी थी जहां उच्च स्तर की स्वायत्तता, रैपिड मूवमेंट और स्पेस की खोज उपयुक्त थी; और मार्क पिंकस इसमें मास्टर थे। हालांकि जल्द ही तेजी से स्केल करने की आवश्यकता नहीं थी। हमें और अधिक तकनीकी मानकीकरण की आवश्यकता थी, और मार्क तब सबसे उपयुक्त नहीं थे।”


वह कहते हैं कि ऐसा भी समय आता है जहाँ आपको सब कुछ भूलकर पहले सिद्धांतों से शुरुआत करने की जरूरत होती। वे कहते हैं,

“किताबें और लोग अक्सर एक ही दृष्टिकोण देते हैं कि आपको चीजों को कैसे करना चाहिए। लेकिन चीजों के बीच में होने के नाते, आपको लगता है कि यह इतना आसान नहीं है। अलग-अलग समय पर अलग-अलग समाधान की आवश्यकता होती है; कुछ लोग उन परिवर्तनों अपना लेते हैं और कुछ नहीं।"


2016 के अमेरिकी चुनाव के दौरान, साफ पोलाराइजेशन को देखते हुए निक असहज महसूस कर रहे थे। वे कहते हैं, “मैं दुनिया के पोलराइजेशन के बारे में बहुत चिंतित हूं। मेरा मानना है कि तकनीक और मानव प्रजाति दोनों को इससे खतरा है। लेकिन, हम महत्वपूर्ण बातचीत के बिना प्रगति नहीं कर सकते हैं।" वे कहते हैं कि इसी ने उन्हें ट्विटर ज्वाइन करने के लिए प्रेरित किया।


सभी टेक एक्सपर्ट्स को सलाह देते हुए, निक कहते हैं कि

"आपको वह काम करने पर फोसक करना चाहिए जिसमें आपको आनंद मिलता हो, एनर्जी मिलती है, नाकि ये सोचना चाहिए कि दूसरे लोग क्या कहेंगे।"


वे कहते हैं,

“यदि आप वो काम करते हैं जिसमें आपको आनंद आता है, तो आपके सफल होने की संभावना बढ़ जाती है। रास्ते में कई बड़ी मुसीबतें आती हैं, लेकिन जो लोग आनंद लेकर काम करते हैं वही उनसे पार भी पाते हैं।"