तेजाब हमले की शिकार लक्ष्मी की बेटी पीहू अपनी माँ का चेहरा देखकर मुस्कुरा उठी

By Pooja Goel
November 17, 2015, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:19:24 GMT+0000
तेजाब हमले की शिकार लक्ष्मी की बेटी पीहू अपनी माँ का चेहरा देखकर मुस्कुरा उठी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

लक्ष्मी तेजाब हमले की एक पीडि़ता और उत्तरजीवी हैं। उनके बारे में इससे भी महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि वे एक टेलीविजन प्रस्तोता और स्टाॅप एसिड अटैक के जरिये एक जानीमानी प्रचारक के रूप में भी विभिन्न अभियानों का सफल संचालन कर रही हैं। वर्ष 2005 में मात्र 16 वर्ष की आयु में एक 32 वर्षीय व्यक्ति ने उनपर तेजाब से उस समय हमला कर दिया था जब उन्होंने उसके द्वारा पेश किये गए प्रेेम के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था।

image


इस हमले के बाद लक्ष्मी को एक सामाजिक कार्यकर्ता आलोक दीक्षित के साथ प्रेम हो गया। इन दोनों ने समाज को चुनौती देने के उद्देश्य से शादी न करने का फैसला करते हुए लिव-इन रिलेशनशिप में एक दूसरे के साथ रहने का फैसला किया। लक्ष्मी अब माँ बन चुकी हैं। सात महीने पहले उन्होंने एक बेटी पीहू को जन्म दिया। दैनिक भास्कर को दिये गए एक साक्षात्कार की याद ताजा करते हुए आलोक बताते हैं कि लक्ष्मी गर्भावस्था के दौरान इस बात को लेकर काफी चिंतित थीं कि उनका होने वाला बच्चा अपनी माँ को देखकर कहीं डर तो नहीं जाएगा लेकिन अब पीहू जब भी अपनी माँ को देखती है तो वह डरने की बजाय मुस्कुराती है।

image


लक्ष्मी इससे पहले भी तेजाब हमलों पर अंकुश लगाने के लिये युद्धस्तर पर विभिन्न अभियानों का संचालन करती रही हैं। उन्होंने देशभर में तेजाब की बिक्री पर रोक लगवाने की वकालत करते हुए 27 हजार लोगों के हस्ताक्षर युक्त एक याचिका भी तैयार की थी जिसके चलते सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और सभी राज्य सरकारों को तेजाब की बिक्री को विनियमित करने का आदेश दिया था। इसके बाद ही संसद ने तेजाब हमलों से संबंधित मुकदमों की पैरवी को तेज करने की दिशा में अपने कदम बढ़ाए थे। वर्ष 2014 में लक्ष्मी को अमेरिका की प्रथम महिला मिशेल ओबामा ने इंटरनेश्नल वोमेन आॅफ करेज पुरस्कार से नवाजा। इसके अलावा लक्ष्मी को एनडीटीवी इंडियन आॅफ द इयर भी चुना जा चुका है।

image


लक्ष्मी फिलहाल उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अगले महीने शुरू होने वाले अपने शिरोज़ कैफे की तैयारियों में व्यस्त हैं। पीहू का अधिकतर समय स्टाॅप एसिड अटैक अभियान के स्वयंसेवकों के साथ गुजरता है जिनमें से अधिकतर स्वयं तेजाब हमलों की पीडि़ता हैं। उसकी माँ जहां भी जाती है वह उसके साथ ही जाती है और शायद उसे मन में यह पता होगा कि उसके माता-पिता उसके जीवन में आने वाले सबसे खूबसूरत इंसान हैं।

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close