वेयरेबल टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से स्पोर्ट्स इंजरी के क्षेत्र में बड़ा बदलाव ला रहा है हैदराबाद का यह स्टार्टअप

वेयरेबल टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से स्पोर्ट्स इंजरी के क्षेत्र में बड़ा बदलाव ला रहा है हैदराबाद का यह स्टार्टअप

Wednesday August 25, 2021,

6 min Read

2019 में अनमोल अजय सक्सेना ने हैदराबाद से अश्वा वेयरटेक (अश्वा वेयरेबल टेक्नोलॉजीज) की स्थापना की और इसके तहत फिटनीज (Fitknees) को लॉन्च किया। यह सेंसर-आधारित घुटने की चोट की निगरानी करने वाला एक प्लेटफॉर्म है, जो रोगियों को नियमित रिपोर्ट के साथ प्रगति को ट्रैक करने में मदद करता है और उन्हें अपने फिजियोथेरेपी उपचार से चिपके रहने का अधिकार देता है।

क

Fitmust [फोटो साभार: अश्वा वेयरटेक]

घुटने के दर्द से जूझने के एक व्यक्तिगत संघर्ष ने अनमोल अजय सक्सेना को 2016 में एक उद्यमी बनने के लिए प्रेरित किया और फिर उन्होंने वेयरबेल यानी पहनने योग्य तकनीकों का उपयोग करके मस्कुलोस्केलेटल हेल्थकेयर को लोकतांत्रिक बनाने की यात्रा शुरू की।


अनमोल ने स्केलेटमस्कुलर स्थितियों या चोटों से जूझ रहे लोगों की मदद करने में फिजियोथेरेपी की क्षमता को महसूस किया और लोगों को उनकी मांसपेशियों के स्वास्थ्य को समझने और उनकी प्रगति को ट्रैक करने में मदद करने के लिए एक समाधान पर काम करना शुरू किया।


2019 में उन्होंने हैदराबाद से अश्वा वेयरटेक (अश्वा वेयरेबल टेक्नोलॉजीज) की स्थापना की और इसके तहत फिटनीज (Fitknees) को लॉन्च किया। यह सेंसर-आधारित घुटने की चोट की निगरानी करने वाला एक प्लेटफॉर्म है, जो रोगियों को नियमित रिपोर्ट के साथ प्रगति को ट्रैक करने में मदद करता है और उन्हें अपने फिजियोथेरेपी उपचार से चिपके रहने का अधिकार देता है।


स्पर्श ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स में पुनर्वास सेवाओं के प्रमुख डॉ पद्मनाभन सेकरन, अश्व में सीएसओ और संरक्षक की जिम्मेदारी संभालते हैं।


योरस्टोरी से बात करते हुए, अश्व वेयरटेक की डायरेक्टर और फाउंडर-सीईओ अनमोल ने बताया कि उनके ऑन-फील्ड शोध डेटा से पता चला है कि घुटने के पुराने दर्द वाले 10 में से आठ मरीज अपने पहले सत्र के बाद वापस नहीं आए।


इस यात्रा के दौरान, टीम ने जोड़ों और मांसपेशियों के विभिन्न मापदंडों को मापने के चिकित्सकीय रूप से सटीक तरीकों के बारे में सीखना शुरू किया। उन्होंने पाया कि सबसे महत्वपूर्ण मापदंडों में से एक मसल्स यानी की मांसपेशियों की ताकत थी।


इस अप्रैल में अश्वा वेयरटेक ने मांसपेशियों की ताकत को चिकित्सकीय रूप से अधिक सटीक तरीके से मापने के लिए फिटमस्ट, नाम का एक हैंडहेल्ड मसल्स स्ट्रेंथ डायनेमोमीटर लॉन्च किया।

क

[फोटो साभार: Ashva Weartech]

माइक्रोप्रोसेसर-आधारित डायनेमोमीटर मांसपेशियों की ताकत को सटीक रूप से मापता है और प्रगति की निगरानी करता है। इसका उद्देश्य मस्कुलोस्केलेटल या खेल की चोटों को ठीक करने और उपचार में मदद करना है।


अनमोल कहती हैं,

"जब भी आप घायल होते हैं, तो आपका फिजियोथेरेपिस्ट या आर्थोपेडिक सर्जन हमेशा आपकी मांसपेशियों की ताकत को देखता है। इसके अलावा, जब आप जिम जाते हैं तो आपके स्वास्थ्य का मुख्य पैरामीटर कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम होता है। इसलिए हम अपने फेफड़ों और अपने दिल की मांसपेशियों को बेहतर बनाने के लिए कार्डियो एक्सरसाइज करते हैं। दूसरा पैरामीटर आपके शरीर की मांसपेशियों की ताकत है - आपकी गर्दन, बाइसेप्स, ट्राइसेप्स, पैर आदि कितने मजबूत हैं। इस तरह मांसपेशियों की ताकत को मापने का एक अधिक सटीक तरीका विकसित करने में हमारी रुचि आई और हम फिटमस्ट पर पहुंचे, जो मांसपेशियों की ताकत के लिए पूरी तरह से एकीकृत टेस्ट समाधान है।”

आइसोमेट्रिक मांसपेशियों की मजबूती की जांच

अनमोल ने खुलासा किया कि फिटमस्ट को पहले फिटनीज उत्पाद के एक हिस्से के रूप में लॉन्च किया गया था, जो पुराने घुटने के दर्द के लिए एक समग्र रिपोर्टिंग प्रणाली बनाने में मदद करे। हालांकि, टीम ने महसूस किया कि फिटमस्ट का निचले अंगों के माप के अलावा भी इस्तेमाल हो सकता है। 


