अगस्त 2023 में ग्रोस GST कलेक्शन 1,59,069 करोड़ रुपये रहा, वर्ष-दर-वर्ष 11 % की वृद्धि

अगस्त, 2023 के महीने के लिए राजस्व पिछले साल के इसी महीने में जीएसटी राजस्व की तुलना में 11 प्रतिशत अधिक है.

अगस्त 2023 में ग्रोस GST कलेक्शन 1,59,069 करोड़ रुपये रहा, वर्ष-दर-वर्ष 11 % की वृद्धि

Saturday September 02, 2023,

2 min Read

अगस्त, 2023 के दौरान ₹1,59,069 करोड़ का सकल जीएसटी राजस्व एकत्र (gross gst revenue collection) किया गया, जिसमें से सीजीएसटी ₹28,328 करोड़, एसजीएसटी ₹35,794 करोड़, आईजीएसटी ₹83,251 करोड़ (वस्तुओं के आयात पर एकत्र 43,550 करोड़ रुपये सहित) और उपकर ₹11,695 करोड़ (वस्तु के आयात पर एकत्र 1,016 करोड़ रुपये सहित) रहा.

सरकार ने आईजीएसटी से सीजीएसटी को 37,581 करोड़ रुपये और एसजीएसटी को 31,408 करोड़ रुपये का निपटान किया है. नियमित निपटान के बाद अगस्त, 2023 में केंद्र और राज्यों का कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 65,909 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 67,202 करोड़ रुपये है.

159069-crore-gross-gst-revenue-collected-during-august-2023-records-11pc-year-on-year-growth

अगस्त, 2023 के महीने के लिए राजस्व पिछले साल के इसी महीने में जीएसटी राजस्व की तुलना में 11 प्रतिशत अधिक है. माह के दौरान, वस्तुओं के आयात से राजस्व 3 प्रतिशत अधिक था और घरेलू लेन-देन (सेवाओं के आयात सहित) से राजस्व पिछले साल के इसी महीने के दौरान इन स्रोतों से प्राप्त राजस्व की तुलना में 14 प्रतिशत अधिक है.

इससे पहले, बीते जुलाई महीने में संग्रह किया गया सकल जीएसटी राजस्व 1,65,105 करोड़ रुपये रहा है, जिसमें सीजीएसटी 29,773 करोड़ रुपये, एसजीएसटी 37,623 करोड़ रुपये, आईजीएसटी 85,930 करोड़ रुपये (वस्तुओं के आयात पर एकत्र 41,239 करोड़ रुपये सहित) और उपकर 11,779 करोड़ रुपये है (वस्तुओं के आयात पर संग्रहित 840 करोड़ रुपये सहित) रहा है.

जून, 2023 में ग्रोस GST रेवेन्यू कलेक्शन 1,61,497 करोड़ रुपये रहा; साल-दर-साल 12% की वृद्धि दर्ज की गई. जिसमें से सीजीएसटी 31,013 करोड़ रुपये है, एसजीएसटी 38,292 करोड़ रुपये है, आईजीएसटी 80,292 करोड़ रुपये (माल के आयात पर एकत्र 39,035 करोड़ रुपये समेत) है और उपकर 11,900 करोड़ रुपये (माल के आयात पर एकत्र 1,028 करोड़ रुपये समेत) है. वहीं, माल एवं सेवा कर (GST) संग्रह मई में 12 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 1.57 लाख करोड़ रुपये रहा.

यह भी पढ़ें
ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म स्टार्टअप और MSMEs के लिए महत्वपूर्ण सहायक हो सकते हैं: डॉ. जितेंद्र सिंह