आधार कार्डधारक ध्यान दें! 10 साल पुराना है आधार नंबर तो डॉक्युमेंट कराने होंगे अपडेट

By yourstory हिन्दी
October 12, 2022, Updated on : Wed Oct 12 2022 05:36:27 GMT+0000
आधार कार्डधारक ध्यान दें! 10 साल पुराना है आधार नंबर तो डॉक्युमेंट कराने होंगे अपडेट
UIDAI ने कहा है कि अपडेशन, ऑनलाइन मोड से और आधार सेंटर्स दोनों के माध्यम से कर सकते हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अगर आपका आधार कार्ड (Aadhaar) 10 साल पुराना है तो यह खबर आपके लिए जरूरी है. ऐसे लोग, जिनका आधार 10 वर्ष से ज्यादा पुराना है और उन्होंने तब से अब तक अपनी डिटेल्स को अपडेट नहीं किया है, उन्हें अपना आइडेंटिफिकेशन और आवास प्रमाण डॉक्युमेंट्स को अपडेट करना होगा. यह बात आधार जारी करने वाली और इससे जुड़ी सर्विसेज देखने वाली अथॉरिटी, भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने कही है.


बयान में UIDAI ने कहा है कि अपडेशन, ऑनलाइन मोड से और आधार सेंटर्स दोनों के माध्यम से कर सकते हैं. UIDAI ने कहा है, ‘ऐसे व्यक्ति जिन्होंने अपना आधार दस साल पहले बनवाया था एवं उसके बाद से अब तक के इन वर्षों में कभी अपडेट नहीं करवाया है, ऐसे आधार नंबर धारकों से दस्तावेज अपडेट करवाने का आग्रह किया जाता है.’ हालांकि UIDAI ने यह नहीं बताया कि यह अपडेशन अनिवार्य है या नहीं.

देनी होगी फीस

अथॉरिटी ने कहा कि UIDAI ने इस संबंध में आधार धारकों को दस्तावेज अपडेट की सुविधा, निर्धारित शुल्क के साथ प्रदान की है. आधार धारक व्यक्तिगत पहचान प्रमाण और पते के प्रमाण से जुड़े दस्तावेजों को आधार डाटा में अपडेट कर सकता है. यह सुविधा 'माई आधार पोर्टल' से ऑनलाइन और निकटतम आधार सेंटर दोनों पर उपलब्ध है.

पहचान के महत्वपूण प्रमाण के रूप में उभरा आधार

बयान में कहा गया है कि पिछले 10 सालों के दौरान आधार नंबर, किसी व्यक्ति की पहचान के प्रमाण के रूप में उभरा है और इसका उपयोग विभिन्न सरकारी योजनाओं एवं सेवाओं का लाभ उठाने के लिए किया जा रहा है. UIDAI ने कहा कि इन योजनाओं एवं सेवाओं का लाभ उठाने के लिए, लोगों को व्यक्तिगत नवीनतम विवरण से आधार डाटा को अपडेट रखना है ताकि आधार प्रमाणीकरण और सत्यापन में कोई असुविधा न हो.



बता दें कि UIDAI एक सांविधिक प्राधिकरण है, जिसकी स्थापना आधार कानून, 2016 के तहत 12 जुलाई, 2016 को भारत सरकार द्वारा की गई थी. इसकी स्थापना भारत के सभी निवासियों को ‘आधार’ नामक विशिष्ट पहचान संख्या (UID) जारी करने के उद्देश्य से की गई थी ताकि दोहरी एवं फर्जी पहचान को समाप्त किया जा सके.


...............


Edited by Ritika Singh