Wakefit ने जुटाई 320 करोड़ रुपये की फंडिंग, 100 दिन तक रोजाना 9 घंटे सोने के 1 लाख रुपये देती है कंपनी

By yourstory हिन्दी
January 13, 2023, Updated on : Mon Jan 16 2023 05:36:54 GMT+0000
Wakefit ने जुटाई 320 करोड़ रुपये की फंडिंग, 100 दिन तक रोजाना 9 घंटे सोने के 1 लाख रुपये देती है कंपनी
साल 2022 में कंपनी ने देशभर में 12 ऑफलाइन स्टोर खोले थे. इसने उसे मेट्रो और टियर-2 शहरों में मार्केट में पकड़ मजबूत करने और कस्टमर के और करीब पहुंचने में मदद की. अगले 3 सालों में उसकी योजना 20 शहरों में 100 स्टोर खोलने की है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

डी2सी होम और स्लीप सॉल्यूशंस कंपनी वेकफिट ने डी-सीरीज फंडिंग राउंड में 320 करोड़ रुपये की फंडिंग हासिल की है. अल्टरनेटिव इंवेस्टमेंट प्रोडक्ट्स में 40 साल से अधिक के ट्रैक रिकॉर्ड वाले इंवेस्टकॉर्प ने इस फंडिंग राउंड को लीड किया. इस फंडिंग राउंड में सिकोइया कैपिटल इंडिया, SIG, वर्लिनवेस्ट जैसे मौजूदा निवेशकों ने भी हिस्सा लिया और कंपनी के भविष्य में भरोसा दिखाया. इस ट्रांजैक्शन के लिए इंडिगोएज ने वेकफिट के एक्सक्लूसिव एडवाइजर के रूप में काम किया.


बता दें कि, वेकफिट का लक्ष्य फाइनेंशियल ईयर 2024 में 1200 करोड़ रुपये का रिवेन्यू जुटाना है. वहीं, दो सालों के बाद उसे एबिटा के पॉजिटिव होने की उम्मीद है.


Wakefit ने फाइनेंशियर ईयर 2022 में 636 करोड़ रुपये के राजस्व में फाइनेंशियर ईयर 2021 के बाद से 54 फीसदी की वृद्धि दर्ज की. पिछले साल Wakefit स्लीप और होम सॉल्यूशन श्रेणी में सबसे अधिक खोजा जाने वाला ब्रांड बनकर उभरा.


कंपनी अपनी इस फंडिंग का इस्तेमाल बेहद सावधानी से करेगी ताकि वह प्रोडक्ट इनोवेशन और कस्टमर के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभा सके. सीरीज-डी राउंड वेकफिट को विभिन्न श्रेणियों में अपनी विस्तार योजनाओं को मजबूत करने और देश के सुदूर इलाकों तक पहुंचने के लिए अपनी उपस्थिति को मजबूत करने में सक्षम करेगा. इसके अलावा, यह फंड वेकफिट की मैन्युफैक्चरिंग और सप्लाई चेन क्षमताओं को बढ़ावा देंगे, सभी स्तरों पर हायरिंग बढ़ाएंगे और ब्रांड निर्माण की पहल को भी बढ़ाएंगे.


साल 2022 में कंपनी ने देशभर में 12 ऑफलाइन स्टोर खोले थे. इसने उसे मेट्रो और टियर-2 शहरों में मार्केट में पकड़ मजबूत करने और कस्टमर के और करीब पहुंचने में मदद की. अगले 3 सालों में उसकी योजना 20 शहरों में 100 स्टोर खोलने की है.


वहीं, कंपनी ने अपना विस्तार करते हुए पिछले साल देश की सबसे बड़ी फर्नीचर फैक्टरी खोली जिसने उसे कंपनी में अपने फर्नीचर सेगमेंट को बढ़ाने में मदद की. फैक्टरी को अत्याधुनिक स्वचालन के साथ विश्व स्तरीय मानकों को पूरा करने के लिए बनाया गया है और इसमें प्रति माह लगभग 1 लाख घरों को फर्निश करने की क्षमता है.


जबकि स्लीप सेगमेंट अभी भी इसके कारोबार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, कंपनी का फर्नीचर पोर्टफोलियो अब इसके राजस्व का 25 फीसदी के करीब योगदान देता है.


बता दें कि, वेकफिट मार्च 2016 में स्थापित एक रिसर्च और इनोवेशन बेस्ड स्लीप और होम सॉल्यूशन कंपनी है. इसकी स्थापना अंकित गर्ग और चैतन्य रामालिंगगौड़ा ने की थी, जिसका उद्देश्य भारत का सबसे पसंदीदा होम और स्लीप सॉल्यूशन ब्रांड बनना था.


पहले इसके पोर्टफोलियो में मैट्रेसेज, पिलो, बेड फ्रेम, मैट्रेस प्रोटेक्टर, कम्फर्टर्स, नेक पिलो और बैक कुशन शामिल थे. हालांकि, वेकफिट ने अब स्टडी टेबल, बुकशेल्व, शू रैक, टीवी यूनिट, बेडसाइड टेबल, कॉफी टेबल, डाइनिंग टेबल, कुशन, फर्श के आसनों, पर्दे, तौलिये जैसे घरेलू उत्पादों को भी शामिल कर लिया है.


कंपनी बेंगलुरु, जोधपुर और दिल्ली की फैक्टरियों में इन-हाउस अपने उत्पाद बनाती है. यह देशभर में अपने ऑनलाइन पोर्टल, ऑफलाइन रिटेल स्टोर और अन्य लोकप्रिय ऑनलाइन मार्केटप्लेस के माध्यम से बिक्री करता है.


वेकफिट ने पिछले छह वर्षों में 10 लाख से अधिक ग्राहकों को सर्विस मुहैया कराई है. कंपनी को प्रमुख निवेशक सिकोइया कैपिटल इंडिया से सीरीज-ए फंडिंग, वर्लिन्वेस्ट और सिकोइया कैपिटल इंडिया से सीरीज-बी फंडिंग मिली और हाल ही में अमेरिका स्थित एसआईजी से सीरीज सी फंडिंग प्राप्त हुई, जबकि मौजूदा निवेशक वर्लिनवेस्ट और सिकोइया कैपिटल इंडिया ने भी भाग लिया.


Edited by Vishal Jaiswal