क्या है LIC का ‘न्यू जीवन शांति’ प्लान, जिसके लिए बढ़ गई पेंशन की रेट

By Ritika Singh
January 08, 2023, Updated on : Sun Jan 08 2023 01:31:33 GMT+0000
क्या है LIC का ‘न्यू जीवन शांति’ प्लान, जिसके लिए बढ़ गई पेंशन की रेट
बढ़ी हुई एन्युइटी रेट्स के साथ LIC न्यू जीवन शांति प्लान का मॉडिफाइड वर्जन बिक्री के लिए 5 जनवरी 2023 से उपलब्ध है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारतीय जीवन बीमा निगम (Life Insurance Corporation of India or LIC) ने अपनी न्यू जीवन शांति पॉलिसी (New Jeevan Shanti Plan) के तहत एन्युइटी रेट यानी पेंशन की दर को बढ़ा दिया है. नई दर 5 जनवरी 2023 से प्रभावी हैं. इसके अलावा हायर परचेज प्राइस के लिए इंसेंटिव को भी बढ़ाया गया है. यह 3 से लेकर 9.75 रुपये प्रति 1000 रुपये के परचेज प्राइस के बीच है, जो कि परचेज प्राइस और चुने गए डेफरमेंट पीरियड पर बेस्ड है. डेफरमेंट पीरियड का अर्थ यह है कि पॉलिसी खरीदने के कितने समय बाद एन्युइटी/पेंशन मिलना शुरू होगा.


LIC की ओर से जारी बयान में कहा गया कि बढ़ी हुई एन्युइटी रेट्स के साथ प्लान का मॉडिफाइड वर्जन भी बिक्री के लिए 5 जनवरी 2023 से उपलब्ध है. न्यू जीवन शांति प्लान के तहत एन्युइटी अमाउंट को LIC की वेबसाइट पर मौजूद कैलकुलेटर और विभिन्न LIC ऐप्स के माध्यम से कैलकुलेट कर सकते हैं.

आखिर क्या है यह प्लान

LIC ‘न्यू जीवन शांति’ में एन्युइटी यानी पेंशन को पॉलिसी खरीदते समय ही फिक्स्ड कर दिया जाता है और डेफरमेंट पीरियड बीत जाने के बाद पॉलिसी खरीदने वाले व्यक्ति को जिंदगी भर एन्युइटी मिलती रहती है. LIC न्यू जीवन शांति प्लान एक नॉन लिंक्ड, नॉन पार्टिसिपेटिंग, इंडिविजुअल, सिंगल प्रीमियम, डेफर्ड एन्युइटी प्लान है. प्लान को ऑनलाइन या ऑफलाइन ले सकते हैं. इस प्लान में पॉलिसी लेने वाले को एक बार ही एकमुश्त प्रीमियम का भुगतान करना होता है.

निवेश के लिए दो विकल्पों में है पॉलिसी

यह पेंशन प्लान दो विकल्पों में उपलब्ध है- डेफर्ड एन्युइटी फॉर सिंगल लाइफ और डेफर्ड एन्युइटी फॉर जॉइंट लाइफ. जॉइंट लाइफ प्लान अपने नजदीकी संबंधियों के साथ लिया जा सकता है, जैसे दादा, माता-पिता, बच्चे, पोते, पति-पत्नी या भाई-बहन.


डेफर्ड एन्युइटी फॉर सिंगल लाइफ विकल्प के तहत पेंशन एक ही व्यक्ति से जुड़ी होगी. इस विकल्प में डेफरमेंट पीरियड के दौरान पॉलिसीधारक की मृत्यु होने पर उसके नॉमिनी को डेथ बेनिफिट प्राप्त होगा. वहीं डेफरमेंट पीरियड के दौरान जीवित पॉलिसीधारक को कुछ नहीं मिलेगा. डेफरमेंट पीरियड पूरा होने के बाद जब तक पॉलिसी लेने वाला जीवित रहेगा, उसे निश्चित पेंशन प्राप्त होती रहेगी. वहीं अगर पॉलिसी लेने वाले की मृत्यु हो जाती है तो नॉमिनी को डेथ बेनिफिट मिलेगा.


