Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

अमेरिका की सड़कों को सुरक्षित बना रहा है बेंगलुरू का तीन साल पुराना स्टार्टअप

अमेरिका की सड़कों को सुरक्षित बना रहा है बेंगलुरू का तीन साल पुराना स्टार्टअप

Tuesday March 27, 2018 , 8 min Read

लाइटमैट्रिक्स एक वीडियो एनालिटिक्स कंपनी है जो परिवहन बेड़े, वाहन बीमा कंपनियों और राइड शेयरिंग करने वाली कंपनियों की मदद करती है। लाइटमैट्रिक्स इन कंपनियों को सुरक्षा को बेहतर बनाने और दक्षता बढ़ाने के लिए ड्राइविंग व्यवहार समझने में मदद करती है। ये बेंगलुरु स्थित स्टार्टअप है जिसकी सैन जोस, कैलिफोर्निया में एक सहायक कंपनी है।

टीम LightMetrics

टीम LightMetrics


राइड व्यू की बात करें तो ये एंड्रॉइड, आईओएस और कस्टम एसडीके में भी उपलब्ध है। ये फ्लीट मैनेजमेंट और वाहन बीमा के लिए ड्राइविंग मैनेजमेंट के उद्देश्य से ऑफर किया जाता है। ये समाधान सुरक्षा और अनुपालन के मामले में ड्राइवरों के लिए महत्वपूर्ण इंडीकेटर्स देने में सहायता करता है। इसके जरिए ड्राइवर्स को सही ढंग से प्रशिक्षित किया जाता है और साथ ही साथ रियल टाइम एडवांस ड्राइवर सहायता सिस्टम (ADAS) चेतावनियों के माध्यम से दुर्घटना में कमी लाने में मदद मिलती है।

भारत सहिता दुनिया भर में हर साल लाखों की संख्या में लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाते हैं। ज्यादातर सड़क दुर्घटनाएं लोगों की लापरवाही के चलते ही होती है। कुछ लोग यातायात के नियमों से परिचित नहीं हैं तो कुछ परिचित होना नहीं चाहते। हालांकि बेंगलुरू का ये तीन साल पुराना स्टार्टअप अमेरिका की सड़कों को लोगों के लिए सुरक्षित बना रहा है।

लाइटमैट्रिक्स की कहानी फरवरी 2015 में शुरू हुई थी। तब छह तकनीकी विशेषज्ञों ने पांच साल तक नोकिया रिसर्च पर एक साथ काम किया था। इन लोगों ने मिलकर 90 से अधिक पेटेंट तैयार किए थे और लाखों फोन बेचने में मदद की थी। हालांकि वे जमीन पर वास्तविक चुनौतियों को हल करने के लिए कंप्यूटर दृष्टि, मशीन सीखने, कैमरा टेक्नॉलोजी और सिग्नल प्रोसेसिंग में अपनी संयुक्त विशेषज्ञता का उपयोग करना चाहते थे। बस इसी को ध्यान में रखते हुए सौमिक उकिल, रवि शिनॉय, मिथून उलिययार, गुरुराज पतुरिया, पुष्कर पुत्तवार्धन और कृष्णा एजी ने लाइटमैट्रिक्स को एक साथ शुरू करने का फैसला लिया।

लाइटमैट्रिक्स एक वीडियो एनालिटिक्स कंपनी है जो परिवहन बेड़े, वाहन बीमा कंपनियों और राइड शेयरिंग करने वाली कंपनियों की मदद करती है। लाइटमैट्रिक्स इन कंपनियों को सुरक्षा को बेहतर बनाने और दक्षता बढ़ाने के लिए ड्राइविंग व्यवहार समझने में मदद करती है। ये बेंगलुरु स्थित स्टार्टअप है जिसकी सैन जोस, कैलिफोर्निया में एक सहायक कंपनी है।

वीडियो एनालिटिक्स के साथ सुरक्षित और कुशल ड्राइविंग

लाइटमैट्रिक्स में सह-संस्थापक और बिजनेस डेवलपमेंट (उत्तरी अमेरिका) के प्रमुख कृष्णा ए जी का कहना है कि, "पहली बार उद्यमी होने के नाते, हमारे लिए सब कुछ एक चुनौती था। जो कुछ भी हम सोचते थे कि आसान होगा लेकिन वो वास्तव में एक चुनौती ही है।" कृष्णा कहते हैं कि "हम ये कैसे सुनिश्चित करते हैं कि हम जिस समस्या को हल कर रहे हैं वह बाजार के लिए प्रासंगिक है? यह देखते हुए कि विदेशों में बाजार हमारे उत्पादों और समाधानों के प्रति अधिक ग्रहणशील है, हम वहां ग्राहकों तक कैसे पहुंच सकते हैं? ये कुछ प्रश्न थे जो हम बोर्डरूम की बैठकों में और कॉफी ब्रेक के दौरान सोचते थे।''