वह कहती हैं,

“सिर्फ एक फिक्स्चर की अदला-बदली करके, हम वास्तव में कलाई और कोहनी जैसे छोटे जोड़ों को माप सकते हैं। बड़े फिक्स्चर के साथ, हम किसी के कंधे, कूल्हे, घुटने, टखने, आदि को माप सकते हैं। इसलिए, हमने इसे एक अलग उत्पाद लाइन के रूप में लॉन्च किया।”

क

मांसपेशियों की ताकत को मापने के बारे में बात करते हुए फाउंडर ने बताया कि इसके लिए 10-आरएम टेस्ट नाम के एक मेथड का इस्तेमाल किया जाता है। इसके तहत रोगी या यूजर्स मांसपेशियों के थकने तक ऊपरी और निचले शरीर की मांसपेशियों की ताकत परीक्षण के लिए बेंच प्रेस और लेग प्रेस जैसे व्यायाम के 10 दोहराव करता है। अधिकतम वजन जो कोई उठा सकता है उसे मांसपेशियों की ताकत के रूप में मापा जाता है।


इसके अलावा, मांसपेशियों की ताकत का परीक्षण करने का दूसरा सबसे सटीक तरीका एक आइसोकिनेटिक डायनेमोमीटर का इस्तेमाल करना है। यह एक बड़ी मोटर चालित मशीन है, जिसकी कीमत 1 करोड़ रुपये से अधिक हो सकती है।


वह बताती हैं,

"हम आपकी मांसपेशियों की जांच का और भी सटीक तरीका विकसित करना चाहते थे। हम आइसोमेट्रिक मांसपेशियों की ताकत को मापने के लिए एक और तरीके का उपयोग करते हैं। इसके तहच एक दीवार या दूसरी सतह के खिलाफ अपनी मांसपेशियों को उनमें तनाव महसूस करने के लिए जोर दिया जाता है। माप का यह तरीका वर्तमान में मैन्युअल रूप से किया जाता है; डॉक्टर मरीजों को अपनी मांसपेशियों को अपने हाथों के खिलाफ धकेलने के लिए कह सकते हैं। हालांकि, यह एक सटीक तरीका नहीं है क्योंकि डॉक्टर रोगी की तुलना में अधिक मजबूत या कमजोर हो सकता है, जिससे गलत रीडिंग हो सकती है।”


इसी समस्या के समाधान के लिए फिटमस्ट को लॉन्च किया गया है। डॉक्टर, फिजियोथेरेपिस्ट, या फिटनेस ट्रेनी अभी भी एक उपकरण का उपयोग करके रोगी की मांसपेशियों के खिलाफ अपना हाथ रखेंगे। यह उपकरण मांसपेशियों की ताकत का सटीक माप देने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इलाज और फिजियोथैरेपी से गुजर रहे मरीज यह परीक्षण कर सकेंगे और नियमित रूप से अपनी प्रगति की निगरानी कर सकेंगे।


अनमोल ने कहा कि यूजर्स मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से भी रिपोर्ट तक पहुंच सकते हैं। वह कहती हैं, "यूजर्स के लिए मांसपेशियां यह समझने के लिए एक मजबूत प्रगति संकेतक हैं कि फिजियोथेरेपी के साथ उनकी मांसपेशियों के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है या नहीं।"

व्यापार और आगे की योजना

अनमोल का कहना है कि अश्वा वेयरटेक B2B मॉडल पर काम करती है। उत्पादों को पुनर्वास केंद्रों, आर्थोपेडिक केंद्रों, जिमों आदि को बेचा जाता है। फिटनीज और फिटमस्ट दोनों ने क्लीनिकल ट्रायल पूरा कर लिया है। फिटनीज एक सशुल्क पायलट के दौर से गुजर रहा है।

क


वह कहती हैं, “हमने अब तक सात उत्पादों को तैनात किया है। हम अपनी उत्पाद लाइन और पूरे भारत में विस्तार करना चाह रहे हैं।”


वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी - टेक्नोलॉजी बिजनेस इन्क्यूबेटर (VITTBI) से निकली अश्वा वेयरटेक को डीएसटी निधि प्रयास और बिरैक सीड फंड द्वारा VITTBI के जरिए सहयोग किया गया। फिलहाल स्टार्टअप अपनी एंजल फंडिंग जुटाने की प्रक्रिया में है।


अनमोल ने खुलासा किया कि स्टार्टअप का लक्ष्य अगले एक साल में कम से कम 150 से 200 केंद्रों तक अपनी पहुंच का विस्तार करना है। वह मूल्य निर्धारण विवरण साझा करने से इनकार करती है, लेकिन यह बताती है कि स्टार्टअप इस साल 50 लाख रुपये में आने की उम्मीद कर रहा है।


रिसर्चएंडमार्केट की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में पहनने योग्य उपकरणों का बाजार 2024 तक 16.22 मिलियन यूनिट की बिक्री तक पहुंचने की उम्मीद है, जो 2019 में 4.72 मिलियन था। यह क्षेत्र 26.33 प्रतिशत की सालाना ग्रोथ रेट से बढ़ रहा है।


सूजे इनोवेटिव हेल्थकेयर डिवाइसेस सहित अन्य कई ब्रांड और कंपनियां भी इस क्षेत्र में मौजूद हैं, जो पहनने योग्य तकनीक का उपयोग करके फिजियोथेरेपी से संबंधित चुनौतियों को हल करने के लिए काम कर रही हैं।


Edited by Ranjana Tripathi