डेफर्ड एन्युइटी फॉर जॉइंट लाइफ वाले विकल्प में डेफरमेंट पीरियड के दौरान पॉलिसी के प्राइमरी और/या सेकंडरी होल्डर को कुछ भी प्राप्त नहीं होता. वहीं दोनों जॉइंट होल्डर की मृत्यु होने के बाद नॉमिनी को डेथ बेनिफिट मिलता है. डेफरमेंट पीरियड पूरा होने के बाद प्राइमरी और/या सेकंडरी होल्डर को उनके जीवनकाल में पेंशन मिलती रहती है. इसके बाद जो भी लंबे समय तक जीवित रहता है, उसे पेंशन मिलती रहती है. जब दोनों ही नहीं रहेंगे, तो नॉमिनी/कानूनी उत्तराधिकारी को डेथ बेनिफिट मिलेगा.

कितना डेथ बेनिफिट

LIC न्यू जीवन शांति प्लान में दोनों विकल्पों के तहत डेथ बेनिफिट, परचेज प्राइस प्लस एक्रूड एडिशनल बेनिफिट और पॉलिसीधारक की मृत्यु होने तक दी जा चुकी पेंशन के अंतर से ज्यादा होता है. यह परचेज प्राइस के 105 प्रतिशत से ज्यादा रहेगा.


डेथ पर एडिशनल बेनिफिट: यह केवल डेफरमेंट पीरियड के आखिर तक, प्रत्येक पॉलिसी माह के अंत में जमा होगा. डेफरमेंट पीरियड के दौरान मृत्यु पर एडिशनल बेनिफिट की दर इस तरह है...


मृत्यु पर प्रति माह एडि​शनल बेनिफिट= (परचेज प्राइस *मासिक आधार पर देय एन्युइटी रेट प्रति वर्ष/12


यहां मासिक आधार पर देय सालाना एन्युइटी रेट, कोई इंसेंटिव अप्लाई किए बिना मंथली मोड के लिए लागू एन्युइटी रेट प्रति यूनिट परचेज प्राइस के बराबर होगी. इसके अलावा यह पॉलिसी के चुने गए विकल्प, पॉलिसी लेते वक्त धारक/धारकों की उम्र और चुने गए डेफरमेंट पीरियड पर निर्भर करेगी.

what-is-lic-new-jeevan-shanti-plan-lic-increased-annuity-rates-for-new-jeevan-shanti-plan-know-pension-details

मिनिमम परचेज प्राइस और मिनिमम पेंशन

LIC न्यू जीवन शांति प्लान के तहत मिनिमम परचेज प्राइस 1.5 लाख रुपये है. मैक्सिमम परचेज प्राइस की कोई लिमिट नहीं है. पेंशन मासिक, तिमाही, छमाही या सालाना आधार पर पाई जा सकती है. मिनिमम एन्युइटी यानी पेंशन मासिक आधार पर 1000 रुपये है. वहीं तिमाही आधार पर मिनिमम पेंशन 3000 रुपये, छमाही आधार पर 6000 रुपये और सालाना आधार पर 12000 रुपये है. अपने ऊपर निर्भर दिव्यांग के लिए न्यूनतम 50 हजार रुपये में इस पॉलिसी को खरीदा जा सकता है.

उदाहरण से समझें...