अपने तीन सालों में उन्होंने सेल्फ-ड्राइविंग रेंटल मार्केट और ट्रकिंग कंपनियों के उद्देश्य से दो प्रमुख चीजें तैयार की हैं। पहला है राइड व्यू, जोकि एक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट (एसडीके) है जिससे ऑन-डिवाइस विजुअल एनालिटिक्स पर रियल टाइम का पता चलता है। इस डिवाइस के जरिए आपका स्मार्टफोन एक स्मार्ट डैश कैमरा में तब्दील हो जाता है। इसके अलावा राइडकैम एक सस्ता डैशकैम है जो कि मोबाइल डिवाइस की कंप्यूटिंग पावर के जरिए ही चलता है।

राइड व्यू की बात करें तो ये एंड्रॉइड, आईओएस और कस्टम एसडीके में भी उपलब्ध है। ये फ्लीट मैनेजमेंट और वाहन बीमा के लिए ड्राइविंग मैनेजमेंट के उद्देश्य से ऑफर किया जाता है। ये समाधान सुरक्षा और अनुपालन के मामले में ड्राइवरों के लिए महत्वपूर्ण इंडीकेटर्स देने में सहायता करता है। इसके जरिए ड्राइवर्स को सही ढंग से प्रशिक्षित किया जाता है और साथ ही साथ रियल टाइम एडवांस ड्राइवर सहायता सिस्टम (ADAS) चेतावनियों के माध्यम से दुर्घटना में कमी लाने में मदद मिलती है। यह सड़कों पर रियल टाइम क्राउड को मैप के जरिए देखने में मदद करता है। बीमा अंडरराइटरों के जोखिम को बेहतर से समझते हैं और सकारात्मक चालक व्यवहार संशोधन के माध्यम से जोखिम को कम करने में मदद करता है।

दूसरी ओर, राइडकैम एक क्रॉस-प्लेटफार्म से जुड़ा हुआ डैशकैम सोल्यूशन है। ये आस-पास के मोबाइल उपकरणों के साथ स्वचालित रूप से जुड़कर रियल-टाइम में 720p वीडियो स्ट्रीम करता है। एडवांस ड्राइवर सहायता सिस्टम नोटिफिकेशन के लिए राइडव्यू एसडीके (सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट) और इवेंट वीडियो सहित ड्राइविंग व्यवहार विश्लेषण के लिए डिवाइस संचालित करता है।

इस प्रोडक्ट की जर्नी को लेकर ग्राहकों का क्या कहना है?

राइडव्यू लाइटमैट्रिक्स का पहला प्रोडक्ट था। जिसे जब जारी किया गया तब बाजार प्रतिक्रिया ने उन्हें राइडकैम लॉन्च करने के लिए प्रेरित किया। कृष्णा कहते हैं, "दो साल पहले तक, भारतीय बाजार राइड व्यू जैसे किसी उत्पाद के लिए तैयार नहीं था। इसलिए हमें पता था कि हमें या तो यूरोपीय या अमेरिकी बाजार पर ध्यान देना होगा। और हमने अमेरिका पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया, क्योंकि यह तकनीक-अनुकूल बाजार के रूप में मामूली बढ़त थी। भावी ग्राहकों के साथ हमारी बातचीत के दौरान हमें एहसास हुआ कि बड़े और भारी शुल्क वाले वाहन चालकों ने अपने स्मार्टफोन को डैशकैम के रूप में इस्तेमाल करने को पसंद नहीं किया है। वे एक मजबूत उपकरण चाहते थे जो स्वतंत्र रूप से काम कर सके। इसने हमारे दूसरे प्रोडक्ट राइडकैम को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हमने जो अनिवार्य रूप से किया था वह था कि हम अभी भी एक स्मार्टफोन या टैब जैसी एक उपलब्ध डिवाइस की कंप्यूटिंग पावर का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन अब कैमरे को बाहर लगा दिया।"

कृष्णा कहते हैं कि एक साल पहले "हम व्यापक बीटा पायलट चला रहे थे। हमारे संभावित और मौजूदा साझेदार कई महीनों के लिए शुरुआती प्रोटोटाइप का उपयोग कर रहे थे। एफसीसी (फेडरल कम्युनिकेशंस कमिशन) प्रमाणीकरण के साथ, राइडकैम अमेरिका में व्यावसायिक रूप से फरवरी 2018 से शुरू हुआ। बेड़े मालिकों ने पहले से ही ड्राइवरों के लिए उत्पादकता उपकरण के रूप में टैबलेट्स और स्मार्टफोन में निवेश हुआ है और संघीय नियमों का पालन किया है।"

