चार्टर्ड अकाउंटेंट देश के खाते की अंतरात्मा के रखवाले होते हैं: केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह

By रविकांत पारीक
February 12, 2022, Updated on : Sat Feb 12 2022 05:50:14 GMT+0000
चार्टर्ड अकाउंटेंट देश के खाते की अंतरात्मा के रखवाले होते हैं: केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह
प्रधानमंत्री मोदी ने "व्यापार में आसानी" लाने और भारतीय अर्थव्यवस्था को वैश्विक मापदंड पर लाने के लिए कई पथप्रदर्शक उपायों की शुरुआत की है: डॉ. जितेंद्र सिंह
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार); राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पृथ्वी विज्ञान मंत्री; प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्य मंत्री, डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि चार्टर्ड एकाउंटेंट देश के खाते के जागरूक रखवाले हैं, इसलिए एक राष्ट्र के वित्तीय स्वास्थ्य के लिए उनका ईमानदार विवेक बहुत महत्वपूर्ण है।


डॉ. जितेंद्र सिंह मुख्य अतिथि के रूप में इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) के वार्षिक पुरस्कार प्रस्तुति कार्यक्रम में बोल रहे थे, जहां उन्होंने देश के विभिन्न कॉरपोरेट घरानों के साथ-साथ सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की इकाइयों को वित्तीय रिपोर्टिंग और अंतर्राष्ट्रीय सतत रिपोर्टिंग में उत्कृष्टता के लिए पुरस्कार प्रदान किए।


इस अवसर पर ICAI के अध्यक्ष सीए निहार जंबुसरिया और ICAI उपाध्यक्ष सीए (डॉ.) देबाशीष मित्रा ने भी अपने विचार रखे। पुरस्कार प्राप्त करने वालों में टाटा, महिंद्रा एंड महिंद्रा, रिलायंस, एनएचपीसी समेत भारत के कुछ अन्य प्रमुख कॉर्पोरेट और सार्वजनिक क्षेत्र के घराने शामिल थे।

ICAI

अपने संबोधन में डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारत के चार्टर्ड एकाउंटेंट्स संस्थान देश की प्रमुख लेखा संस्था है, उसे सभी संबंधितों द्वारा पालन किए जाने वाले ठोस लेखांकन प्रथाओं और मानकों को स्थापित करने का कार्य सौंपा गया है। ऐसा करते हुए उन्होंने कहा कि ICAI को राष्ट्र निर्माण के हित में जवाबदेही, उत्कृष्टता और ईमानदारी के सर्वोच्च मानकों का पालन करने की उच्च अपेक्षाओं पर खरा उतरना है।


डॉ. जितेंद्र सिंह ने दोहराया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने "व्यापार में आसानी" लाने और वैश्विक मानकों के अनुकूल भारतीय अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाने के लिए कई पथप्रदर्शक उपायों की शुरुआत की है। ऐसे में उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में ICAI की भूमिका और अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है।


डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि वित्तीय बाजारों के सफल संचालन के लिए वित्तीय रिपोर्टिंग महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसने वार्षिक रूप से प्रकाशित रिपोर्टों के माध्यम से समान रूप से उद्देश्यपूर्ण और निष्पक्ष जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि यह बदले में सरकार और उसकी एजेंसियों को आवश्यक संसाधन आवंटित करने में भी मदद करता है और देश की आय व अन्य संबंधित क्षेत्रों की गणना के लिए नींव के रूप में कार्य करता है।


डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि उन्हें यह जानकर खुशी हुई कि ICAI ने विभिन्न भारतीय लेखा मानकों को जारी किया और लेखांकन के क्षेत्र में सबसे उन्नत क्षेत्रों के अनुरूप लाने के लिए कुछ पिछले लेखांकन मानकों को भी संशोधित किया।


1958 में स्थापित "इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया अवार्ड्स फॉर फाइनेंशियल रिपोर्टिंग" विभिन्न कंपनियों को वित्तीय रिपोर्टिंग के अपने मानकों में सुधार करने के लिए एक विश्वसनीय मंच प्रदान करता है। हालांकि इस साल पहली बार ICAI ने जलवायु परिवर्तन, लैंगिक समानता आदि जैसे क्षेत्रों में उत्कृष्ट योगदान देने वाले संगठनों को मान्यता देने और उन्हें पुरस्कृत करने के नेक उद्देश्य के साथ "सस्टेनेबल रिपोर्टिंग अवार्ड्स" भी शुरू किया है।


इस अवसर पर डॉ. जितेंद्र सिंह ने कॉर्पोरेट गवर्नेंस डिसक्लोजर कंपटीशन के लिए सार्क वार्षिक पुरस्कार भी प्रदान किए।