अगर किसी ने 10 लाख रुपये के परचेज प्राइस पर LIC न्यू जीवन शांति प्लान लिया है, ​प्लान लेते वक्त पॉलिसीधारक की उम्र 45 वर्ष है और डेफरमेंट पीरियड 12 वर्ष है तो पेंशन सालाना, छमाही, तिमाही और मासिक आधार पर कुछ इस तरह होगी...

what-is-lic-new-jeevan-shanti-plan-lic-increased-annuity-rates-for-new-jeevan-shanti-plan-know-pension-details

एन्युइटी रेट में वृद्धि के माध्यम से हायर परचेज प्राइस के लिए इंसेंटिव, परचेज प्राइस के तीन स्लैब के लिए प्रदान किया जाता है— i) 5,00,000 रुपये से लेकर 9,99,999 रुपये ii) 10,00,000 रुपये से लेकर 24,99,999 रुपये iii) 25,00,000 रुपये और इसके ऊपर

30-79 की उम्र के लोग ले सकते हैं पॉलिसी

यह योजना 30 से लेकर 79 वर्ष के लोगों के लिए उपलब्ध है. मिनिमम डेफरमेंट पीरियड 1 साल और अधिकतम 12 वर्ष है. मिनिमम वेस्टिंग ऐज 31 साल औैर मैक्सिमम वेस्टिंग ऐज 80 वर्ष रखी गई है. वेस्टिंग ऐज का अर्थ यह है कि आपको किस उम्र से एन्युइटी मिलनी शुरू हो जाएगी. नॉमिनी, डेथ बेनिफिट को या तो एकमुश्त पा सकता है या फिर 5, 10 या 15 साल तक किस्तों में पा सकता है. या फिर डेथ बेनिफिट अमाउंट का इस्तेमाल LIC से इमीडिएट एन्युइटी खरीदने के लिए कर सकता है. यह एन्युइटी पॉलिसीधारक की मृत्यु की तारीख से ही प्रभावी हो जाएगी.

सरेंडर वैल्यू और लोन की डिटेल

पॉलिसी टर्म के दौरान LIC न्यू जीवन शांति प्लान को कभी भी सरेंडर किया जा सकता है. इस प्लान पर लोन भी लिया जा सकता है. लोन पॉलिसी के 3 महीने पूरे होने के बाद या फिर फ्री लुक पीरियड के खत्म होने के बाद मिलेगा. लोन डेफरमेंट पीरियड के दौरान या डेफरमेंट पीरियड पूरा होने के बाद लिए जा सकने की सुविधा है. जॉइंट प्लान में लोन प्राइमरी होल्डर ले सकता है. प्राइमरी होल्डर की गैरमौजूदगी में ही सेकंडरी होल्डर लोन ले सकेगा.

फ्री लुक पीरियड

अगर पॉलिसीधारक इस पेंशन प्लान के नियम व शर्तों से संतुष्ट नहीं है तो वह पॉलिसी को, पॉलिसी बॉन्ड प्राप्त होने के 15 दिनों के अंदर LIC को वापस कर सकता है. अगर पॉलिसी ऑनलाइन ली है तो ऐसा 30 दिनों के अंदर किया जा सकता है. लेकिन साथ में आपत्ति के कारण भी बताने होंगे. LIC, पॉलिसी लेने वाले को स्टांप ड्यूटी चार्ज और अगर कोई पेंशन किस्त प्राप्त हो गई है तो वो काटकर प्रीमियम वापस कर देगी.

आत्महत्या के मामले में क्या नियम

LIC न्यू जीवन शांति प्लान के तहत पॉलिसी पर जोखिम शुरू होने के एक साल के अंदर अगर पॉलिसीहोल्डर आत्महत्या कर लेता है तो पॉलिसी वॉइड हो जाएगी. भुगतान किए जा चुके प्रीमियम या सरेंडर वैल्यू के 80 प्रतिशत से ज्यादा लौटा दिया जाएगा. इस प्लान के बारे में अधिक जानकारी भारतीय जीवन बीमा निगम की आधिकारिक वेबसाइट पर या फिर निकटतम ब्रांच ऑफिस जाकर पाई जा सकती है.