सही फ़ोकस के साथ अवसर का इस्तेमाल

कृष्णा के अनुसार, वर्तमान में टीम का सबसे बड़ा फोकस क्षेत्र अमेरिकी बाजार में व्यवसाय चलाना है। वे कहते हैं कि "हम अमेरिका में वर्तमान और भावी ग्राहकों और भागीदारों के साथ हमारे कार्यक्रमों को मजबूत करेंगे। दिलचस्प बात यह है कि लाइटमैट्रिक्स के लिए यूरोप से बहुत रिक्योस्ट आ रही हैं। इसलिए, हम इनके लिए भी काम करेंगे।" भारत में बेस्ड होने के नाते, क्या भारतीय बाजार में उनके पास कुछ भी है? इस पर टीम का कहना है कि वे शीघ्र ही काम करेंगे। जैसा कि संभावनाएं मौजूदा भारतीय बाजार में मौजूद हैं हम स्थानीय जरूरतों के अनुरूप उत्पाद विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं।

समर्थन और सत्यापन

सॉफ्टवेयर कंपनी होने के कारण, लाइटमैट्रिक्स राइडकैम के लिए हार्डवेयर का निर्माण नहीं करता है। वे विनिर्माण भागीदारों के साथ काम करते हैं।इस समय उन्होंने भारत में क्वालकॉम डिजाइन के सेकेंड साइकिल के लिए आवेदन किया है- चैलेंज 2017 (QDI-C 2017) जिसमें इन्हें छः कंपनियों को चुने जाने वाली सूची में शामिल किया गया था। लाइटमैट्रिक्स फिनाले के लिए रन-अप के हिस्से के रूप में सलाह और प्रौद्योगिकी समर्थन प्राप्त करने वाले छह स्टार्टअप में से एक है। कृष्ण कहते हैं, "कैमरा रेफरेंस डिजाइन तैयार करने के लिए हमारे पास अवधारणा थी और वास्तविक हार्डवेयर उत्पाद - संदर्भ कैमरा बनाने की आशा थी। QDI-C 2017 हमारे लिए सही समय पर हुआ।"

कृष्णा कहते हैं, "हार्डवेयर मोर्चे पर, क्वालकॉम ने हमारे लिए कैमरे के संदर्भ डिजाइन को मान्य किया है। जो हार्डवेयर के साथ अपने विशाल अनुभव को देखते हुए इस तरह के सिस्टम को डिजाइन करने के लिए एक बड़ा सौदा है। सॉफ्टवेयर साइड पर, उन्होंने हमें एक विशेष चिपसेट के लिए हमारे एल्गोरिदम को विस्तृत जानकारी प्रदान की। हम अभी भी उनके साथ इस मोर्चे पर काम कर रहे हैं, यह सुनिश्चित करने की कोशिश करते हुए कि हम अपने हार्डवेयर से अधिकतम प्रदर्शन प्राप्त करें।"

उन्होंने कैमरा संदर्भ मॉडल के साथ एकीकरण के लिए Qualcomm® स्नैपड्रैगन ™ 820 मोबाइल प्लेटफॉर्म को अंतिम रूप दिया है। वे कहते हैं कि, "हम भविष्य बनना चाहते हैं। आने वाले समय में, हम और अधिक सुविधाओं को जोड़ने की योजना बना रहे हैं। हम चाहते हैं कि हमारे हार्डवेयर कम बिजली खपत के साथ उच्च कंप्यूटिंग का समर्थन करने में सक्षम हो, और यही कारण है कि एक उच्च-शक्ति प्रोसेसर जैसे स्नैपड्रैगन 820 हमारे लिए महत्वपूर्ण है।"

ऑटोमोबाइल और एआई-संचालित भविष्य

ऑटोमोबाइल उद्योग के बारे में बात करते हुए कहा जाता है कि भविष्य में कनेक्टेड वाहनों का भविष्य होना चाहिए। कृष्ण कहते हैं कि, "आज जो डेटा उत्पन्न होता है, उसमें आम तौर पर अनुमानित निदान के लिए उपयोग किया जाता है। ड्राइवरों को बेहतर बनाने के लिए काफी कुछ किया जा रहा है लेकिन कनेक्टेड ऑटोमोबाइल क्रांति क्या प्रस्तुत कर सकती है ये उसकी सतह को मुश्किल से छू रहा है।

ये भी पढ़ें: हैंडमेड प्रोडक्ट्स बेचने के साथ-साथ कलाकारों को मंच भी दे रहा ये स्टार्टअप