इस दिवाली HP स्टोर में अपना सामान बेचते नज़र आएंगे स्थानीय कारीगर

By रविकांत पारीक
October 21, 2022, Updated on : Fri Oct 21 2022 03:01:32 GMT+0000
इस दिवाली HP स्टोर में अपना सामान बेचते नज़र आएंगे स्थानीय कारीगर
भारतीय कारीगरों के प्रति सम्मान व्‍यक्‍त करने के मकसद से तैयार की गई शॉर्ट फिल्म #ThoriSiJagahBanaLo भारतीय कारीगरों की रंग-रंगीली संस्कृति को सुरक्षित रखने में होगी मददगार
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अगर आपको अपने आसपास के किसी एचपी वर्ल्ड स्टोर (HP World Store) में कोई स्थानीय कारीगर अपना सामान बेचता नज़र आ जाए, तो आश्चर्य में मत पड़ जाइएगा. एचपी ने इस वर्ष पूरे देश के 15 शहरों में अपने एचपी वर्ल्ड स्टोर में स्थानीय कारीगरों की मेज़बानी करने की घोषणा की है. हमारी समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं का प्रतिनिधित्व करने में भारतीय कारीगरों की अहम भूमिका को देखते हुए एचपी इंडिया (HP India) ने दिवाली का उत्सव मनाने के लिए एक शॉर्ट फिल्म "थोड़ी सी जगह बना लो" (Thori Si Jagah Bana Lo) लॉन्च की है.


अभियान से जुड़ी इस फिल्म को सिंपल क्रिएटिव ने तैयार किया है जिसमें पारंपरिक कारीगरों और स्थानीय कारोबारों की मदद करने को लेकर दिल को छू लेने वाली भावना और उदारता को दर्शाया गया है. इस फिल्म में स्थानीय कारीगरों की अहमियत पर ज़ोर दिया गया है जो हमें बीते वर्षों के दौरान उनकी ताकत की याद दिलाता है.

हमारे दिलों में जगह बनाने और सहानुभूति जगाने के उद्देश्य से तैयार की गई इस फिल्म में एक बुज़ुर्ग कारीगर परेश हैं जो सड़क पर अपने पोते के साथ अपनी कला का प्रदर्शन करने बैठे हैं. इसी बीच स्थानीय अधिकारी उन्हें जगह खाली करने के लिए कहते हैं जिससे अपनी कला को जारी रखने की उनकी उम्मीदें भी खत्म हो जाती हैं.


तभी खरीदारी करने आई एक महिला जो एचपी वर्ल्ड स्टोर में काम करती है, इस पूरी घटना को देखती है और उनके सपने को नई ताकत देने के लिए एक समाधान पेश करती है. एचपी लैपटॉप और प्रिंटर जैसे टैक्नोलॉजी युक्त उत्पादों की मदद से वह एचपी वर्ल्ड स्टोर में परेश के लिए ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार करती है जहां वह अपनी कला का प्रदर्शन कर सकें और उनके जीवन में नया प्रकाश व नई खुशियां आ सकें. टैगलाइन "थोड़ी सी जगह बना लो" को सच्चे अर्थों में दर्शाते हुए यह फिल्म दिवाली की सच्ची भावना को प्रदर्शित करती है और यह संदेश देती है कि कुछ करने से ही कुछ बदलता है.


इस फिल्म के लॉन्च के बारे में प्रशांत जैन, सीएमओ, एचपी इंडिया ने कहा, "हमारी लगातार कोशिश प्रेरणादायक कहानियों को लोगों तक पहुंचाने की है और कारीगरों की कहानी ऐसी ही एक कहानी है जिस पर ज़्यादा से ज़्यादा लोगों का ध्यान जाना चाहिए, ताकि उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर अपनी कला व अपने स्थानीय उत्पादों को पहुंचाने में मदद मिल सके. "थोड़ी सी जगह बना लो" स्थानीय कारीगरों के लिए मदद जुटाने की एक अपील है जिससे सहानुभूति और दया की भावना को बल मिलता है. इस फिल्म के साथ हमारी मंशा कारीगरों की उपस्थिति फिर से स्थापित करना, कारीगरों से जुड़ी अर्थव्यवस्था को नई ताकत देना और एक दूसरे की मदद को साथ आने के लिए प्रेरित करना है."


इस रचनात्मक विचार के बारे में साईनाथ सरबन, सीसीसओ, सिंपल क्रिएटिव इंक ने कहा, "दिवाली के लिए इस वर्ष हमने ऐसी फिल्म बनाई है जो न सिर्फ भावनात्मक और सशक्त है, बल्कि यह स्क्रीन से होती हुई असल दुनिया में पहुंच जाती है. इस प्रयास के माध्यम से हम यह चाहते हैं कि भारत की समृद्ध एवं जादुई संस्कृति का संरक्षण करने वाले कारीगरों को वह अवसर और जगह मिले जिससे वे अपनी कला और प्रतिभा की खूबसूरती आपको दिखा सकें. इस वर्ष के हमारे रचनात्मक विचार "दिल में जगह बना लो" बहुत ही खूबसूरती से इस तथ्य को दिखाया गया है कि लोगों को सबसे पहले अपने दिल में जगह बनाने की ज़रूरत है."


इस वादे को निभाते हुए एचपी इंडिया ने 20 अक्टूबर से 15 शहरों में अपने 75 एचपी वर्ल्ड स्टोर में कारीगरों और उनकी कला के लिए जगह उपलब्ध कराई है. इन शहरों में- दिल्ली, गुड़गांव, जयपुर, लुधियाना, गाज़ियाबाद, नोएडा, लखनऊ, कोलकाता, पटना, पुणे, मुंबई, अहमदाबाद, चेन्नई, बेंगलुरू, हैदराबाद, कोचिन शामिल हैं. आप इन स्टोर में जाकर और फिल्म पर बने क्यूआर कोड को स्कैन करके अपना योगदान दे सकते हैं.